पब्लिक स्कूल में स्कूली बच्चों के हाथों में बंधे (कलावा) रक्षा सूत्र को खुलवाने और माथे पर लगे तिलक को हटवाने के लगे आरोप, अभिभावको और हिंदू संगठनो ने स्कूल प्रबंधन के खिलाफ प्रदर्शन कर जताया कड़ा विरोध,



ऋषिकेश 27 फरवरी। पब्लिक स्कूल में स्कूल विद्यार्थियों के हाथ में बंधे कलावा को खुलवाने और स्कूली बच्चों के माथे पर लगे तिलक को मिटाने जाने के आरोप को लेकर स्कूल प्रबंधन के खिलाफ़ स्कूली बच्चों के अभिभावकों द्वारा नाराजगी जताते हुए  जमकर विरोध किया कर स्कूल प्रबंधन का पुतला फूंका गया। तो वहीं, भाजपा युवा मोर्चा व ग्राम प्रधान द्वारा स्कूल प्रशासन का पुतला भी दहन किया गया। 

मंगलवार को डोईवाला क्षेत्र में उसे वक्त हंगामा हो गया जब अभिभावकों को सूचना मिली कि एक पब्लिक स्कूल में उनके बच्चों के माथे पर लगा तिलक मिटा दिया और हाथ में बंधा रक्षा सूत्र (कलावा) जबरन खोल दिया है। बजरंग दल के विभाग संयोजक नरेश उनियाल ने बताया कि डोईवाला स्थित दि हॉरिजन स्कूल के टीचर द्वारा विधार्थियों के हाथ का कलावा और माथे का टीका मिटाया गया। यही नहीं जिन सिख बच्चों ने हाथ में कढ़ा पहना था उनसे कढ़ा उतरवा दिया गया, जिससे अभिभावकों का आक्रोश बढ़ गया।इसकी भनक लगने पर एकत्रित हुए अभिभावकों ने स्कूल प्रबंधन का जमकर विरोध किया। गुस्साए अभिभावकों ने स्कूल पहुंच कर स्कूल के बाहर प्रदर्शन किया। जब तक प्रबंधक माफी न मांगे तब तक सभी अपनी बात पर अडिग रहे। बताया जा रहा है कि काफी जद्दोजहद के बाद स्कूल प्रबंधन द्वारा माफी मांगे जाने पर गुस्साए अभिभावक शांत हुए। चेताया कि इस तरह की धर्म विरोधी घटना दोबारा हुई तो उग्र आंदोलन के लिए बाध्य होंगे।

बजरंग दल के विभाग संयोजक नरेश  उनियाल ने बताया कि स्कूल प्रबंधक द्वारा माफी मांगने जाने पर मामला शांत हुआ। स्कूल प्रबंधक से दो टूक कहा कि पुनः स्कूल में इस तरह से धर्म विरोधी घटना हुई तो संगठन उग्र आन्दोलन करेगा।

वहीं, भाजपा युवा मोर्चा जिला मंत्री आयुष रावत, ग्राम प्रधान छिद्दरवाला सोबन सिंह कैंतुरा ने स्कूल प्रशासन का पुतला दहन किया।

इस पूरे मामले को लेकर जब स्कूल प्रबंधक से उनका पक्ष जानने के लिए प्रयास किए गए, परंतु उनसे  कोई संपर्क नहीं हो पाया।

विरोध प्रदर्शन में संपूर्ण रावत, विक्रम चंद, दीपक कपुरवाण, मनीष सजवाण, विजय, रॉबिन, विकास, सचिन, गणेश, राकेश, गोपाल, सौम्या, त्रिलोक प्रसाद भट्ट, नीरज आदि शामिल रहे।

भाजपा चुनाव संचालन समिति ने 5 सीटों के लिए भेजे 55 दावेदारों के नाम



देहरादून 27 फरवरी । भाजपा प्रदेश चुनाव संचालन समिति ने आज सभी 5 लोकसभा सीटों के लिए 55 दावेदारों के नाम केंद्रीय नेतृत्व को भेज दिए हैं ।

पार्टी मुख्यालय में हुए इस बैठक की जानकारी देते हुए प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र भट्ट ने कहा, चुनाव संचालन समिति में मुख्यमंत्री  पुष्कर धामी, प्रदेश प्रभारी दुष्यंत गौतम के साथ प्रदेश चुनाव समिति के सदस्यों, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष एवं अन्य वरिष्ठ पदाधिकारियों द्वारा लोकसभा चुनाव प्रत्याशियों के नामों पर विस्तार से चर्चा हुई ।

