उत्तराखंड में आज अभी फिर दोबारा किए गए महसूस भूकंप के झटके, 9 नवंबर के बाद आज 2 बार किए गए भूकंप के झटके महसूस



ऋषिकेश, 12 नवम्बर ‌‌। उत्तराखंड मैं दो बार कम आने के कारण ‌‌‌‌‌‌‌ धरती डोल गई है मौसम विभाग के अनुसार पहला झटका पौड़ी जिले के वीकली खाल में आने के बाद 7:57 पर नेपाल में आए भूकंप के कारण देहरादून हरिद्वार ऋषिकेश में उत्तरकाशी मैं भी भूकंप के झटके महसूस किए गए ।

जिसकी डिटेल इस प्रकार है

EQ Parameters:

M: 5.4
Date: 12/11/2022
Time: 19:57:06 IST
Lat: 29.28 N
Long: 81.20 E
Depth: 10 Km
Region: Nepal

For more information on event, please visit www.seismo.gov.in or download BhooKamp app.

जिसके कारण लोग घरों से बाहर निकल आए। पहला भूकंप जनपद पौड़ी गढ़वाल के लैंसडाउन के निकट लिखती खाल में ‌शा4:00बजकर 25 मिनट पर आया भूकंप । जिसकी तीव्रतायह 3.4 रिएक्टर के बताई गई हैं।जानकारी के अनुसार दूसरा भूकंप 7:57 पर नेपाल में आया । जिसका केंद्र नेपाल के 10 किलोमीटर अंदर रहा है। जिसकी तीव्रता 5.7रही। इससे पहले नौ नवंबर तड़के दो बार भूकंप के झटके महसूस किए गए थे।

50 बारातियों से भरी बस अनियंत्रित होकर खाई में गिर जाने पर अभी तक 26 बारातियों की मौत की खबर, मुख्यमंत्री धामी सांसद निशंक सहित विधायक और अधिकारी गण मौके पर मौजूद, मुख्यमंत्री ने दिया हर संभव मदद का भरोसा



ऋषिकेश 5 अक्टूबर ।  हरिद्वार जनपद के लालढांघ से 50 बारातियों से भरी बस के अनियंत्रित होने पर खाई में गिर जाने से अभी तक 26 बारातियों की मौत की खबर आ रही है। मुख्यमंत्री  पुष्कर सिंह धामी ने बुधवार को सिमडी, पौड़ी में हुई बस दुर्घटना स्थल का जायजा लिया। इस अवसर पर उनके साथ पूर्व मुख्यमंत्री एवं सांसद डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक भी मौजूद थे।

हादसा मंगलवार शाम को हुआ था, लेकिन इलाका दुर्गम होने के चलते बुधवार को भी राहत और बचाव कार्य जारी है. हादसे का कारण आधिकारिक तौर पर तो अभी नहीं पता चल सका है, लेकिन प्रत्यक्षदर्शियों से कुछ जानकारी मिल रही हैं. एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि उसने सड़क पर सांप देखा और गाड़ी रोक दी. तभी बस वाले ने उन्हें ओवरटेक किया और आगे निकल गया. आगे थोड़ी दूर जाते ही बस गहरी खाई में जा गिरी।

जानकारी के मुताबिक बस में बाराती सवार थे. बस लालढंग से निकली थी और जिस प्रत्यक्षदर्शी ने ये जानकारी दी वो बस के आगे चल रही दूल्हे की गाड़ी का ड्राइवर है. उसने घटना को याद करते हुए बताया कि हमारी गाड़ी में दूल्हा बैठा था और हम बस के आगे चल रहे थे. तभी अचानक हमें सड़क पर सांप दिखा तो हमने गाड़ी रोक ली. वहीं बस वाले ने हमें ओवरटेक किया और आगे निकल गया. प्रत्यक्षदर्शी के मुताबिक इसके बाद वो भी बस के पीछे चल दिए, लेकिन थोड़ी दूर निकलते ही बस खाई में गिर गई.

