आवास विकास कॉलोनी में छात्र का संदिग्ध परिस्थितियों में फांसी के फंदे से लटका मिला शव, पुलिस जुटी जांच में

ऋषिकेश 31 मई। कोतवाली ऋषिकेश क्षेत्र अंतर्गत आवास विकास कॉलोनी में किराए पर रह रहे एक छात्र का संदिग्ध परिस्थितियों में मकान की तीसरी मंजिल पर स्थित कमरे में फांसी के फंदे से लटका हुआ शव मिला है।

प्रथम दृष्टया छात्र की मौत आत्महत्या प्रतीत होती हैं। उक्त छात्र एम्स ऋषिकेश में एमपीएच का कोर्स कर रहा था।पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। फिलहाल आत्महत्या के कारण स्पष्ट नहीं हो पाए हैं।

ऋषिकेश कोतवाली प्रभारी के आर पांडे ने बताया कि पुलिस को सूचना मिलती है कि आवास विकास कॉलोनी में रणसिंह  चौधरी के मकान में रहने वाले आदित्य उनियाल नाम का छात्र किराए पर रहता है। जो की मूल रूप से रोहिणी दिल्ली का रहने वाला है। जिसने अपने कमरे में पंखे से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है।

यह जानकारी उस समय लगी जब आदित्य ने अपने कमरे का बंद दरवाजा दोपहर तक नहीं खुला। सूचना मिलने के बाद तत्काल पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने शव को फांसी के फंदे से नीचे उतार कर कब्जे में लिया। पंचनामा भरने बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए दिया।

मौके पर पहुंची पुलिस ने बताया कि फिलहाल कमरे से कोई भी सुसाइड नोट बरामद नहीं हुआ है। घटना की जानकारी मृतक के परिजनों को दे दी गई है। आदित्य ने फांसी लगाकर आत्महत्या क्यों की है इसके स्पष्ट कारण अभी पता नहीं चले हैं।

पुलिस मामले की जांच में जुट गई है। जांच के बाद और पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मामले में अग्रिम कार्रवाई की जाएगी।

आवास विकास कॉलोनी में छात्र का संदिग्ध परिस्थितियों में फांसी के फंदे से लटका मिला शव,

ऋषिकेश 31 मई। कोतवाली ऋषिकेश क्षेत्र अंतर्गत आवास विकास कॉलोनी में किराए पर रह रहे एक छात्र का संदिग्ध परिस्थितियों में मकान की तीसरी मंजिल पर स्थित कमरे में फांसी के फंदे से लटका हुआ शव मिला है। प्रथम दृष्टया छात्र की मौत आत्महत्या प्रतीत होती हैं। उक्त छात्र एम्स ऋषिकेश में एमपीएच का कोर्स कर रहा था।पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। फिलहाल आत्महत्या के कारण स्पष्ट नहीं हो पाए हैं।

ऋषिकेश कोतवाली प्रभारी के आर पांडे ने बताया कि पुलिस को सूचना मिलती है कि आवास विकास कॉलोनी में रणसिंह  चौधरी के मकान में रहने वाले आदित्य उनियाल नाम का छात्र किराए पर रहता है। जो की मूल रूप से रोहिणी दिल्ली का रहने वाला है। जिसने अपने कमरे में पंखे से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है।

यह जानकारी उस समय लगी जब आदित्य ने अपने कमरे का बंद दरवाजा दोपहर तक नहीं खुला। सूचना मिलने के बाद तत्काल पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने शव को फांसी के फंदे से नीचे उतार कर कब्जे में लिया। पंचनामा भरने बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए दिया।

मौके पर पहुंची पुलिस ने बताया कि फिलहाल कमरे से कोई भी सुसाइड नोट बरामद नहीं हुआ है। घटना की जानकारी मृतक के परिजनों को दे दी गई है। आदित्य ने फांसी लगाकर आत्महत्या क्यों की है इसके स्पष्ट कारण अभी पता नहीं चले हैं। पुलिस मामले की जांच में जुट गई है। जांच के बाद और पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मामले में अग्रिम कार्रवाई की जाएगी।

स्कॉर्पियो की चपेट में आकर दो गाय हुई गंभीर रूप से घायल , हिंदू संगठनों में रोष, पुलिस चौकी का किया घेराव

