पर्यटन सचिव ने पैदल मार्ग द्वारा केदारनाथ धाम स्थित पुलिस चौकियों ओर देवस्थानम बोर्ड की व्यवस्थाओं का जायजा लिया



देहरादून/केदारनाथ 14जून । सचिव पर्यटन श्री दिलीप जावलकर ने आज पैदल मार्ग द्वारा केदारनाथ धाम का भ्रमण किया। उन्होंने पैदल मार्ग में स्थित पुलिस चौकियों  का भी निरीक्षण किया और वहाँ रजिस्टर आदि की जांच की। श्री जावलकर ने निर्देश दिये कि कोविड प्रोटोकॉल का पूरी गम्भीरता से पालन किया जाए।

सचिव श्री जावलकर ने केदारनाथ मंदिर परिसर में कोविड एप्रोप्रियेट बिहेवियर सुनिश्चित करने के लिए देवस्थानम बोर्ड की व्यवस्थाओं का भी जायजा लिया। उन्होंने कोविड को लेकर जारी एसओपी का  कङाई से पालन किये जाने के निर्देश दिये।

सचिव श्री जावलकर ने एसडीएम ऊखीमठ जितेंद्र वर्मा से केदारनाथ धाम से संबंधित सभी सूचनाएं उपलब्ध कराने के निर्देश दिये।

सचिव पर्यटन श्री दिलीप जावलकर ने पैदल ही केदारनाथ धाम जाकर वहाँ तीर्थ पुरोहितों से भी वार्ता की। श्री जावलकर ने कहा कि अभी भी कोविड को देखते हुए हर जरूरी सावधानी बरतने की आवश्यकता है। राज्य सरकार की पहली प्राथमिकता तीर्थ पुरोहितों, क्षेत्रवासियों सहित सभी के स्वास्थ्य की सुरक्षा सुनिश्चित करना है। सचिव श्री जावलकर ने सभी से राज्य सरकार द्वारा जारी एसओपी का पालन करने का आग्रह किया। बैठक के दौरान कोविड प्रोटोकॉल के अनुसार मास्क व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया गया।

सचिव पर्यटन श्री दिलीप जावलकर के केदारनाथ भ्रमण पर उनके साथ एसडीएम ऊखीमठ और सीईओ ऊखीमठ भी थे।

गौरतलब है कि मंडलायुक्त गढ़वाल और देवस्थानम बोर्ड के सीईओ श्री रविनाथ रमन ने भी यमुनोत्री व गंगोत्री धाम का भ्रमण कर वहां कोविड को लेकर एसओपी के पालन का जायजा लिया था।

वर्दी की आड़ में लग्जरी गाड़ियों में नशे का कारोबार करते 2 पुलिसकर्मी सहित 4 लोग गिरफ्तार



रूद्रपुर 12 जून। पुलिस की वर्दी की आड़ लेकर नशे का कारोबार करने वाले पुलिस की गरिमा को भी गिराने से नहीं चूकते हैं। ऐसा ही शर्मसार वाक्य उधम सिंह नगर  में हुआ । पुलिस की वर्दी को शर्मसार करने वाले दो पुलिस कांस्टेबल सहित चार लोग आठ किलो चरस समेत उधम सिंह नगर पुलिस द्वारा गिरफ्तार किये गये हैं।

पत्रकार वार्ता में आज एसएसपी दिलीप सिंह कुंवर ने बताया कि मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने लालपुर बाजार की पुलिया के पास दो कारों में यह बडी बरामदगी हुई।

पुलिस के अनुसार एक कार होंडा अमेज संख्या यूके 04 एस 2114 में विपुल शैला पुत्र चंद्र शैला निवासी आदर्श कॉलोनी खटीमा ,पीयूष खड़ायत पुत्र बहादुर सिंह खड़ायत निवासी टिकरी खटीमा थे। ये दोनों दवाई कंपनी में मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव की नौकरी करते हैं।

जबकि दूसरी कार संख्या यूके 0 5 टीए 2091 में प्रभात सिंह बिष्ट पुत्र मोहन सिंह बिष्ट निवासी अमाउ, खटीमा, दीपक पांडे पुत्र मुरलीधर पांडे निवासी ग्राम खेती थाना लोहाघाट, चंपावत कार मै बैठे थे। जिनकी शिनाख्त करने पर पता चला कि यह दोनों पुलिस में कांस्टेबल हैं।