प्रत्यक्षदर्शी ने कहा कि जैसे ही बस गिरी तुरंत इसकी सूचना पुलिस को दी गई. उन्होंने बताया कि सबसे पहले घटनास्थल पर आस-पास के गांव वाले पहुंचे और गांव वालों ने ही फंसे हुए लोगों को शुरुआत में निकालने का काम किया. कुछ लोग सड़क पर ही गिर गए थे.

प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि हादसे के समय ड्राइवर वाली साइड से कुछ टूटने की जोरदार आवाज आई थी. दूल्हे की गाड़ी के ड्राइवर ने बताया कि शायद वो आवाज कमानी या पट्टे के टूटने की थी. इस दुर्घटना को लेकर कई सवाल उठ रहे हैं. बताया जा रहा है कि बस ओवरलोड थी और उसमें 50 लोग सवार थे.

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक बस लालढांग से बीरोंखाल के एक गांव जा रही थी तभी रात करीब साढ़े सात बजे के आस-पास वो दुर्घटना का शिकार हो गई. हादसा सिमरी मोड़ के आस-पास हुआ. पुलिस के मुताबिक बचाव और तलाशी अभियान रातभर चला और बुधवार सुबह भी ये जारी रहा।

 सिमड़ी में हुई वाहन दुर्घटना एवं राहत-बचाव कार्यों की मुख्यमंत्री ने जिला प्रशासन से पूरी जानकारी ली।

मुख्यमंत्री ने रेस्क्यू कर रहे एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, फायर ब्रिगेड, स्थानीय पुलिस, राजस्व पुलिस और इस कार्य में लगे विभिन्न विभागीय कार्मिकों को तेजी से रेस्क्यू कार्य करने के निर्देश दिए। उन्होंने स्थानीय प्रशासन को घायलों का त्वरित और समुचित उपचार करने के निर्देश दिए। प्रभावित परिवारों से मुलाकात करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि घायलों को उचित उपचार दिया जा रहा है। राज्य सरकार की ओर से प्रभावितों को हर संभव मदद दी जायेगी।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी और हरिद्वार सांसद रमेश पोखरियाल निशंक के साथ विधायक लैंसडाउन  दिलीप रावत, गढ़वाल आयुक्त  सुशील कुमार, डीआईजी करण सिंह नगन्याल, जिलाधिकारी  विजय कुमार जोगदण्डे, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक  यशवंत सिंह चौहान भी उपस्थित थे।

अंकिता हत्याकांड में एसआईटी मे शामिल एसटीएफ टीम द्वारा अमलीजामा पहनाना शुरू  – सर्विलांस एक्सपर्ट के जरिए घटना स्थल सहित वनन्तरा रिसार्ट और आसपास क्षेत्र में घंटों चली जांच



ऋषिकेश 1 अक्टूबर। वनन्तरा रिसार्ट की रिसेप्शनिस्ट अंकिता भंडारी हत्याकांड की जांच में एसआइटी ने एसटीएफ को भी शामिल किया है। विशेष रुप से घटनास्थल, वनन्तरा रिसार्ट और आसपास क्षेत्र में सर्विलांस एक्सपर्ट के जरिए यह जानकारी हासिल की जा रही है कि संबंधित क्षेत्र में वारदात से पहले, वारदात के रोज और उसके बाद आरोपितों सहित कितने लोग कि यहां पर मौजूदगी थी। अंकिता हत्याकांड की मजबूत पैरवी के लिए यह जांच महत्वपूर्ण मददगार साबित हो सकती है।

अंकिता हत्याकांड से जुड़ी विभिन्न कड़ियों को जोड़ने के लिए एसआइटी ने कई स्तर पर होमवर्क करने के बाद उसको अमलीजामा पहनाना शुरू कर दिया है। फारेंसिक एक्सपर्ट की टीम के जरिए यहां दो बार महत्वपूर्ण साक्ष्य जुटाए जा चुके हैं। भाजपा के निष्कासित नेता विनोद आर्या के पुत्र पुलकित आर्या सहित मैनेजर सौरभ भास्कर और असिस्टेंट मैनेजर अंकित गुप्ता की रिमांड ली जा चुकी है। पुलकित के साथ सांठगांठ के आरोपी क्षेत्र के पटवारी वैभव प्रताप सिंह सहित तमाम लोग एसआइटी की जांच में शामिल है। कुछ वीआइपी मेहमान के बारे में भी एसआइटी जानकारी जुटा रही है।