ऋषिकेश 31 मई । ऋषिकेश एम्स मार्ग पर तेज गति से आ रही स्कार्पियो की टक्कर से दो गायों के गंभीर रूप से घायल हो जाने के बाद हिंदू संगठनों में तीब्र रोष उत्पन्न हो गया है। जिसके विरोध में हिंदू संगठनों ने एम्स में पुलिस चौकी का घेराव किया।

बुधवार कि सुबह एम्स चौकी प्रभारी मनवर सिंह नेगी ने बताया कि एम्स के बाहर तेज गति से आ रही स्कॉर्पियो की चपेट में आकर दो गाए घायल हो गई, जिसकी सूचना पर हिंदू संगठनों से जुड़े लोग काफी संख्या में एकत्रित हो गए। जिन्होंने स्कार्पियो चालक को घेर कर पुलिस के हवाले किया।

हिंदू संगठन से जुड़े लोगों की मांग थी, कि वह तत्काल दुर्घटना करने वाले स्कार्पियो चालक की गिरफ्तारी कर उसके विरूद्ध कार्रवाई करें। जिनका का कहना था कि स्कार्पियो चालक शराब के नशे में था। वही पुलिस का कहना है कि मामला उनके संज्ञान में है और वह जांच कर रहे हैं।

जी-20 सम्मेलन के दौरान विदेशी मेहमानों के लिए ऋषिकेश त्रिवेणी घाट पर गंगा आरती की तैयारियों को लेकर आयोजित हुई बैठक, अधिकारियों को युद्ध स्तर पर तैयारियों को पूर्ण करने के लिए किया निर्देशित

ऋषिकेश 31 मई। आगामी जून महा मे प्रस्तावित जी-20 की सम्मलेन के दौरान ऋषिकेश के त्रिवेणी घाट पर आयोजित होने वाली गंगा आरती में विदेशी मेहमानों की शिरकत की तैयारियों को लेकर आज नगर निगम सभागार में एक बैठक आयोजित की गई।

बताते चलें जी-20 सम्मेलन के दौरान सम्मेलन में भाग लेने के लिए आने वाले विदेशी मेहमानों की  ऋषिकेश के त्रिवेणी घाट पर गंगा आरती करवाए जाने को लेकर ऋषिकेश नगर निगम महापौर अनीता ममगांईं द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा गया था, जिसे प्रधानमंत्री कार्यालय ने गंभीरता से लेते हुए उत्तराखंड सरकार को आरती कराए जाने की संभावनाओं के मद्देनजर शासन को लिखा है।

जिसको लेकर कल मंगलवार की देर शाम  नोडल अधिकारी, नगर सचिव पंकज पांडे ने तमाम अधिकारियों के साथ स्थलीय निरीक्षण किया।

जिसके बाद आज  सभी व्यवस्थाओं को दुरुस्त करने के लिए नगर निगम सभागार में नगर निगम महापौर अनिता ममगांईं की अध्यक्षता और पंकज शर्मा के संचालन में सभी संबंधित अधिकारियों व शहर के प्रतिष्ठित व्यापारियों और नागरिकों के साथ एक बैठक का आयोजन किया गया। जिसके चलते ऋषिकेश त्रिवेणी घाट पर विदेशी मेहमानों के द्वारा की‌ जाने वाली गंगा आरती के दौरान विदेशी मेहमानों का भव्य स्वागत किस प्रकार किया जाए, ओर त्रिवेणी घाट सहित नगर की तमाम नालियों और सड़कों का भी निर्माण किया जाना है। जिसमें सभी अधिकारियों को निर्देशित करते हुए युद्ध स्तर पर 15 दिन के भीतर त्रिवेणी घाट पर जाने वाले सभी मुख्य मार्ग ओर आस्था पथ से संबंधित सभी सौंदर्यकरण , पथप्रकाश, और सभी आवश्यक निर्माण कार्य को पूरा करने के लिए निर्देश दिए गए है। जिसमें सभी कार्यों को तीन कैटेगरी में बाटकर प्लान ए ,प्लान बी और प्लान सी, मे व्यवस्थित किया गया है।

बैठक में कपिल गुप्ता ने सुझाव देते हुए  कहा कि जी-20 सम्मेलन में विदेशी मेहमानों के लिए जिस समय ऋषिकेश त्रिवेणी घाट पर गंगा आरती का आयोजन किया जा रहा है उस समय बरसात का मौसम अत्यधिक रहता है अतः पानी की निकासी व्यवस्था को भी सही रूप से दुरस्त किया जाए जिससे हमें किसी भी अव्यवस्था से शर्मिंदगी का सामना ना करना पड़े।,

