भाजपा ने विधानसभा में पेश महिला आरक्षण विधेयक, धार्मिक स्वतंत्रता कानून को अधिक कड़ा करने वाले संसोधन विधेयक समेत सदन पटल पर रखे सभी विधेयकों का किया स्वागत  भाजपा प्रदेश अध्यक्ष महेन्द्र भट्ट ने सीएम पुष्कर सिंह धामी का दिया धन्यवाद 



सदन मे पेश विधेयक लोक कल्याणकारी और जनहित के अनुरूप: भट्ट

देहरादून 29 नवम्बर। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष महेन्द्र भट्ट ने सीएम पुष्कर सिंह धामी का धन्यवाद देते हुए विधानसभा में पेश महिला आरक्षण विधेयक, धार्मिक स्वतंत्रता कानून को अधिक कड़ा करने वाले संसोधन विधेयक समेत सदन पटल पर रखे सभी विधेयकों का स्वागत किया है ।

पार्टी प्रदेश अध्यक्ष महेन्द्र भट्ट ने सीएम पुष्कर सिंह धामी का धन्यवाद करते हुए कहा कि मातृ शक्ति को 30 फीसदी क्षैतिज आरक्षण, प्रदेश की आधी आबादी को उसका पूरा हक दिलाने वाला है । साथ ही उम्मीद जतायी कि जबरन धर्मान्तरण पर 10 साल की सजा ऐसे अपराधियों में कानून का खौफ पैदा करने का काम करेगी ।

पार्टी प्रदेश अध्यक्ष ने विधानसभा में पेश भाजपा सरकार द्वारा पेश सभी विधेयकों को लोक कल्याणकारी एवं जन भावनाओं को पूरा करने वाला बताया । उन्होंने बहु प्रत्याशित महिलाओं को नौकरी में 30 % क्षैतिज आरक्षण देने के विधेयक पर प्रसन्नता जाहिर करते हुए कहा कि इस कदम के साथ भाजपा ने जनता से किये एक और संकल्प को पूरा करने का काम किया है ।

पहले सुप्रीम कोर्ट में पैरवी कर आरक्षण के खिलाफ हाईकोर्ट के निर्णय पर स्टे लिया और अब सदन में अध्यादेश लाकर धामी सरकार ने साबित किया है कि मातृशक्ति के सम्मान, स्वभिमान और सशक्तिकरण से बढ़कर हमारे लिए कुछ भी नही है ।

इसी तरह धार्मिक आधार पर प्रदेश में जनसांख्यिक परिवर्तन लाने के षड़यंत्र में लगे लोगों पर लगाम कसने के लिए धार्मिक स्वतंत्रता कानून उल्लंघन्न में 10 वर्ष तक की सजा एवं पीड़ित को 5 लाख तक के मुआवजे का प्रावधान भी हमारी प्रतिबद्धता को दर्शाता है । उन्होंने कहा, कूड़ा निस्तारण, पंचायती राज कानून एवं दुकान एवं स्थापन कानून के सजा प्रावधानों को लेकर जनहित में किये बदलाव, जिला योजना समिति में क्षेत्र पंचायत प्रमुख को शामिल करना, स्टाम्प व राज्य अधिकार के अंतर्गत जीएसटी कानून आदि सभी विधेयकों को राज्यवासियों को राहत देने के उद्देश्य से लाये गए है।

हिंदू जागरण मंच के उत्तराखंड की आंतरिक सुरक्षा को लेकर जताई गई चिंता हुई सत्य साबित जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर रशियन नागरिक को सेटेलाइट फ़ोन के साथ गिरफ्तार होने पर उत्तराखंड से लेकर दिल्ली तक सुरक्षा में लगाई गई सेंधमारी को लेकर मचा हड़कंप  पकड़ा गया विदेशी नागरिक रशिया में रह चुका है मंत्री