इस दौरान सभी लोकसभा सीटों पर संभावित उम्मीदवारों को लेकर भेजे गए पार्टी पर्यवेक्षकों की रिपोर्ट प्रस्तुत की गई । जिसमे स्थानीय कार्यकर्ताओं की राय, सामाजिक संतुलन और रणनीतिक दृष्टि से विचार विमर्श कर केंद्र को भेजे जाने वाले नामों को फाइनल किया गया। उन्होंने बताया कि लोकसभा सीटों के लिए न्यूनतम 5 और अधिकतम 9 नामों का पैनल को अंतिम रूप दिया गया। इस तरह राज्य की पांचों सीटों पर कुल 55 नामों को पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व को प्रेषित किया जा रहा है । उन्होंने उम्मीद जताई कि शीघ्र ही पार्टी के केंद्रीय पार्लियामेंट्री बीर्ड इन नामों पर विचार कर लोकसभा उम्मीदवारों की घोषणा करेगा ।

बैठक में केंद्रीय राज्य मंत्री  अजय भट्ट राष्ट्रीय सह कोषाध्यक्ष राज्यसभा सांसद  नरेश बंसल राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी राज्यसभा सांसद अनिल बलुनी पूर्व सीएम डॉ रमेश पोखरियाल निशंक,  त्रिवेंद्र सिंह रावत, तीरथ सिंह रावत, , सांसद महारानी माला राज्यलक्ष्मी शाह, अजय टम्टा,  कल्पना सैनी, प्रदेश में कैबिनेट मंत्री डाक्टर धन सिंह रावत,  सतपाल महाराज, प्रदेश महामंत्री संगठन अजय कुमार, प्रदेश उपाध्यक्ष कुलदीप कुमार, प्रदेश महामंत्री  आदित्य कोठारी,  खिलेंद्र चौधरी,  राजेंद्र बिष्ट, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष  विशन सिंह चुफाल,  बंशीधर भगत,  मदन कौशिक, पार्टी के राष्ट्रीय मोर्चा पदाधिकारी  दीप्ति रावत, स्वराज बिद्धवान  सुरेश भट्ट, महिला मोर्चा अध्यक्ष  आशा नौटियाल सहित अन्य संचालन समिति सदस्य मौजूद रहे।

उत्तराखंड में वित्त मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल ने 89 हजार 230 करोड रुपए का बजट किया पेश, उत्तराखंड में धामी सरकार ने बजट पेश करने के समय की परिपाटी को भी बदला, उत्तराखण्ड को वैश्विक स्तर पर नई पहचान प्रदान करने में यह बजट महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा: पुष्कर सिंह धामी



देहरादून 27 फरवरी । उत्तराखंड में आज बजट सत्र के दौरान धामी सरकार में वित्त मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल ने 89 हजार 230 करोड रुपए का बजट पेश किया। जो कि उत्तराखंड सरकार का अब तक का सबसे बड़ा बजट है।

जिसको लेकर उत्तराखंड में धामी सरकार ने आज एक और परंपरा  भी बदली है ,  अलग राज्य बनने के बाद से ही उत्तराखंड में बजट पेश करने का वक्त शाम 4 बजे ही रहा। परंतु धामी सरकार के द्वारा आज दोपहर 12:30 बजे ही बजट पेश कर दिया गया।  मतलब 2023 तक सभी सरकारों ने शाम 4 बजे बजट पेश किया गया था। 

परन्तु अब धामी सरकार ने इस परंपरा को बदल दिया है। आज विधानसभा में दोपहर साढ़े 12 बजे बजट पेश किया गया। वित्त मंत्री प्रेम चंद अग्रवाल ने 89 हजार 230 करोड़ रुपये का बजट पेश किया। ये उत्तराखंड के इतिहास का अब तक का सबसे बड़ा बजट है। सरकार का दावा है कि हर तबके के कल्याण के लिए बजट में प्रावधान किया गया है। महिला कल्याण को लेकर भी बजट में तमाम बातें कही गई हैं। सरकार ने मिलेट मिशन के लिए 7 करोड़ रुपये का प्रावधान किया है। ग्रामीण इलाकों में मिनी स्टेडियम बनाने के लिए 15 करोड़ रुपये, राष्ट्रीय खेलों के आयोजन के लिए 230 करोड़ रुपये का बजट रखा गया है। जमाने बांध और लखवाड़ परियोजना के लिए भी सरकार ने अलग से बजट का प्रावधान किया है।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कुशल मार्गदर्शन में हमारी डबल इंजन सरकार ने आज उत्तराखण्ड के समग्र विकास के दृष्टिगत ₹89,230 करोड़ का समावेशी एवं विकासोन्मुखी बजट पेश किया है।