जनार्दन कैरवान ने सुझाव देते हुए कहा कि इस दौरान सभी दुकानदारों और दिशा निर्देश के बोर्डो को संस्कृत भाषा में लिखा जाए।

तो वही पंकज गुप्ता और राकेश मियां ने आवारा पशुओ और बंदरों से भी ऋषिकेश को निजात दिलाने के लिए भी संज्ञान लेने के लिए बोला। इसी के साथ सभी व्यापारियों ने ऋषिकेश के मुख्य मार्गो से अतिक्रमण को स्वय हटाने में सहयोग करने के लिए भी आश्वासन दिया है।

बैठक में मुख्य रूप से उपजिलाधिकारी सौरभ अस्वाल, सहायक नगर आयुक्त रमेश सिंह रावत, अधिशासी अधिकारी दिनेश उनियाल, ऋषिकेश कोतवाल खुशीराम पांडे, ट्रैफिक स्पेक्टर रविकांत सेमवाल, चिकित्सा अधीक्षक पीसी चंदोला, जल संस्थान अधिशासी अभियंता अनिल नेगी, विद्युत विभाग अधिशासी अभियंता शक्ति प्रसाद, सिंचाई विभाग एसडीओ अनुभव नौटियाल , लोक निर्माण विभाग तथा एमडीडीए के अधिकारी , विजय बडोनी, विपिन पंत, गोविंद अग्रवाल ,बृजेश शर्मा, हंसवर्धन शर्मा, विनय सारस्वत, राजेंद्र  पांडे, विनोद शर्मा, राहुल शर्मा ,विनय उनियाल,  ज्योति सजवान , संजय व्यास, श्रवण जैन,पवन शर्मा आदि मौजूद थे।

आंदोलनरत कुश्ती पहलवान सरकार से नाराज होकर अपने मेडलो को गंगा में विसर्जित करने पहुंचे , गंगा सभा ने किया विरोध

30 मई। कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह पर केस दर्ज होने के बावजूद भी गिरफ्तारी ना होने से नाराज  आंदोलनरत भारतीय पहलवान दिल्ली से निकलकर हरिद्वार पहुंचे। जहां उन्होंने विरोध स्वरूप अपने मेडल गंगा में विसर्जित करने हरकी पैड़ी पहुंचे।

हालांकि गंगा सभा के विरोध पर सभी पहलवान हर की पैड़ी से सटे नाई सोता घाट पहुंचे। जहा पहले से पहुंचे किसान नेता नरेश टिकैत का भी उनको साथ मिला। हरिद्वार पहुंचे आंदोलनकारी पहलवानों के जत्थे में महिला पहलवान साक्षी मलिक, संगीता फोगाट और विनेश फोगाट सहित अन्य खिलाड़ी शामिल थे साथ ही उनके समर्थन में कई लोग मौजूद रहे। पहलवानों के अचानक हरिद्वार पहुंचने से उत्तराखंड की राजनीति में भी सरगर्मी तेज हो गई।

दूसरी ओर हर की पैड़ी की कार्यकारी संस्था श्री गंगा सभा ने वहां पहुंचे पहलवानों का विरोध किया। जिसके बाद सभी पहलवान नाई सोता घाट पहुंचे।

वहीं, किसान नेता नरेश टिकैत भी हरिद्वार पहुंच गए हैं। उन्होंने पहलवानों से मुलाकात की और सरकार को घेरा। उन्होंने कहा कि पहलवान और उनके मेडल तिरंगे की शान  है।

बताते चलें कि, कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह पर पॉक्सो एक्ट समेत कई धाराओं में केस दर्ज होने के बाद भी उनकी गिरफ्तारी न होने पर महिला पहलवान आंदोलनरत हैं। अब उन्होंने अपने मेडल को गंगा में विसर्जित करने का ऐलान किया है। इतना ही नहीं पहलवान दिल्ली से मेडल लेकर हरिद्वार पहुंच चुके हैं। उन्होंने हरिद्वार में गंगा में अपने पदकों का विसर्जित करने का ऐलान किया है।