ऋषिकेश, 29 नवम्बर। हिंदू जागरण मंच द्वारा रविवार को देश और उत्तराखंड के सीमावर्ती क्षेत्रों की आर्थिक सुरक्षा को लेकर जताई गई चिंता उस समय सही साबित हुई, जब रशिया के कानून के जानकार पूर्व कृषि एवं खाद्य मंत्री रह चुके विदेशी नागरिक को उत्तराखंड की राजधानी के देहरादून एयरपोर्ट से दिल्ली जाते हुए सीआइएसएफ की महिला सुरक्षाकर्मी ने सोमवार को प्रतिबंधित सेटेलाइट फोन के साथ गिरफ्तार कर लिया । जिसके बाद उत्तराखंड से लेकर दिल्ली तक विदेशी नागरिक द्वारा सुरक्षा में लगाई गई सेंधमारी को लेकर हड़कंप मचा है।

पकड़ा गया विदेशी नागरिक कोई आम नागरिकों में नहीं आता जो कि रशिया सरकार में पूर्व में कृषि व खाद्य मंत्री भी रहने के चलते कानून का जानकार भी है । हालांकि पुलिस की गिरफ्तारी के बाद विदेशी नागरिक को न्यायिक मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया, जहां उसे एक हजार रुपये का जुर्माना लगाकर बरी कर दिया गया। जबकि न्यायालय ने सेटेलाइट फोन को जब्त कर दिया है। जिस विदेशी नागरिक को सीआईएसफ की महिला सुरक्षा कर्मी ने सोमवार की दोपहर जौलीग्रांट स्थित देहरादून एयरपोर्ट पर चेकिंग के दौरान भारत में प्रतिबंधित सेटेलाइट फोन के साथ गिरफ्तार किया। वह उत्तराखंड के सीमांत जिले चमोली के निकट चोपता से घूम कर देहरादून से दिल्ली जा रहा था।

लेकिन सवाल उठता है कि पकड़ा गया नागरिक दिल्ली से उत्तराखंड तक प्रतिबंधित सैटेलाइट फोन के साथ कैसे पहुंंच गया। जो कि भारत की सुरक्षा में लगाई गई सेंध का मामला भी है।सीअइएसएफ की महिला निरीक्षक सुनीता सिंह ने विदेशी नागरिक विक्टर सेमेनाेव पुत्र एलेक्सजेंड्रोविच निवासी मकान नं. 5, स्ट्रीट मिच्युरुनेस्की, मास्को रशिया को डोईवाला कोतवाली पुलिस के सुपुर्द कर दिया था । निरीक्षक सुनीता सिंह की तहरीर पर पुलिस ने विदेशी नागरिक विक्टर सेमेनाेव के खिलाफ भारतीय टेलीग्राम एक्ट 1885 व भारतीय बेतार तार यांत्रिकी अधिनियम 1933 के तहत मुकदमा दर्ज कर उसे डोईवाला न्यायालय में पेश किया। पूछताछ में विदेशी नागरिक ने बताया कि वह एक फोटोग्राफर है। वह 22 नवंबर को भारत आया था। दिल्ली एयरपोर्ट पर उतरने के बाद वह सड़क मार्ग से कार के माध्यम से ऋषिकेश होते हुए चोपता चमोली गढ़वाल घूमने गया था। बताया कि वह शौकिया तौर पर वाइल्डलाइफ व नेचर फोटोग्राफी करता है।