मोबाइल सर्विलांस के जरिए भी महत्वपूर्ण साक्ष्य जुटाए जाने की दिशा में एसआइटी काम कर रही है। यही कारण है कि शुक्रवार को देहरादून से एसटीएफ की टीम सर्विलांस एक्सपर्ट के साथ यहां पहुंची। एसटीएफ के अपर पुलिस अधीक्षक स्वप्न किशोर के साथ विशेषज्ञों की टीम शुक्रवार शाम करीब चार बजे रिसार्ट पहुंची। शाम करीब सात बजे तक रिसार्ट के अतिरिक्त नहर में स्थित घटनास्थल, वारदात के रोज अंकिता भंडारी के साथ दुपहिया वाहनों में गए स्थानों पर भी टीम पहुंची।

जानकारी के अनुसार गिरफ्तारी के रोज पुलकित, सौरव और अंकित से जो पूछता की गई थी,उसमें इनकी ओर से अंकिता और पुलकित के मोबाइल के बारे में जो जानकारी दी गई थी इन सब को सर्विलांस टीम ने अपने रडार पर रखा है। इस बात की भी जांच की जा रही है कि नहर में मोबाइल फेंकने संबंधी उनकी जानकारी में कितना दम है। एसटीएफ की सर्विलांस टीम यह भी पता लगा रही है की वारदात से पहले, वारदात के रोज और उसके बाद रिसार्ट में कितने और किसके मोबाइल की मौजूदगी पाई गई है। इन सब कड़ियों को जोड़ने के बाद रिमांड पर लिए गए तीनों आरोपितों से एसआइटी पूछताछ करेगी।

अंकिता हत्याकांड में गठित एसआईटी टीम के पास घटनास्थल की वीडियोग्राफी सहित सभी साक्ष्य मौजूद: एएसपी शेखर सुयाल, साक्ष्य मिटाने जैसी भ्रामक खबरों को बताया गलत



ऋषिकेश 28 सितंबर। अंकिता हत्याकांड मैं गठित एसआईटी कि टीम के पास घटनास्थल की वीडियोग्राफी सहित सभी साक्ष्य मौजूद है।

आज अंकिता हत्याकांड में गठित एसआईटी टीम के सदस्य एएसपी शेखर सुयाल ने प्रेस वार्ता में पत्रकारों को बताया कि अंकिता हत्याकांड का केस राजस्व विभाग से लक्ष्मण झूला थाने में 22 सितंबर को आने पर पुलिस द्वारा पहली आईओ की रिपोर्ट मैं घटना स्थल की प्रॉपर वीडियोग्राफी कर सभी साक्ष्य जुटा लिए गए थे,ओर  23 सितंबर की सुबह एसएफएल की टीम द्वारा भी घटनास्थल पर सभी साक्ष्य को कलैक्ट कर सभी पुख्ता जानकारी को जुट  लिया गया।

इसके अलावा कल एसआईटी की टीम द्वारा भी पूरे रिसोर्ट की सघनता से जांच की गई और केस से संबंधित सभी जानकारी एवं मौजूद साक्ष्य का मिलान किया गया ।

उनका यह भी कहना था कि एसआईटी टीम रिसोर्ट के सभी कर्मचारियों के संपर्क में है और उनसे लगातार पूछताछ की जा रही है । एसआईटी की टीम समय-समय पर जरूरत पड़ने पर घटनास्थल पर जाकर जांच कर सकती है।

उन्होंने सोशल मीडिया और अन्य मीडिया माध्यमों से चल रही सभी भ्रामक खबरों में साक्ष्य मिटाने जैसी खबरों को गलत बताया गया ।इसके अलावा उन्होने यह भी बताया कि जिस कमरे में आग लगाई गई वह रिसोर्ट से अलग फैक्ट्री के बाहर कमरा था।