गंगा सभा के अध्यक्ष नितिन गौतम ने कहा है कि हरकी पैड़ी लाखों करोड़ों हिंदुओं की आस्था का स्थल है। यहां पर किसी भी राजनीतिक मुद्दे को तूल देने के लिए कोई भी कृत्य बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पहलवानों को यहां मेडल विसर्जन नहीं करने दिया जाएगा। उनसे निवेदन है कि वो इस तरह का कृत्य हरकी पैड़ी पर न करें।

नगर निगम महापौर के पत्र को प्रधानमंत्री कार्यालय ने लिया गंभीरता से जून माह में ‌ आयोजित ‌जी-20 सम्मेलन के दौरान विदेशी मेहमान त्रिवेणी घाट पर करेंगे, गंगा आरती सम्मेलन के नोडल अधिकारी ने त्रिवेणी घाट सहित सड़कों का किया अधिकारियों के संग निरीक्षण 15 दिन में किए जाएंगे सभी निर्माण कार्य -पंकज पांडे

ऋषिकेश ,30 मई।  आगामी 25 से 26 जून को ऋषिकेश में आयोजित होने वाली जी-20 की दूसरी बैठक के दौरान ऋषिकेश के गंगा घाट पर आयोजित होने वाली आरती में विदेशी मेहमानों की मेजबानी को लेकर मंगलवार की देर शाम को बैठक के नोडल अधिकारी, नगर सचिव पंकज पांडे ने तमाम अधिकारियों के साथ स्थलीय निरीक्षण किया।15 दिन में सभी सौंदरीयकरण और निर्माण कार्य किए जाने के अधिकारियों को दिए निर्देश।

आगामी जून माह में ऋषिकेश में आयोजित जी-20 सम्मेलन की तैयारी को लेकर मंगलवार की देर शाम को जी -20 सम्मेलन के नोडल अधिकारी ने ऋषिकेश के त्रिवेणी घाट का स्थलीय निरीक्षण किया जिसके बाद पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने बताया कि नगर निगम महापौर अनिता ममगांईं द्वारा जी-20 सम्मेलन के दौरान सम्मेलन में भाग लेने के लिए आने वाले विदेशी मेहमानों के आरती की ऋषिकेश के त्रिवेणी घाट पर करवाए जाने को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा गया था, जिसे प्रधानमंत्री कार्यालय ने गंभीरता से लेते हुए उत्तराखंड सरकार को आरती कराए जाने की संभावनाओं के मद्देनजर शासन को लिखा है।

जिसके चलते ऋषिकेश त्रिवेणी घाट पर विदेशी मेहमानों के द्वारा की‌ जाने वाली गंगा आरती के दौरान विदेशी मेहमानों का भव्य स्वागत किस प्रकार किया जाए, जिसके चलते त्रिवेणी घाट सहित नगर की तमाम नालियों और सड़कों का भी निर्माण किया जाना है। यह सभी कार्य आगामी 15 दिनों में पूर्ण किए जाएंगे। जिसकी तैयारियां सभी विभागों द्वारा की जानी है।

निरीक्षण के दौरान ऋषिकेश के उप जिलाधिकारी सौरभ असवाल, राहुल कुमार‌ मुख्य नगर आयुक्त, राम जी शरण, नगर निगम महापौर अनीता ममगांईं ,तहसीलदार डॉ. अमृता शर्मा, जल संस्थान के अधिशासी अभियंता हरीश बंसल, धीरेंद्र कुमार , पुलिस क्षेत्राधिकारी संदीप नेगी, अधीक्षण अभियंता पी डब्लू डी अनिल पांगती, विद्युत विभाग के अधिशासी अभियंता शक्ति सिंह ,सहायक नगर आयुक्त आयुक्त रमेश सिंह रावत, अधिशासी अभियंता दिनेश उनियाल , जेई तरुण लखेड़ा, महेंद्र सिंह, ऋषिकेश कोतवाली प्रभारी निरीक्षक खुशीराम पांडे सहित तमाम विभागों के अधिकारी मौजूद थे।

मीडियाकर्मी समाज के दर्पण के साथ-साथ सजग प्रहरी भी है :अनिता ममगाई हिंदी पत्रकारिता दिवस पर महापौर ने मीडियाकर्मियों को बधाई देते हुए स्वस्थ पत्रकारिता के जरिए लोकतंत्र को सशक्त बनाने का किया आह्वान

ऋषिकेश 30 मई। – नगर निगम महापौर अनिता ममगाई ने कहा कि पत्रकार समाज के सजग प्रहरी हैं।उत्तराखंड राज्य निर्माण में कलम के सिपाहियों का अतुलनीय योगदान रहा है।