सोमवार को उसे देहरादून हवाई अड्डे से फ्लाइट से दिल्ली जाना था, जहां उसे प्रतिबंधित सेटेलाइट फोन के साथ गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस ने विदेशी नागरिक को न्यायिक मजिस्ट्रेट डोईवाला मीनाक्षी दूबे की अदालत में पेश किया, जहां आरोपित ने अपनी गलती को स्वीकार करते हुए माफी मांगी। न्यायालय ने प्रतिबंधित सेटेलाइट फोन को जब्त करते हुए एक हजार का जुर्माना लगाकर उसे रिहा कर दिया।
प्रतिबंधित सेटेलाइट फोन के साथ गिरफ्तार किए गए विक्टर सेमेनाेव ने बताया कि वह वर्ष 1998 से 99 तक रूसी संघ में कृषि एवं खाद्य मंत्री रह चुके हैं। वर्तमान में वह कृषि विकास समिति के प्रमुख होने के साथ ही बेलाया डाचा के पर्यावेक्षक बोर्ड के अध्यक्ष भी हैं। बताया कि भारत में इस सेटेलाइट फोन के प्रतिबंधित होने की जानकारी उन्हें नहीं थी। सवाल यह उठता है कि रशिया सरकार में जिम्मेदार पद पर रह चुके है। जिन्हें इस बात की जानकारी ना होना भारत की सुरक्षा एजेंसियों के गले से नीचे नहीं उतर रही है और उन्होंने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए दिल्ली से उत्तराखंड तक जांच भी प्रारंभ कर दी‌ है। इस मामले में स्थानीय अभिसूचना इकाई के एक अधिकारी का कहना था कि विदेशी नागरिक द्वारा रशिया से भारत लाए गए सेटेलाइट फोन को भारत में लाने के बाद इस्तेमाल नहीं किया गया है यदि यह मोबाइल खोला जाता तो भारत की सुरक्षा एजेंसियां सतर्क हो जाती क्योंकि इस की फ्रीक्वेंसी के कारण या पकड़ में आ जाता उन्होंने बताया कि ऐसे सेटेलाइट फोन भारत के सभी सुरक्षा एजेंसियों के साथ उच्च अधिकारियों राष्ट्रपति प्रधानमंत्री मुख्यमंत्री के साथ आपदा ग्रस्त क्षेत्रों में प्रयोग किए जाते हैं जहां दूर संचार विभाग और आम मोबाइल काम नहीं करते इसलिए भारत में सेटेलाइट फोन आम लोगों के लिए प्रतिबंधित है। वही भारत के सीमांवर्ती क्षेत्रों की आंतरिक सुरक्षा को लेकर ऋषिकेश में रविवार को आयोजित हिंदू जागरण मंच के अभ्यास वर्ग में भी चिंता व्यक्त की गई थी।

नाइजीरिया में फंसे प्रदेश के लोगों की सुरक्षित वापसी को लेकर मुख्यमंत्री धामी के अनुरोध पत्र पर विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर ने दिया भरोसा



ऋषिकेश 28 नवंबर। नाइजीरिया में फंसे उत्तराखंड प्रदेश के 2 लोगों सहित और भारतीयों की वापसी के लिए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी द्वारा विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर को लिखे गए  अनुरोध पत्र को स्वीकारते हुए विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को पत्र लिखकर अवगत कराया है कि नाइजीरिया में फंसे प्रदेश के दो लोगों सहित सभी भारतीयों को हर सम्भव सहायता दी जाएगी।

इसके लिए भारत सरकार अबुजा स्थित हाई कमीशन नाइजीरिया सरकार के संबंधित अधिकारियों के सम्पर्क में है। विदेश मंत्री ने कहा कि भारतीय नागरिकों की सुरक्षा और कल्याण को सुनिश्चित किया जाएगा।

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री धामी ने नाइजीरिया में फंसे लोगों की सुरक्षित वापसी में सहायता के लिए विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर को पत्र लिखकर अनुरोध किया था।

अनियंत्रित ट्रक ने दो पहिया वाहन समेत रेहड़ी पटरी वालों को कुचला, एक की मौत कई घायल



ऋषिकेश देहरादून 28 नवंबर।  राजधानी देहरादून चंद्रबनी चौक पर आज दोपहर एक बड़ा हादसा हो गया है जिसमें सहारनपुर की ओर से आ रहे एक ट्रक ने अनियंत्रित होकर कई दोपहिया वाहन और रेहड़ी पटरी वालों को कुचल दिया है।

जिसमे अभी तक एक व्यक्ति की मौत और कई लोग घायल बताए जा रहे हैं हालांकि पुलिस प्रशासन मौके पर पहुंच चुका है। प्रथम दृष्टया जांच में बताया जा रहा है कि यह हादसा ट्रक के ब्रेक फेल होने के कारण हुआ है। 