अंकिता भंडारी का अलकनंदा के तट पर हुआ अंतिम संस्कार, प्रशासन के द्वारा बड़े मान मनोबल के पश्चात परिजनों ओर अंकिता के पिता ने समझाया लोगों को  दिन भर रास्ता जाम व प्रदर्शन करते रहे लोग



ऋषिकेश 25 सितंबर। अंकिता भण्डारी हत्याकांड के बाद ‌ के पोस्टमार्टम की अंतिम रिपोर्ट आने व परिवार जनों के एक सदस्य को सरकारी नौकरी दिए जाने की मांग को लेकर आज सुबह से अलकनंदा के घाट पर अंकिता का होने वाले अंतिम संस्कार को रोक दिए जाने से प्रशासन में हड़कंप मचा हुआ था।    मौके पर उपस्थित प्रशासन लगातार परिजनों को मनाने का प्रयास कर रहा था।

जिसके परिणाम स्वरूप आखिरकार शाम 6:00 बजे करीब जिलाधिकारी और एसएसपी ओर शासन प्रशासन के जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों द्वारा परिजनों को मनाने में सफल हो गए और परिजनों वा अंकिता भंडारी के पिता के आव्हान पर जनता को भी शांत कराया गया और अंकिता भंडारी के शव का अंतिम संस्कार अलकनंदा के तट पर किया गया।

गौरतलब है कि शनिवार की शाम को ऋषिकेश एम्स अस्पताल में पोस्टमार्टम के बाद पौड़ी की बेटी अंकिता भंडारी का शव मेडिकल कॉलेज श्रीनगर पहुंचाया गया था।  जिसका अंतिम संस्कार अलकनंदा नदी के तट पर पैतृक घाट पर होना था। लेकिन परिजनों ने आज सुबह अंतिम संस्कार रोक दिया था। परिजनों ने सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हुए  प्राइमरी पोस्टमार्टम रिपोर्ट में फेरबदल होने का शक जताया था।

अंकिता के भाई का कहना था कि कि दोबारा पोस्टमार्टम कराया जाए और जब फाइनल रिपोर्ट आएगी उसके बाद ही अंकिता का अंतिम संस्कार किया जाएगा। वहीं, अंकिता के पिता वीरेंद्र भंडारी का कहना था कि प्रशासन ने जल्दबाजी में रिजॉर्ट में अंकिता का कमरा तोड़ दिया। उसमें सबूत हो सकते थे। अब जब पोस्टमार्टम की फाइनल रिपोर्ट आएगी तब ही अंकिता की अंत्येष्टि की जाएगी।

वहीं, प्रशासन की टीम अंतिम संस्कार के लिए परिजनों को मनाने में जुटी थी। आज दिन भर श्रीनगर में विकास खंड पौड़ी के ग्राम पंचायत श्रीकोट के राजस्व गांव धूरों की बेटी अंकिता की हत्या के बाद लोगों में आक्रोश बना हुआ था। ऐसे में अंतिम संस्कार के दौरान किसी प्रकार की चूक न हो इसके लिए पुलिस व प्रशासन ने सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए हुए थे।

ऋषिकेश : अंकिता भंडारी हत्याकांड: राजस्व पुलिस की व्यवस्था तत्काल समाप्त कर सामान्य पुलिस स्थापित करने हेतु विधानसभा अध्यक्ष ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र, गंगा भोगपुर में यदि सामान्य पुलिस बल कार्य कर रहा होता तो निश्चित रूप से प्रदेश की बेटी अंकिता आज हमारे मध्य होती: ऋतु खंडूरी



ऋषिकेश 24 सितंबर। प्रदेश में जहाँ-कहीं भी राजस्व पुलिस की व्यवस्था चली आ रही है, उन्हें तत्काल समाप्त कर सामान्य पुलिस बल के थाने / चौकी स्थापित करने हेतु आज उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष रितु खंडूरी ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को पत्र लिखकर शीघ्र इस विषय पर आदेश जारी करने का आग्रह किया| जिससे भविष्य में इस प्रकार की अप्रिय घटना दुबारा घटित न हो।