मंगलवार को हिंदी पत्रकारिता दिवस पर शहर के तमाम पत्रकारों को बधाई एवं शुभकामनाएं देते हुए कहा कि लोकतंत्र के चौथेे स्तम्भ के रूप में प्रिंट एवं इलैक्ट्रोनिक मीडिया देश की राजनीतिक, आर्थिक, सामाजिक, सांस्कृतिक आदि विभिन्न क्षेत्रों में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है। हिन्दी पत्र-पत्रिकाओं ने समाज में जन जागरूकता के प्रसार में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

उहोने कहा  कि ,उत्तराखण्ड में भी हिन्दी पत्रकारिता का स्वर्णिम इतिहास रहा है।उन्होंने कहा है कि लोकतंत्र को सुदृढ़ और संपन्न करने का कार्य निष्पक्ष पत्रकारिता के जरिए ही होता है। उन्होंने कहा कि पत्रकारिता लोगों को सूचना सम्पन्न ही नहीं करती बल्कि नागरिकों को उनके अधिकारों और कर्तव्यों के प्रति जागरूक भी करती है।

पत्रकारिता दिवस पर उन्होंने स्वस्थ पत्रकारिता के जरिए लोकतंत्र को सशक्त करते उसमें सभी की समान भागीदारी के लिए कार्य करने का भी आह्वान किया ।

ऋषिकेश प्रेस क्लब में हिंदी पत्रकारिता दिवस पर आयोजित हुई गोष्ठी,  वर्तमान चुनौतियों के बीच जन सरोकार की पत्रकारिता को लेकर आगे बढ़ने का लेना होगा संकल्प: हरीश तिवारी  सोशल मीडिया समेत तमाम माध्यमों के जरिए हो रही, गैरजिम्मेदारी की पत्रकारिता चिंतनीय विषय: विक्रम सिंह वर्तमान में पत्रकारिता के मूल्यों को बचाए रखना सबसे बड़ी चुनौती : अनिल शर्मा  पत्रकारिता का उपयोग व्यापक समाज हित में किया जाए: मनोहर काला 

ऋषिकेश,30म‌ई‌ । हिंदी पत्रकारिता दिवस पर ऋषिकेश प्रेस क्लब में आयोजित विचार गोष्ठी में पत्रकारों ने वर्तमान चुनौतियों के बीच जन सरोकार की पत्रकारिता को लेकर आगे बढ़ने का संकल्प लिया।

ऋषिकेश प्रेस क्लब में आयोजित मंगलवार को हिंदी पत्रकारिता दिवस पर पत्रकारिता में वर्तमान की चुनौती और नई पीढ़ी की पत्रकारिता विषय पर विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया। साथ ही इस बात पर भी चर्चा की गई थी संस्थानों में होते व्यवसायीकरण के बीच स्वस्थ एवं इमानदारी पूर्वक पत्रकारिता चुनौतीपूर्ण बनता जा रहा है जिसको लेकर नई पीढ़ी की इस व्यवसायीकरण की अंधी दौड़ में किस तरह एक स्वस्थ और इमानदारी पूर्वक पत्रकारिता को आगे बढ़ाने का कार्य करें।

इस अवसर पर वरिष्ठ पत्रकार अनिल शर्मा ने कहा कि वर्तमान में पत्रकारिता के मूल्यों को बचाए रखना सबसे बड़ी चुनौती है। उन्होंने कहा कि आज भी लोकतंत्र में पत्रकारिता को चौथे स्तंभ के रूप में देखा जाता है, इसका बड़ा श्रेय मूल्य और सिद्धांतों पर आधारित पत्रकारिता को जाता है।

प्रेस क्लब के संरक्षक विक्रम सिंह व हरीश तिवारी ने वर्तमान में सोशल मीडिया के तमाम माध्यमों के जरिए हो रही, गैरजिम्मेदारी की पत्रकारिता पर चिंता जाहिर की। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया कई मायनों में मीडिया के रूप में बेहतर भूमिका निभा रहा है, मगर यह तभी संभव है। जब इसका इस्तेमाल जिम्मेदारी के साथ किया जाए। आज मीडिया हाउस में बढती व्यवसाईकता ने कुछ हद तक इसे दूषित किए जाने का कार्य भी किया है। जिसके कारण इस क्षेत्र में तेजी के साथ क्लाइमैक्स के चलते कुछ लोगों ने इसे भी बदनाम किया है। जिसके परिणाम सभी के सामने नए पत्रकारों को इस प्रकार की हरकतों से बचना चाहिए। तभी हम लोकतंत्र के चौथे स्तंभ के रूप में अपने आप को इस क्षेत्र में कामयाबी दिला पाएंगे।