उत्तराखंड विधानसभा बैक डोर भर्ती मामले में हाईकोर्ट ने फिर से दिया झटका, 228 कर्मियों की बर्खास्तगी के आदेश को माना सही



ऋषिकेश /देहरादून 24 नवंबर। उत्तराखंड हाईकोर्ट ने  विधानसभा बैक डोर भर्ती मामले में हाईकोर्ट की सिंगल बेंच के आदेश को डबल बेंच खंडपीठ  ने रोक लगा दी है

उत्तराखंड विधानसभा बैक डोर कर्मचारियों को झटका देते हुए सिंगल बेंच के फैसले को खंडपीठ ने रोक लगाई है। जिसमें डबल बेंच की खंडपीठ में विधानसभा अध्यक्ष के आदेश को सही मानते हुए यह फैसला लिया है।

जिसमें उन्होंने उत्तराखंड विधानसभा सचिवालय के 228 कर्मियों की बर्खास्तगी के आदेश को सही मानते हुए यह फैसला दिया है।

ऋषिकेश में आयकर विभाग के छापे, प्रॉपर्टी डीलरों, फाइनेंसर, ओर व्यापारियों में मची हड़कंप



 

ऋषिकेश 24 नवंबर। ऋषिकेश देहरादून सहारनपुर में इनकम टैक्स विभाग द्वारा लगातार छापेमारी की कार्रवाई की जा रही है। यह कार्यवाही एडिशनल डायरेक्टर ठाकुर मपवाल व डिप्टी डायरेक्टर रितेश भट्ट के नेतृत्व में की जा रही है।

गुरुवार की सुबह आयकर विभाग द्वारा ऋषिकेश नगर के प्रतिष्ठित प्रॉपर्टी डीलर फाइनेंसर और होटल व्यवसायियों के यहां एक सा‌थ 6 व्यवसायिक प्रतिष्ठानों पर मारे गए छापों के बाद नगर में हड़कंप मच गया है। गुरुवार की सुबह अचानक हरिद्वार मार्ग एमजे प्रॉपर्टी डीलर्स एवं जौहर फाइनेंसर‌ के अतिरिक्त रेलवे मार्ग पर स्थित विलाना होटल में आयकर विभाग की टीम ने छापेमारी की परंतु गुरुवार का अवकाश होने के कारण आयकर विभाग की टीम सुबह से प्रतिष्ठान खुलने की प्रतीक्षा करती ‌‌‌‌‌रही, लेकिन एमजे प्रॉपर्टी डीलर एवं जौहर फाइनेंसर एवा गढ़वाल होजरी का कार्यालय नहीं खुला, परंतु टीम द्वारा वीलाना होटल खुला होने के कारण वहां पर छापेमारी की कार्रवाई की जा रही है।

इसी कड़ी में देेहरादून के नेशविला रोड में एक के बाद एक आयकर विभाग की कई गाड़ियां पहुंची। कई निवेशकों व उद्योगपतियों के घर छापा पड़ा है। इनमें से अभी एमजे रेजिडेंसी के मालिक के घर पर छापा पड़ने की खबर सामने आई है।

विभागीय अधिकारियों ने छापे को लेकर कोई भी जानकारी देने से मना कर दिया है। गुरुवार की सुबह से शुरू हुई इनकम टैक्स रेड के बाद प्रॉपर्टी डीलर व व्यापारियों और उद्योगपतियों के बीच खलबली मच गई है।
प्राप्त सूत्रों के अनुसार 11 जगहों पर देहरादून, 6जगह पर ऋषिकेश, 13 पर सहारनपुर, 8 जगह पर दिल्ली में छापे मारी की कार्रवाई चल रही है। जिसमें प्रमुख रूप से प्रसिद्ध व्यापारी मंजीत जौहर, राज लुंबा, मेहता बर्दस, भाटिया, नवीन कुमार मित्तल, नितिन गुप्ता, आदि व्यापारियों के घरों और प्रतिष्ठानों पर छापेमारी की कार्रवाई की जा रही है।