प्रदेश में आज भी कई क्षेत्रों में राजस्व पुलिस व्यवस्था जारी है| आज के आधुनिक युग में जहाँ सामान्य पुलिस विभाग में पूरे देश में एक राज्य से दूसरे राज्य में पीड़ित जीरो एफ0आई0आर0 दर्ज कराकर अपनी शिकायत पंजीकृत करा सकता है। वहीं ऋषिकेश शहर से मात्र 15 कि०मी० की दूरी पर राजस्व पुलिस जिसके पास पुलिस के आधुनिक हथियार तथा जॉच हेतु किसी भी प्रकार का प्रशिक्षण प्राप्त नहीं है, वे जॉच कर रहे है।

विधानसभा अध्यक्ष रितु खंडूरी ने कहा कि यह जानकर अत्यन्त ही पीड़ा होती है कि यदि गंगा भोगपुर में यदि सामान्य पुलिस बल कार्य कर रहा होता तो निश्चित रूप से प्रदेश की बेटी अंकिता आज हमारे मध्य होती और आम जनता में सरकारी कार्यप्रणाली के प्रति इतना रोष व्याप्त नहीं होता।

उत्तराखंड कांग्रेस में चल रहें कलह के बीच हरक सिंह रावत, प्रीतम सिंह, भुवन कापड़ी व अन्य विधायको ने जयराम आश्रम पहुंचकर ब्रह्मस्वरूप ब्रह्मचारी से की मुलाकात



ऋषिकेश 12 जुलाई । उत्तराखंड कांग्रेस में चल रहें कलह के बीच बीते रोज देहरादून में हरक सिंह रावत व प्रीतम सिंह समेत अन्य विधायकों के बीच हुई बैठक  हुई। जिसके बाद  तमाम तरह के कयास लगाए जा रहे थे। कयासों का दौर अभी थमा ही नहीं था की मंगलवार को हरक सिंह रावत, प्रीतम सिंह, भुवन कापड़ी व अन्य विधायक हरिद्वार स्थित श्री जयराम आश्रम पहुंचे और वहां ब्रह्मस्वरूप ब्रह्मचारी से मुलाकात की। जिसके बाद से राजनैतिक हलचल हरिद्वार से देहरादून तक और तेज हो गयी है।

बता दें कि बीते रोज हुई बैठक में कांग्रेस नेताओं ने हरीश रावत व कांग्रेस संगठन को लेकर कई सवाल उठाए थे। अब हरिद्वार में बैठकर चर्चा करने के कई मायने लगाए जा रहे हैं। चर्चा है कि मंथन के बाद कुछ बड़ा ऐलान हो सकता है। फिलहाल चर्चाओं का बाजार गर्म होने के साथ राजनैतिक हलचल भी तेज हो गयी है।

उत्तराखंड में आप पार्टी से विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री का चेहरा रहे कर्नल अजय कोठियाल अपने समर्थकों के साथ शामिल हुए भाजपा में



ऋषिकेश 24 मई। आम आदमी पार्टी (आप) के विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री के चेहरे रहे कर्नल अजय कोठियाल मंगलवार को बलवीर रोड स्थित पार्टी मुख्यालय पर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी और प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक की मौजूदगी में सैकड़ों की संख्या में अपने समर्थकों के संग भाजपा में शामिल हुए।इस मौके पर आप के प्रदेश पदाधिकारी रहे भूपेश उपाध्यक्ष, नवीन पिरसाली सहित अन्य।

हाईकोर्ट से लगा मेयर को झटका, अवमानना का नोटिस हुआ जारी , जमीन की लीज अवधि बढ़ाने के मामले में 25 लाख रुपए की रिश्वत का आरोप, हुआ मुकदमा दर्ज



ऋषिकेश 21अप्रैल। उत्तराखंड हाई कोर्ट ने जमीन की लीज अवधि बढ़ाने  के मामले में रुड़की नगर निगम मेयर गौरव गोयल को अवमानना का नोटिस जारी किया है। मेयर गौरव गोयल की मुश्किलें कम  होती नज़र नहीं आ रही है। अभी कुछ दिनों पहले ही उन पर जमीन की लीज अवधि बढ़ाने के मामले में उन पर 25 लाख रुपए की रिश्वत का आरोप लगा था।