क्लब के अध्यक्ष आशीष डोभाल व पूर्व अध्यक्ष मनोहर काला ने मीडिया के बदलते स्वरूप पर विचार व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि पत्रकारिता का उपयोग व्यापक समाज हित में किया जाना चाहिए।

प्रेस क्लब के महासचिव दुर्गा नौटियाल के संचालन में चले कार्यक्रम में राजीव खत्री, मनोज रौतेला, अलोक पंवार, विनय पांडेय, रजनीश कोहली, रणवीर सिंह, राव राशिद, हरीश भट्ट, मनोज राणा,  बसंत कश्यप, विनीता खुराना, पंकज कौशल, ललित शर्मा, मनीष अग्रवाल आदि मौजूद रहे।

देवभूमि ऋषिकेश में गंगा दशहरा पर्व पर आस्था का उमड़ा सैलाब  देशभर से पहुंचे श्रद्धालुओं ने लगाई हर हर गंगा के उद्वोषों के साथ गंगा में डुबकी , साथ ही किया दान पुण्य 

ऋषिकेश, 30 मई ‌।गंगा दशहरा के‌‌ पर्व पर देवभूमि ऋषिकेश में आस्था का सैलाब उमड़ पड़ा।देशभर से पहुंचे, श्रद्वालुओं ने हर हर गंगा के उद्वोषों के साथ गंगा में डुबकी लगाई। जिनकी सुरक्षा व्यवस्था को लेकर पुलिस त्रिवेणी घाट से लेकर लक्ष्मण झूला तक सभी घाटों के‌ चप्पे-चप्पे पर तैनात थी।

मंंगलवार को गंगा दशहरे के पावन पर्व के मौके पर ऋषिकेश, मुनिकीरेती, लक्ष्मण झूला और स्वर्गाश्रम क्षेत्र में बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने गंगा में डुबकी लगाई और जरूरमंदों को दान कर पुण्य भी कमाया। त्रिवेणी घाट में  सुबह से ही स्थानीय श्रद्धालु स्नान के लिए पहुंचने लगे थे।

वर्तमान में चारधाम यात्रा को लेकर अन्य प्रांत से भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु यहां आए हुए हैं।श्रद्धालुओं ने गंगा तट पर विधिवत पूजा अर्चना के बाद गंगा में डुबकी लगाई। नजदीकी क्षेत्र मुनिकीरेती, लक्ष्मण झूला और स्वर्गाश्रम क्षेत्र में बड़ी संख्या में श्रद्धालु तीर्थाटन के लिए पहुंचे थे। सभी क्षेत्रों में बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं की भारी भीड़ नजर आई। दोपहर 10 बजे के करीब हरिद्वार पहुंचने वाले श्रद्धालु बड़ी संख्या में ऋषिकेश भी घूमने आए। जिस कारण यहां मंगलवार को ज्यादा भीड़ बढ़ गई। गंगा दशहरा पर दान पुण्य का भी काफी महत्व है। घाटों पर तीर्थ पुरोहित श्रद्धालुओं को पूजा अर्चना करा रहे हैं। यहां गरीबों को विभिन्न संस्थाओं की ओर से भोजन प्रसाद वितरित किया गया। यातायात पुलिस की ओर से भारी मालवाहक वाहनों को सुबह पांच बजे से रात्रि दस बजे तक नगर में प्रवेश प्रतिबंधित किया गया था। सिर्फ यात्रा वाहनों को ही मुख्य मार्ग से यात्रा मार्ग पर जाने की अनुमति थी। ऋषिकेश आने वाले हरिद्वार बाईपास मार्ग, नीलकंठ बाईपास मार्ग, नटराज चौक, तपोवन, भद्रकाली मार्ग सभी में यातायात धीमी गति से संचालित हुआ।

नगर कोतवाल प्रभारी खुशीराम पांडे के नेतृत्व में गंगा स्नान करने आने वाले श्रद्धालुओं की सुरक्षा के लिए सभी घाटों के चप्पे-चप्पे पर जहां पुलिस बल तैनात किया गया था वही जल पुलिस की भी सुरक्षा व्यवस्था की दृष्टि से तैनात की गई थी।