सूबे के मुखिया को अपने बीच पाकर युवा हुए बेहद उत्साहित, प्रातः काल भ्रमण के दौरान मुख्यमंत्री धामी ने युवाओं के साथ दौड़ लगाने के साथ खेला बैडमिंटन



ऋषिकेश /अल्मोड़ा 20 नवंबर। सीएम पुष्कर सिंह धामी आज अल्मोड़ा में मार्निग वाॅक के दौरान स्थानीय लोगों विशेष रूप से युवाओं से मिले और उनसे सरकार द्वारा किये जा रहे विकास कार्यों का फीडबैक लिया। प्रातः काल भ्रमण के दौरान सीएम ने स्पोर्ट्स स्टेडियम में युवाओं के साथ दौड़ लगाई और बैडमिंटन भी खेला। इस दौरान युवा साथियों और स्थानीय लोगों से सरकार द्वारा किए जा रहे कार्यों का फीडबैक भी लिया।

सीएम धामी ने युवाओ से कहा कि अच्छा स्वास्थ्य सबसे महत्वपूर्ण है। पढाई के साथ ही फिट रहना भी बहुत जरूरी है। खेल को हमें अपनी आदत में शामिल करना चाहिए। सीएम ने कहा कि हम सभी मिलकर “खेलो इंडिया और फिट इंडिया मूवमेंट” में पूरी तन्मयता के साथ शामिल होकर खेल के क्षेत्र में भी देश के अग्रणी राज्यों में शुमार होने का संकल्प लें।

इस दौरान मुख्यमंत्री ने आम लोगों से भी मुलाक़ात कर उनका हाल-चाल जाना। सूबे के मुखिया को अपने बीच पाकर युवा बेहद उत्साहित नजर आए।

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी जब भी जिलों के दौरों पर जाते हैं और रात्रि विश्राम वहीं करते हैं तो सवेरे मार्निग वाॅक पर जरूर जाते हैं। इस दौरान आम लोगो से मिलकर उनका हाल-चाल भी जानते हैं और सरकारी विकास योजनाओं व विकास कार्यों के बारे में फीडबैक भी लेते हैं।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने प्रधानमंत्री द्वारा की गई ₹2200 करोड़ की विकास योजनाओं के क्रियान्वयन की करी समीक्षा बैठक,



ऋषिकेश काठगोदाम 19 नवंबर। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने आज सर्किट हाउस काठगोदाम में हल्द्वानी शहर हेतु प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी द्वारा की गई ₹2200 करोड़ की विकास योजनाओं के क्रियान्वयन की समीक्षा की।

इस दौरान मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को आवश्यक निर्देश भी दिए। मुख्यमंत्री  धामी ने कहा कि विकास योजनायें धरातल पर दिखाई दें यह सुनिश्चित करना अधिकारियों की जिम्मेदारी है। जन सेवा ही हमारा लक्ष्य है। उन्होंने कहा कि शहरी विकास के लिए जनप्रतिनिधियों के सुझावों को भी डीपीआर में शामिल किया जाए।

मुख्यमंत्री ने समेकित शहरी अवसंरचना विकास योजना के तहत एडीबी द्वारा वित्त पोषित नगर के विकास हेतु डीपीआर तैयार कर रही कार्यदायी संस्था उत्तराखण्ड अर्बन सेक्टर विकास एजेंसी के अधिकारियों को निर्देश दिए कि योजनाओं की डी.पी.आर. को जल्द से जल्द अंतिम रूप दिया जाए। उन्होंने कहा कि डीपीआर फाइनल करने से पहले अन्तर विभागीय बैठक करने से आपसी समन्वय बना रहेगा व बाद में किसी प्रकार की समस्या का सामना नहीं करना पडे़ेगा। कार्यदायी संस्था सुनिश्चित करें कि निर्माण से पूर्व ही सड़क पर सर्विस डक्ट डाली जाए।