जिनके पास कब्जे से 8 किलो चरस व और  नशे के कारोबार में प्रयुक्त एक होंडा कार ओर दूसरे व्यक्ति की अमेज कार में  कब्जे से 1.94 किलो ग्राम चरस बरामद हुई। इन सभी को एनडीपीएस में गिरफ्तार कर लिया गया है।

पुलिस टीम में सीओ सितारगंज वीर सिंह, प्रभारी निरीक्षक किच्छा चंद्रमोहन सिंह, उप निरीक्षक राजेश पांडे, सत्येंद्र बुटोला, कांस्टेबल शंकर बिष्ट, त्रिलोक पांडे, प्रवेश गुप्ता और अर्जुन पाल शामिल थे।

17 मई श्री केदारनाथ एवं 18 मई श्री बदरीनाथ धाम के कपाट खुलेंगे, श्री गंगोत्री धाम के कपाट खुले, मुख्यमंत्री ओर पर्यटन मंत्री ने दी बधाई



 

ऋषिकेश/गंगोत्री 15 मई । श्री गंगोत्री धाम के कपाट आज शनिवार बैशाख शुक्ल तृतीया के शुभ मुहुर्त पर प्रात: 7 बजकर 31 मिनट पर खुल गये हैं। कल मां गंगा की भोग मूर्ति भैरों घाटी पहुंची थी आज प्रात: चार बजे मां गंगा की डोली ने गंगोत्री धाम के लिए प्रस्थान किया। इस अवसर पर मां गंगा की आरती हुई तथा जनकल्याण की कामना की गयी
श्री गंगोत्री धाम के कपाट खुलने पर प्रदेश के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत तथा पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने बधाई दी है।
उन्होंने यह भी बोला कि कोरोना महामारी के कारण चारधाम यात्रा स्थगित है स्थितियां सामान्य होने पर  ही चार धाम यात्रा शुरू हो सकेगी। श्रद्वालुजन अपने घरों में पूजा-अर्चना करें।

उल्लेखनीय है कि चारधाम यात्रा स्थगित होने के कारण धामों के कपाट सांकेतिक रूप से खुल रहे है। केवल पूजा परंपरा से जुड़े लोगों को ही धामों में जाने की अनुमति है। धामों में पूजा- अर्चना विधिवत रूप से चलती रहेगी।
कपाट खुलने के दौरान कोरोना बचाव मानकों का पालन किया गया। इस अवसर पर श्री गंगोत्री मंदिर समिति अध्यक्ष सुरेश सेमवाल,सचिव दीपक सेमवाल, राजेश सेमवाल, उपजिलाधिकारी भटवाड़ी देवेन्द्र सिंह नेगी,उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड के विशेष कार्याधिकारी/ प्रभारी अधिकारी गंगोत्री धाम राकेश सेमवाल, अरविंद सिंह नेगी, कल्याण सिंह नेगी आदि मौजूद रहे।
उल्लैखनीय है कि कल दोपहर में श्री यमुनोत्री धाम के कपाट खुल गये है।‌ तथा 17 मई सोमवार को 5 बजे श्री केदारनाथ धाम के कपाट खुलेंगे। आज श्री केदारनाथ भगवान की पंचमुखी डोली केदारनाथ पहुंचेगी।
देवस्थानम बोर्ड के अपर मुख्य कार्यकारी अधिकारी बी.डी सिंह डोली के साथ चल रहे हैं।
श्री बदरीनाथ धाम के कपाट 18 मई मंगलवार प्रात: 4 बजकर 15 मिनट पर खुल रहे हैं।
जबकि द्वितीय केदार मदमहेश्वर जी के कपाट 24 मई तथा तृतीय केदार तुंगनाथ जी तथा चतुर्थ केदार रूद्रनाथ जी के कपाट 17 मई को खुल रहे है।
श्री हेमकुंड साहिब एवं श्री लक्ष्मण मंदिर के कपाट खुलने की तिथि अभी निश्चित नहीं हुई है।