नाबालिग छात्रा को भगा ले जाने पर लोगों का आक्रोश सड़कों पर फूटा,  – घटना को अंजाम देने वाले समुदाय के 42 दुकानदारों ने रातों रात छोड़ा शहर

ऋषिकेश । एक नाबालिग छात्रा को दो युवको द्वारा भगाकर ले जाने के मामला तूल पकड़ता जा रहा है।

उत्‍तरकाशी के पुरोला में नगर पंचायत क्षेत्र अंतर्गत हुई इस घटना को लेकर लोगों का आक्रोश सोमवार को सड़कों पर फूट पड़ा।

सूत्रों के अनुसार दूसरे समुदाय के 42 दुकानदार रातोंरात शहर छोड़कर भाग गए। जिसके विरोध में दूरदराज के गांवों समेत नगर पंचायत क्षेत्र के युवाओं महिलाओं, व्यापारियों, भाजपा एवं आरएसएस संगठन के कार्यकर्ताओं ने बाजार में जुलूस निकाला।

मुख्य बाजार में धरना प्रदर्शन व नारेबाजी कर समुदाय विशेष (मुस्लिम समुदाय) के लोगों को बाजार से दुकानें खाली करने की चेतावनी दी। भविष्य में इस प्रकार की घटनाओं की पुनरावृति न हो तथा शांतिपूर्ण माहौल बना रहे को लेकर एक बैठक भी की गई। साथ ही राज्यपाल को ज्ञापन भेजा गया।

सोमवार को घटना से आक्रोशित लोग गांव -गांव से ढोल व नगाड़ों के साथ मोरी बैंड पर एकत्रित हुए। जो की कोर्ट रोड, मोरी रोड, कुमोला रोड, मंदिर मार्ग होते हुए मुख्य बाजार व तहसील परिसर तक जुलूस निकाला।

एसडीएम देवानंद शर्मा के माध्यम से राज्यपाल को ज्ञापन भेज समुदाय विशेष के अपराधी किस्म के व्यवसायियों को तत्काल हटाने की मांग की।

घटना के विरोध में सोमवार को सुबह से ही नगर पंचायत क्षेत्र की तमाम दुकानें होटल और सभी व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रहे।

बता दें कि शुक्रवार को समुदाय विशेष के कुमोला रोड पर साइकिल रिपेयरिंग व रजाई भराई का काम करने वाले युवक उबेद खान एवं जितेंद्र कुमार सैनी पर खरसाडी मोरी पुरोला में 9 वीं कक्षा की एक छात्रा को शादी का झांसा देकर फरार कर विकासनगर ले जाने का आरोप है।

आक्रोशित भीड़ ने कुमोला-रोड, मंदिर मार्ग व मुख्य बाजार में आरोपित युवकों की बंद दुकानों के बोर्ड भी हटाये।

धरना प्रदर्शन करने वालों में व्यापार मंडल अध्यक्ष बृजमोहन चौहान,भाजपा जिला महामंत्री पवन नौटियाल, अमीचन्द शाह बलदेव रावत, राजपाल पंवार, चंद्रमोहन रावत, गंभीर चौहान, रामचंद्र पंवार, चंद्रमोहन, दिनेश उनियाल,बलदेब असवाल एंव विरेंद्र सिंह रावत, लोकेश उनियाल, पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष प्यारेलाल हिमानी, प्रकाश कुमार, लोकेश बडोनी आदि मौजूद रहे।

इस मामले में सीओ सुरेंद्र सिंह भंडारी ने कहा कि जन आक्रोश को देखते हुए पुलिस सुरक्षा के बीच शांतिपूर्ण जुलूस प्रदर्शन रहा, सभी से शांति बनाए रखने की अपील की गई है, नाबालिग लड़की को भगाने के प्रकरण में विवेचना जारी है।

जनआक्रोश व धरना- प्रदर्शन की आहट को देखकर पुरोला मुख्य बाजार, कुमोला-रोड, मंदिर मार्ग में रेहड़ी फेरी, आइसक्रीम बेचने, साइकिल रिपेयरिंग, रजाई-रूई भरने व सब्जी बेचने का काम करने वाले मुस्लिम समुदाय के 42 दुकानदार रातोंरात पुरोला से चले गए हैं।