मुख्यमंत्री श्री धामी ने अधिकारियों को तैयारी के साथ आगामी बैठक में प्रतिभाग करने के निर्देश दिए। साथ ही उन्होंने अधिकारियों को अपनी कार्यशैली सुधारने के निर्देश दिए एवं जनता के कार्यों को सर्वोच्च प्राथमिकता से निस्तारित करने को कहा।

रोजगार देने वाले बनेंगे देश के लोग, वर्ष 2047 तक देश के अधिकांश युवा रोजगार के क्षेत्र में स्टार्टअप का करेंगे काम :  सुबोध उनियाल



देहरादून/ऋषिकेश 19 नवंबर। वर्ष 2047 तक देश के अधिकांश युवा रोजगार के क्षेत्र में स्टार्टअप का काम करेंगे, इससे वह रोजगार देने में सक्षम होंगे। बेंगलुरु में आयोजित दो दिवसीय कार्यशाला में शिरकत कर उत्तराखंड पहुंचे कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल ने यह जानकारी दी।
बता दें कि केंद्रीय वाणिज्य व उद्योग मंत्रालय के अंतर्राष्ट्रीय व्यापार व उद्योग संवर्धन विभाग द्वारा बेंगलुरु में आयोजित दो दिवसीय स्टार्टअप व उद्यमिता विकास कार्यशाला में उत्तराखंड राज्य का प्रतिनिधित्व कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल ने किया।

शनिवार को उत्तराखंड पहुंचने पर कैबिनेट मंत्री ने बताया कि युवाओं के स्टार्टअप्स व उद्यमिता विकास हेतु केंद्र सरकार की ओर से फंडिंग अच्छी होनी चाहिए, इससे अधिक युवाओं को साथ जोड़ा जा सकेगा। कहा कि गुजरात के विकास मॉडल की तर्ज पर केंद्र सरकार को कार्य करने चाहिए। भविष्य के लिए तकनीकी विकास, छात्र उद्यमिता, वित्तपोषण की विधा, धारणीय विकास के लिए नवाचार व पारिस्थितिकी संतुलन इसके प्रमुख अवयव होंगे।

प्रदेश के कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल ने भारत सरकार आयुष मंत्रालय राष्ट्रीय औषिधीय की बैठक में चारों धाम में हर्बल गार्डन बनाने के दिए निर्देश 



देहरादून 17 नवम्बर। प्रदेश के वन,तकनीकी शिक्षा, भाषा एवं निर्वाचन कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल ने आज वन विभाग के मंथन सभागार में आला अधिकारियों के साथ भारत सरकार आयुष मंत्रालय राष्ट्रीय औषिधीय पादप बोर्ड द्वारा संचालित सेंन्ट्रल सेक्टर स्कीम एवं राज्य में इन योजनाओं को लागू व प्रभावी क्रियान्वयन करने हेतु बैठक ली।

 मंत्री ने प्रदेश में हर्बल गार्डन को विकसित करने पर विस्तृत चर्चा करते हुए, वर्तमान समय में संचालित योजनाओे की जानकारी ली, जिस पर माननीय मंत्री ने तेजी से प्रगति लाने के निर्देश दिए। उन्होंने संबंधित आधिकारियों को चारों धाम में हर्बल गार्डन बनाने के निर्देश दिए। कहा कि यहां पर लाखों के संख्या में आने वालें श्रद्धालुओं एवं लोगों को लाभ मिल सकेंगा। साथ ही कहा के पहाड़ी कास्तकारों के दृष्टिगत मानकों को सरलीकरण बनाया जाय। जिससें उन्हे हर्बल गार्डन की कास्त करने में कठिनाई ना हो, ओर अपनी आजीविका संबंर्द्धन कर सकें। जिस हेतु उन्होने संबंधित अधिकारियों के साथ विस्तृत चर्चा करते हुए, कास्तकारों के लिए जडी बूटी/औषधि पादपों की कास्तकारी के लिए अलग से एक वन विभाग की नोडल अधिकारी नामित करने के निर्देश दिये। वही उन्होने जिला स्तर पर जिलाधिकारी की अध्यक्षता में एक कमेटी की गठन करने के निर्देश दिए। जिसमें वन विभाग के अधिकारी एवं मुख्य कृषि अधिकारी, मुख्य उद्यान अधिकारी सदस्य होगें। मा0 मंत्री ने लंम्बित प्रोजेक्ट को शीघ्र पूर्ण करने के दिशा निर्देश दिये। संबंधित अधिकारियों द्वारा राज्य में पाये जाने वाले एवं कास्त वाले औषधिक पादपों की प्रजेंटेशन के माध्यम से विस्तार पूर्वक जानकारी दी गई।