पुलिस ने रुद्रपुर, काशीपुर, गदरपुर,नानकमत्ता व दिनेशपुर में जागरूकता रैली निकालकर लोगो से कर्फ्यू के दौरान बाहर ना निकलने की अपील की



रुद्रपुर,11 मई। कोविड-19 के संक्रमण के चलते उधम सिंह नगर पुलिस ने रुद्रपुर, काशीपुर, गदरपुर,नानकमत्ता व दिनेशपुर में जागरूकता रैली निकालकर लोगो से कर्फ्यू के दौरान बाहर ना निकलने की अपील की ।इस दौरान समाजिक दूरी बनाए रखने, मास्क का प्रयोग करने तथा कर्फ्यू का पालन करने की सख्त हिदायत भी दी गई।

रुद्रपुर में एसपी सिटी ममता वोहरा व सीओ सिटी अमित कुमार के नेतृत्व में पुलिस ने जन जागरूकता रैली निकाली ।कोतवाली रुद्रपुर से शुरू हुई यह रैली गल्ला मंडी, भगत सिंह चौक, बाटा चौराहे, अग्रसेन चौक, गाबा चौक से होते हुए रामपुर बॉर्डर आदि स्थानों से गहरी इस दौरान प्रशासन ने लोगों से कोरोना संक्रमण से बचने के लिए घर पर रहकर कर्फ्यू का पालन करने की अपील की ।लोगों को समझाया गया कि वृद्धजनों ,गर्भवती महिलाओं व छोटे बच्चों को घर से ना निकलने दिया जाए।प्रशासन ने जानबूझकर कर्फ्यू का उल्लंघन करने पर कठोर कार्यवाही की चेतावनी दी।

काशीपुर में भी पुलिस ने रैली निकाली और लोगों को कोविड कर्फ्यू के दौरान स्वास्थ्य ,भोजन जैसी समस्या होने की स्थिति में पुलिस द्वारा हर संभव मदद देने का आश्वासन दिया गया।इसके अलावा गदरपुर,दिनेशपुर,नानकमत्ता में भी पुलिस ने लोगों को जागरूक किया।

बादल फटने से चिन्यालीसौड़ के पास ग्राम पंचायत कुमराडा हुवा जलमग्न,वही दूसरी ओर रुद्रप्रयाग राष्ट्रीय राजमार्ग भी हुआ बाधित



 

उत्तरकाशी के कुमराड़ा ग्राम में तीन मवेशियों की गई जान, 2 घंटे तक लगातार रही बारिश। दूसरी ओर रुद्रप्रयाग का राष्ट्रीय राजमार्ग भी हुआ बाधित

उत्तरकाशी/ रुद्रप्रयाग, 03 मई । सोमवार की  सांयकाल रुद्रप्रयाग के नरकोटा और सम्राट होटल के बीच अचानक राष्ट्रीय राजमार्ग के ऊपर पहाड़ी पर बादल फटने से सड़क पर अत्यधिक मलबा आ गया था।

तथा वहीं दूसरी ओर उत्तरकाशी के चिन्यालीसौड़ ग्राम पंचायत का एक गांव कुमराडा पूरा जलमग्न हो गया है गांव में अफरा-तफरी का माहौल उत्पन्न हो गया है ।जिसके कारण उत्तरकाशी का देश के शेष भागों से संपर्क कट गया है।

अब तक के इन घटनाक्रम में 3 मवेशी की मौत का समाचार प्राप्त हुआ हैैै। और लगाताार दो घंटे से बारिश जारी है।घटना की सूचना मिलते ही जिला पंचायत अध्यक्ष दीपक बिजल्वाण ने जिलाधिकारी उत्तरकाशी व आपदा प्रबंधन के प्रबंधक पटवाल से दूरभाष पर रिलीफ एवं रेस्क्यू टीम को तत्काल घटनास्थल पर पहुंचने को कहा । जहां बादल फटने से हुए नुकसान का सही आकलन किया जा सके व जरूरतमंदों को लाभ मिल सके। इधर जिला आपदा अधिकारी ने बताया कि गांव में भारी बारिश हुई है भारी बारिश से नाले का पानी बढ़ गया है।