इसी मामले की सुनवाई के सम्बन्ध में अब उत्तराखंड हाईकोर्ट ने पूर्व के आदेश का पालन नहीं करने पर रुड़की नगर निगम के मेयर गौरव गोयल को अवमानना का नोटिस जारी किया है। कोर्ट ने रुड़की मेयर गौरव गोयल को चार हफ्तों में जवाब पेश करने के निर्देश दिए हैं। मामले की सुनवाई न्यायमूर्ति मनोज कुमार तिवारी की एकलपीठ में हुई।

मामले के अनुसार रुड़की निवासी सुबोध गुप्ता ने अवमानना याचिका दायर कर कहा है कि दिसंबर 2021 में कोर्ट ने उनकी याचिका पर नगर निगम रुड़की को आदेश दिए थे कि उनकी लीज को दो माह के भीतर रिन्युअल करें। परन्तु नगर निगम ने अभी तक उनकी लीज रिन्युअल नहीं की। उनकी लीज 2012 में समाप्त हो गयी थी।

अवमानना याचिका में यह भी कहा गया कि मेयर द्वारा बोर्ड बैठक को कई बार टाला जा रहा है। मेयर द्वारा लीज को रिन्युअल करने के एवज में उनसे 25 लाख रुपये की डिमांड की गई। उनके द्वारा इनके खिलाफ मुकदमा भी दर्ज कराया गया है।

 

ऋषिकेश गैंगरेप मामला अपडेट: गैंगरेप की आशंकित विक्षिप्त‌‌ ‌‌‌‌युवती के परिजन जल्द पहुंच रहे ऋषिकेश, महिला द्वारा बार-बार बदला जा रहा बयान, महिला के अनुसार वह मुनिकीरेती क्षेत्र के ब्रह्मपुरी स्थित ओशो आश्रम में भी गई



ऋषिकेश, 19 अप्रैल । आज सुबह ऋषिकेश के वीरभद्र रेलवे स्टेशन पर एक विक्षिप्त युवती के साथ गैंगरेप का आशंकित  मामला प्रकाश में आया था। 

शुरुआती जांच में पुलिस जीआरपी थाना प्रभारी निरीक्षक बलवंत सिंह ने बताया कि युवती उत्तर प्रदेश के रामपुर की रहने वाली है। उसकी मानसिक हालत भी ठीक नहीं है। जिस के परिजनो‌ मैं ‌मां से संपर्क करने पर पता चला कि वह मानसिक रूप से पीड़ित है जिसका इलाज भी चल रहा है ‌‌‌।

जिसे राजकीय चिकित्सालय ऋषिकेश में मेडिकल परीक्षण के लिए लाया गया है। उसकी मेडिकल रिपोर्ट आने के बाद ही स्थिति स्पष्ट हो पाएगी। जबकी युवती का कहना है कि रात में उसे कुछ युवक नशीला पदार्थ खिलाकर यहां लाए जिसके बाद उसके साथ गैंग रेप किया गया। जोकि अपने बार-बार बयान बदल रही है, और मेडिकल भी नहीं करवा रही है,।

जिसकी सूचना परिजनों को दिए जाने के बाद उसके परिजन जल्द ऋषिकेश पहुंच रहे हैं, उनका यह भी कहना था कि यह नवरात्रों से घर से गायब हुई है जिसकी सूचना हरिद्वार ऋषिकेश में होने की भी मिली है। पुलिस ने बताया कि‌फिलहाल पूरे मामले की जांच की जा रही है।

उन्होंने बताया कि आरोपितों की पहचान करने की कोशिश की जा रही है। जिसके लिए स्टेशन पर लगे सीसीटीवी कैमरों की मदद ली जा रही है। जीआरपी पुलिस ने यह भी बताया कि महिला के बयानों से लगता है कि वह मुनिकीरेती क्षेत्र के ब्रह्मपुरी स्थित ओशो आश्रम में भी गई थी।