जबकि मंत्री ने वन निगम के तीनों मण्डियों का सुदृढिकरण करते हुए प्रोसेसिंग यूनिट लगाने के निर्देश दिये। उन्होने पी.एम.एफ.एस. योजना के तहत वन डिस्ट्रीक्ट वन प्रोजेक्ट के रूप में विकसित करने के निर्देश दिये। कहा कि वन पंचायत को ओर मजबूत बनाये जाए, नियमावली में सुधार लाते हुए सरली करण की जरूरत है। वही संबंधित अधिकारी द्वारा बताया गया कि राज्य के स्थानीय स्तर पर पाये जाने वाले औषधीय पादपों के बारे में कास्तकारों को प्रशिक्षण एवं जागरूक किये जाते है।
बैठक में अपर मुख्य कार्यवाही अधिकारी/प्रतिनिधि राष्ट्रीय औषधीय पादप बोर्ड, नई दिल्ली के द्वारा प्रस्तुतिकरण के माध्यम से प्रदेश अर्न्तगत राष्ट्रीय औषधीय पादप बोर्ड, नई दिल्ली द्वारा वित्त पोषित योजनाओं के क्रियान्वयन की स्थिति की जानकारी दी गई। राष्ट्रीय औषधीय पादप बोर्ड, नई दिल्ली की ऑपरेशनल गाईडलाईन के तहत उत्तराखण्ड राज्य में लागू किये जाने वाली योंजनाओं पर चर्चा की गई। वन पंचायत में औषधीय पौंधों के रोपण/संरक्षण/सवंर्द्धन, औषधीय पौधों से उत्पादित कच्चे माल के एकत्रीकरण/विपणन/वैल्यू एडिशन के प्रस्ताव सहित प्रमुख वन संरक्षित वन पंचायत, देहरादून द्वारा प्रस्तुतिकरण् के माध्यम से .नये हर्बल गार्डनों की स्थापना/पुराने हर्बल गार्डनों का विस्तार एवं रख-रखाव सम्बन्धी प्रस्ताव पर जानकारी दी गई। जबकि .वन निगम द्वारा स्थापित हर्बल मण्डियों से प्रदेश में एकत्रित औषधी में प्रयोग कियो जाने वाले कच्चे माल का विपणन, हर्बल मण्डियों के माध्यम से किसी को बढाने पर चर्चा तथा हर्बल मण्डियों के उच्चीकरण का प्रस्ताव प्रबन्ध निदेशक,उत्तराखण्ड वन विकास निगम द्वारा जानकारी दी गई। .औषधी पौधों के संरक्षण/संर्वद्धन एवं प्रदेश में इससे सम्बन्धित जागरूकता सम्बन्धी कार्यक्रम चलाये जाने सम्बन्धी प्रस्ताव पर चर्चा हुई।
इस अवसर पर प्रमुख वन संरक्षक उत्तराखण्ड विनोद कुमार, प्रमुख व0स0 व0प0 उत्तराखण्ड ज्योत्सना स्थिलिंग, उप मुख्य कार्यकारी अधिकारी चन्द्रशेखर, पीसीसीएफ(एन/एल) सीडब्लूएलडब्लू समीर सिन्हा सहित कई वन विभाग के प्रमुख अधिकारीगण उपस्थित थे।