उन्होने यह भी कहा कि उन्नत कृषि, बेहतर शिक्षा व्यवस्था, स्वास्थ्य सुविधाओं का विस्तार, महिला सशक्तिकरण, विकसित पर्यटन क्षेत्र, युवाओं के उत्थान और बुजुर्गों के लिए विशेष योजनाओं के संचालन के साथ ही उत्तराखण्ड को वैश्विक स्तर पर नई पहचान प्रदान करने में यह बजट महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा उत्तराखण्ड में टनकपुर, काशीपुर व कोटद्वार रेलवे स्टेशन के पुनर्विकास शिलान्यास समारोह में मुख्यमंत्री ने किया वर्चुअल रूप से प्रतिभाग,प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की दूरदर्शिता और स्पष्ट विजन के कारण ही आज ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रैल योजना का 50 फीसदी से अधिक कार्य पूर्ण: पुष्कर सिंह धामी



देहरादून 26 फरवरी। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने देहरादून स्थित विधानसभा भवन से टनकपुर, काशीपुर व कोटद्वार रेलवे स्टेशन के पुनर्विकास शिलान्यास समारोह में वर्चुअल रूप से प्रतिभाग किया। उन्होंने प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी एवं रेलमंत्री  अश्विनी वैष्णव का आभार प्रकट किया।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा किए गए 554 रेलवे स्टेशनों के पुनर्विकास शिलान्यास के वृहद कार्य ने देश में आज एक और नया कीर्तिमान बनाया है।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तराखण्ड में 40 करोड़ रूपए से अधिक की लागत से पुनर्विकास के लिए चयनित इन तीनों रेलवे स्टेशनों के पुनर्विकास से कुमाऊँ क्षेत्र में Rail Connectivity बढ़ने के साथ ही लोगों को स्टेशन पर अत्याधुनिक सुविधाएं भी मिल सकेंगी। आज जहां एक ओर Broad Gauge Rail Line से मानव रहित Rail Crossing को खत्म कर भारतीय Railway को पहले से कहीं अधिक सुरक्षित बनाया गया है तो भारतीय रेलवे की रफ्तार भी पहले से कहीं अधिक बढ़ चुकी है।

मुख्यमंत्री ने कहा, कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की दूरदर्शिता और स्पष्ट विजन के कारण ही आज ऋषिकेश-कर्णप्रयाग Rail Line का 50 फीसदी से अधिक कार्य पूर्ण हो चुका है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा प्रारंभ की गई। 

उन्होने कहा कि  #AmritBharatStationScheme, रेलवे स्टेशनों के पुनर्विकास और बदलते भारत का प्रतिबिंब है। रेलवे स्टेशन “मॉडर्न विजन” के साथ विकसित किए जा रहे हैं, लेकिन इस विकास के बीच भी, हमने अपनी संस्कृति और विरासत को कतई नहीं भुलाया है। जिन स्टेशनों के पुनर्विकास की नींव आज रखी गई है। उन्हें स्थानीय संस्कृति, विरासत और वास्तुकला के आधार पर विकसित किया जाएगा।

इस अवसर पर संबंधित पदाधिकारी व अधिकारी उपस्थित रहे।

मंहत सीता रामदास हिमालय जूनियर हाई स्कूल में आयोजित हुए भाषा प्रतियोगिता एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम , बच्चों को उनकी रुचि के हिसाब से ढालकर ही उनको सफल बनाया जा सकता है : डॉ राजे सिंह नेगी



ऋषिकेश ,26 फरवरी‌। ऋषिकेश गंगानगर स्थित मंहत सीताराम दास हिमालय जूनियर हाई स्कूल‌‌ में आयोजित लैंग्वेज कंपटीशन एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम के उपरांत प्रतिभागी बच्चों को ‌पारितोषित भी वितरित किए गए।

सोमवार को विधालय के संस्थापक संचालक मंहत निर्मल दास की अध्यक्षता में आयोजित कार्यक्रम का शुभारंभ समाजसेवी ‌डा राजे नेगी, दिनेश सुंदरियाल राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिल भारतीय ट्रेड यूनियन कांग्रेस, एवं लाइफ कोच प्रशांत सिंह, राजीव थपलियाल,ने संयुक्त रूप से दीप‌‌ प्रज्वलित कर किया।

इस अवसर पर गढ़वाली, पंजाबी ,कुंमाऊनी सहित अन्य भाषाओं में नृत्य एवं गीतों की प्रस्तुति भी दी गई , जिसने उपस्थिति को मंत्र मुग्ध करते हुए तालियां बजाने के लिए मजबूर कर दिया।