 

वहीं दूसरी ओर रुद्रप्रयाग  के राष्ट्रीय राजमार्ग पर  भी बादल फटने से राष्ट्रीय राजमार्ग पर मलबे का ढेर आ गया। मलबे की चपेट में एक मैक्स वाहन UK07R7318 आ गया था, जिसमें कि वाहन चालक सहित कुल 4 लोग सवार थे, जिनको कि स्थानीय लोगों की मदद से सुरक्षित निकाल लिया गया ।तथा वाहन मलबे के साथ बहकर नदी किनारे चला गया है। सूचना पर आपदा प्रबंधन की टीम के साथ अधिकारी
मौके पर पहुंचे जिसमें पुलिस उपाधीक्षक गुप्तकाशी, उपजिलाधिकारी रुद्रप्रयाग, प्रभारी निरीक्षक कोतवाली रुद्रप्रयाग, कोतवाली रुद्रप्रयाग पुलिस, एसडीआरएफ, फायर सर्विस, डीडीआरएफ की टीमें मौजूद हैं।राष्ट्रीय राजमार्ग को खोलने/यातायात सुचारू किए जाने का प्रयास किया जा रहा है, जेसीबी कार्य कर रही है।

यह घटना आज सांयकाल राष्ट्रीय राजमार्ग के अतिरिक्त नरकोटा गांव में भी अतिवृष्टि के कारण बादल फटने की घटना घटित हुई जहां पर तत्काल पुलिस उपाधीक्षक गुप्तकाशी द्वारा अधीनस्थ पुलिस बल सहित पहुंचकर घटित घटना का जायजा लिया गया।जहां पर भी लोगों के आवासीय भवनों में मलवा इत्यादि घुस गया है।

देवाधिदेव जाख देवता के दहकते अंगारों पर नृत्य के साथ ही प्रसिद्ध जाख मेला संपन्न हुआ



ऋषिकेश/गुप्तकाशी 15 अप्रैल। गुप्तकाशी क्षेत्र के देवाधिदेव जाख देवता के दहकते अंगारों पर नृत्य के साथ ही प्रसिद्ध जाख मेला संपन्न हुआ, इस दौरान हजारों भक्तों ने भगवान ही यक्ष से आशीर्वाद ग्रहण सुख समृद्धि की कामना की। ठीक 2 बजे जैसे ही भगवान यक्ष नर पश्वा के रूप में अवतरित हुए, संपूर्ण केदार घाटी भगवान यक्ष के जयकारों से गूंजने लगी । जाख देवता के नर पश्वा ने विशाल अग्निकुंड में धधकते अंगारों पर तीन बार नंगे पांव नृत्य करके लोगों की बलाय ली। इस दौरान देवशाल कोठेड़ा के पुजारियों तथा स्थानीय 11 गांव के भक्तों ने भगवान यक्ष के प्रत्यक्ष दर्शन किए। भगवान जाख देवता को बरसात के देव के रूप में भी जाना जाता है। गत 3 दिनों से नारायण कोटि, कोठेड़ा और देवशाल के श्रद्धालुओं द्वारा गोठी का आयोजन किया गया था। संक्रांति को विशाल अग्निकुंड निर्मित, कर पुजारियों के मंत्रोचार के साथ ही इस हवन कुंड को अग्नि दी गई। रात भर यह लकड़िया जलती रही। सुबह विशाल अग्निकुंड का पूजन अर्चन कर भगवान जाख देवता का इंतजार करने लगे। नारायण कोटी गांव से भगवान यक्ष के नर पश्वा के रूप में हजारों श्रद्धालुओं के साथ ढोल नगाड़ा और रणभेरी के मधुर संगीत के साथ अपने देवशाल स्थित विंध्यवासिनी मंदिर पहुंचकर विश्राम किया। देवशाल गांव के बीचो-बीच स्थित इस मंदिर की तीन परिक्रमाएं पूर्ण कर कुछ पल यहां विश्राम लिया। तदुपरांत भगवान जाख की कंडी और जलते दिए के सानिध्य में यक्ष के नर पश्वा ने जाख मंदिर की ओर कूच किया। यहां पहुंचकर बांज के पेड़ के नीचे कुछ पल विश्राम करके ढोल नगाड़ों के सुंदर स्वर लहरी के टकराव के बीच में नर पश्वा के शरीर में भगवान यक्ष विराजित हुए ,और हजारों भक्तों के जयकारे के बीच में विशाल हवन कुंड के दहकते अंगारों पर तीन बार नृत्य करके लोगों की बलाएं ली। नृत्य के बाद भक्तों ने इस अग्निकुंड की राख भभूत को निकालकर प्रसाद रूप में ग्रहण किया। इस दौरान जाख मंदिर के चारों ओर विभिन्न प्रकार की दुकानें सुसज्जित हुई । दूरदराज क्षेत्रों से आए हुए धियाणियों ने एक दूसरे से मिलकर सुख-दुख साझा किया। गत वर्ष कोरोना काल के कारण सूक्ष्म स्वरूप में जाख मेला संपन्न हुआ था। लेकिन इस बार कोरोना काल की भयावहता के बावजूद भी आस्था और अध्यात्म पर सवार हज़ारों भक्त इस पल के साक्षी बने।