इस दौरान कार्यक्रम में ‌प्रशांत सिंह ने ‌मुख्य‌ वक्ता के रूप में उपस्थित को‌ सम्बोधित करते हुए कहा कि किसी भी कार्य को करने के लिए ‌मन को स्थिर रखना होगा,तभी बच्चे जीवन में सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

इस अवसर पर समाजसेवी डॉक्टर राजे सिंह नेगी ने कहा कि बच्चे एक कुम्हार की मिटटी के‌ समान‌ होते है ,जिसे‌‌ उसकी‌ रुची‌ के‌ हिसाब से ढालना होता है‌ तभी‌‌ बच्चों को‌ सफलता तक पहुंचाया जा सकता है।

भाषा प्रतियोगिता में ऋषि, अश्विका , शुभांगम, दीप्ति, सालवी ,अवनी, कविश, परी, अनिरुद्ध  ने प्रतिभाग किया।

सांस्कृतिक कार्यक्रम में शगुन, सौम्या, शिवांश, दीप्ति आदि ने प्रतिभाग किया।
इस अवसर पर स्कूल की शिक्षाएं दीपिका कोठियाल, प्रियंका त्यागी ,शिवानी, रिंपी ,तुषारिका ,श्वेता ,अंशिका रंजना बिष्ट  भिस्तनीलम नेगी पूजा देवी सहित  विद्यालय की प्रधानाचार्य रश्मि काला उपस्थित रहीं ।

इस अवसर पर कांग्रेस के प्रदेश इंटक अध्यक्ष अभिषेक भट्ट, विनोद सकलानी पार्षद, आशीष रणकोटी जिला अध्यक्ष यूथ कांग्रेस, सहित काफी संख्या में अभिभावक और अतिथि मौजूद थे।

जौनसार बावर सेवानिवृत कर्मचारी मण्डल द्वारा आयोजित दो दिवसीय जौनसार बावर सांस्कृतिक महोत्सव में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने किया प्रतिभाग



देहरादून 25 फरवरी। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने देहरादून में जौनसार बावर सेवानिवृत कर्मचारी मण्डल द्वारा आयोजित दो दिवसीय जौनसार बावर सांस्कृतिक महोत्सव के समापन अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में प्रतिभाग किया।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने जौनसार बावर भवन निर्माण के लिए 2 करोड़ 50 लाख रुपए देने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि इस भवन का उपयोग जरूरतमंद छात्रों के अध्ययन के लिये भी किया जाए।

उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड अध्यात्म और योग की भूमि होने के साथ-साथ संस्कृति, साहित्य और कला की भूमि भी है। उत्तराखण्ड ही नहीं राष्ट्रीय स्तर पर अगर कहीं पौराणिक लोक संस्कृति को जीवित रखने और संजोए रखने का कार्य प्रमुखता से किया गया है तो वो हमारा जौनसार बावर का क्षेत्र है।

उन्होंने कहा कि यह सांस्कृतिक समारोह हमारी विलुप्त होती लोक विरासत को संरक्षण प्रदान करने के साथ आने वाली पीढ़ी को हमारी लोक संस्कृति से परिचित कराने का कार्य कर रहा है।

इस अवसर पर विकासनगर विधायक  मुन्ना सिंह चौहान, जिला पंचायत अध्यक्ष  मधु चौहान, सेवावृत्त कर्मचारी मण्डल के अध्यक्ष  रणवीर सिंह तोमर, संरक्षक  तुलसी सिंह तोमर, उपाध्यक्ष  अतर सिंह, सूचना विभाग के संयुक्त निदेशक  के.एस. चौहान समेत विभिन्न लोग मौजूद रहे।

एम्स ऋषिकेश में नेशनल मेडिकोज ऑर्गनाइजेशन के दो दिवसीय राष्ट्रीय अधिवेशन का मुख्यमंत्री ने किया शुभारंभ, स्वास्थ्य के क्षेत्र में लाभार्थियों तक सुविधाओं को पहुंचाने के लिए केंद्र एवं राज्य सरकार के परस्पर समन्वय से हो रहा कार्यों का सफल सम्पादन: पुष्कर सिंह धामी 