बैशाखी के अवसर पर प्रात: 8.30 बजे गौरामाई मंदिर गौरीकुंड के कपाट खुले,चारधाम यात्रा 2021



ऋषिकेश/गौरीकुंड( रुद्रप्रयाग): 14 अप्रैल।बैशाखी के अवसर पर आज प्रात: साढे़ आठ बजे मां गौरामाई के कपाट खुल गये है। इस तरह अब चारधाम में कपाट खुलने की भी शुरूआत हो गयी है। केदारनाथ धाम के मुख्य पड़ाव गौरीकुंड में मां गौरादेवी का प्राचीन मंदिर है। केदारनाथ धाम के कपाट खुलने से पहले प्रत्येक वर्ष बैशाखी के पावन अवसर पर गौरामाई मंदिर के कपाट खुलते है।

इस अवसर पर मठाधिपति संपूर्णानंद गोस्वामी,प्रबंधक कैलाश बगवाड़ी, हेली सेवा प्रबंधक भरत कुर्मांचली,प्रधान गौरीकुंड सोनी देवी,अंशुमान तिवारु,आनंद तिवारी,देवी गोस्वामी,महादेव गोस्वामी आदि
मौजूद रहे।

17 मई को खुलेंगे तृतीय केदार श्री तुंगनाथ जी के कपाट, चारधाम यात्रा 2021



 

मक्कूमठ( रूद्रप्रयाग): तृतीय केदार तुंगनाथ जी कपाट इस यात्रा वर्ष 17 मई मध्यान 12 बजे खुलेंगे।
शीतकालीन गद्दी स्थल से 16 मई को डोली तुंगनाथ जी के लिए रवाना होगी। चोपता रात्रि प्रवास करेगी।
तिथि तय होने के अवसर पर श्री मार्कण्डेय मंदिर मक्कूमठ के पुजारी गण, तुंगनाथ मंदिर के मैठाणी पुजारीगण हकहकूकधारी, मठाधिपति रामप्रसाद मैठाणी, देवस्थानम बोर्ड प्रबंधक प्रकाश पुरोहित, बलबीर नेगी मौजूद रहे।

 

24 मई को खुलेंगे द्वितीय केदार भगवान मदमहेश्वर जी के कपाट।,चारधाम यात्रा 2021



 

22 मई को उत्सव डोली प्रस्थान करेगी‌
ऋषिकेश/उखीमठ 14 अप्रैल। द्वितीय केदार भगवान श्री मदमहेश्वर जी के कपाट इस यात्रा वर्ष 24 मई को प्रात: बजे खुलेंगे। जबकि मदमहेश्वर जी की डोली 22 मई को शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर उखीमठ से मदमहेश्वर जी के लिए प्रस्थान करेगी। 22 को रांसी पहुंचेगी,23 को गोंडार, 24 मई को सिंह लग्न में पूर्वाह्न 11 बजे लगभग कपाट खुलेंगे।
बैशाखी के अवसर पर पंचगाई आचार्य, देवस्थानम बोर्ड, आचार्यों वेदपाठियों की उपस्थिति में भगवान मदमहेश्वर जी के कपाट खुलने की तिथि तय हुई। इस अवसर पर कार्याधिकारी केदारनाथ एनपी जमलोकी, पूर्व विधायक आशानौटियाल, एलपी भट्ट, पत्रकार लक्ष्मण सिंह नेगी, वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी राजकुमार नौटियाल, लेखाकार आरसी तिवारी, केदारनाथ मंदिर सुपरवाईजर /प्रशासनिक अधिकारी यदुवीर पुष्पवान सहित वेदपाठी यशोधर मैठाणी, विश्व मोहन जमलोकी, पुजारी शिवशंकर, बागेश लिंग, मनोज शुक्ला, प्रेमसिंह रावत,पुष्कर रावत, मदन पंवार,विशंभर पंवार,भगवती शैव,विदेश शैव आदि मौजूद रहे।

चार धाम यात्रा  व्यवस्था को लेकर बर्फबारी व वर्षा के बीच डीएम ने किया स्थलीय निरीक्षण 



उत्तरकाशी 23   उत्तरकाशी के जिलाधिकारी ने
चारधाम यात्रा व्यवस्था की तैयारीयो को लेकर  गंगोत्री -गोमुख ट्रेक का भी कनखू बैरियर तक स्थलीय निरीक्षण किया
आधारभूत सुविधाओं एवं निर्माण कार्यों का जिलाधिकारी  मयूर दीक्षित ने स्थलीय निरीक्षण कर जायजा लिया। मंगलवार को जिलाधिकारी ने बर्फबारी और रिमझिम बारिश के बीच  गंगोत्री यात्रा का जायज लिया। गंगोत्री में राजकीय एलोपैथिक चिकित्सालय, स्नान घाट,स्वच्छता व्यवस्था,पेयजल, बिजली आपूर्ति आदि मूलभूत व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया। स्नान घाट के निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने कार्यदायी संस्था को मजदूरों की संख्या बढ़ाने व गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखते हुए तेजी से कार्य करने के निर्देश दिए।यात्रा से पूर्व सभी स्नान घाटों के निर्माण कार्य पूर्ण करने को कहा। नदी का जल स्तर बढ़ने से गंगोत्री धाम परिसर के सुरक्षा के दृष्टिगत नदी के किनारे में मजबूत सुरक्षा दीवार लगाने के निर्देश दिए। पेयजल की आपूर्ति सुचारू करने हेतु ईई जल संस्थान को सभी पेयजल लाइनों को दुरुस्त करने के निर्देश दिए। विद्युत संयोजन व झूलती तारों को ठीक करने के निर्देश ईई विद्युत को दिए। 
         धाम परिसर में एकरूपता लाने के लिए एक ही रंग का चयन कर सभी धर्मशालाओं,भवनों में रंग रोगन करने के निर्देश दिए। यात्रा के दौरान सफाई व्यवस्था दुरुस्त रखने हेतु ईओ को निर्देश दिए। कूड़ा इधर उधर फैंकने वालों के चालान किए जाय इस हेतु अभी से पुख्ता व्यवस्था सुनिश्चित की जाय। धाम परिसर व स्नान घाट में पुरानी व खराब पड़ी स्ट्रीट लाइटों को हटाने के निर्देश दिये। एलोपैथिक चिकित्सालय के मरमत्तीकरण का कार्य शीघ्र कराने के निर्देश दिए। ताकि यात्राकाल के दौरान यात्रियों व श्रद्धालुओं को बेहतर चिकित्सा  सुविधा दी जा सके।
  जिलाधिकारी ने गंगोत्री -गोमुख ट्रेक का भी कनखू बैरियर तक स्थलीय निरीक्षण किया। 
    निरीक्षण के दौरान ईई जल संस्थान बीसी डोगरा,ईई आरईएस विश्व मित्र  रावत, डिप्टी डायरेक्टर गंगोत्री नेशनल पार्क  श्रीवास्तव, अध्यक्ष मंदिर समिति सुरेश सेमवाल सहित तीर्थ पुरोहित एवं अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।, मार्च  ।