ऋषिकेश 24 फरवरी । मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने अधिवेशन में आए चिकित्सक एवं छात्रों का उत्तराखंड में स्वागत करते हुए कहा कि स्वामी विवेकानंद को अपना आदर्श मानने वाला यह संगठन निरंतर ’नर सेवा नारायण सेवा’ के भाव से देश में अपनी स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान कर रहा है। देश के विभिन्न स्थानों पर चिकित्सकों और छात्रों द्वारा स्वास्थ्य से जुडे विभिन्न विषयों पर चिंतन करना सराहनीय प्रयास है। इस प्रकार ’’स्वास्थ्य सेवा से राष्ट्र सेवा’’ और ’’स्वास्थ्य सेवा ही राष्ट्र सेवा’’ के सिद्धांत को अपनाकर संगठन द्वारा अंत्योदय की भावना से कार्य किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कुशल नेतृत्व में भारत में स्वास्थ्य के क्षेत्र में पिछले 10 वर्षों में ऐतिहासिक कार्य हुए हैं। साथ ही स्वास्थ्य के विभिन्न क्षेत्रों में निरंतर सुधार जारी है, इनमें सस्ते उपचार व दवाइयां, ग्रामीण स्तर पर आधुनिक स्वास्थ्य सुविधाएं, मानव संसाधन का विकास और स्वास्थ्य सेवा तक पहुंच बढ़ाने के लिए तकनीक का उपयोग आदि शामिल है। उन्होंने कहा कि केंद्र एवं राज्य सरकार स्वास्थ्य सेवा में अंत्योदय की सोच के साथ कार्य कर रही है। पिछले दस वर्षों में देश में 200 से अधिक नए मेडिकल कॉलेजों का निर्माण हुआ है। वर्तमान में 22 से अधिक एम्स में लोगों को स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान की जा रही हैं। साथ ही योग और आयुष को लेकर देश में और अधिक जागरूकता आई है। विश्व में योग को लेकर आकर्षण बढ़ा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वच्छ भारत अभियान एवं जल जीवन मिशन ने कई रोगों की रोकथाम में सहायता की है। पोषण अभियान देश में कुपोषण को नियंत्रित करने में सहायक सिद्ध हुआ है। राष्ट्रीय टेली-मेडिसिन सेवा-ई-संजीवनी ने सूचना और संचार प्रौद्योगिकी का उपयोग सुदूर क्षेत्र में स्थित रोगियों के डायग्नोसिस, उपचार और प्रबंधन को सक्षम करने के लिए किया है। इनके उपयोग से सुदूर गांव में रहने वाला कोई व्यक्ति भी शहरों में रहने वाले चिकित्सकों से शुरुआती परामर्श प्राप्त कर सकता है। स्वास्थ्य क्षेत्र के बुनियादी ढांचे को मजबूत करने के लिए आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन शुरू किया गया है। जो स्वास्थ्य सेवाओं को और अधिक सुदृढ़ बनाने में मील का पत्थर साबित होगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में लाभार्थियों तक सुविधाओं को पहुंचाने के लिए केंद्र एवं राज्य सरकार के परस्पर समन्वय से कार्यों का सफल सम्पादन किया जा रहा है। प्रदेश में सभी को निःशुल्क स्वास्थ्य सुरक्षा प्रदान करने के साथ ही कैशलेस उपचार देने की दिशा में अटल आयुष्मान योजना प्रभावी साबित हो रही है। अब तक करीब 55 लाख से ज्यादा लोगों का आयुष्मान कार्ड होल्डर के रूप में पंजीकरण हो चुका है। अटल आयुष्मान योजना और आयुष्मान कार्ड की सहायता से 5 लाख से अधिक मरीजों ने समय पर अपना इलाज भी कराया है। प्रदेश सरकार जच्चा-बच्चा की सुरक्षा के लिए प्रदेश सरकार कई योजनाएं चला रही है। गर्भवती महिलाओं के लिए ’जननी सुरक्षा योजना’ के अंतर्गत मातृ एवं शिशु मृत्यु दर में कमी लाने के लिए इस योजना का संचालन किया जा रहा है। इन्द्रधनुष योजना के तहत बच्चों का निःशुल्क टीकाकरण किया जा रहा है। आमजन की मधुमेह, रक्तचार, स्तन कैंसर एवं मुंह के कैंसर की निःशुल्क जाँच तथा स्क्रीनिंग के लिए हैल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टर संचालित किए जा रहे है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हैल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टर के माध्यम से आम जनमानस को उनके क्षेत्रों में स्वास्थ्य लाभ प्रदान करने के लिए जन आरोग्य अभियान का आयोजन किया जा रहा है। राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन का उद्देश्य क्षय रोगियों को रोग मुक्त करना है, जिसके लिए भारत को क्षय मुक्त बनाने के लिए 2025 का लक्ष्य रखा गया है। जबकि राज्य सरकार द्वारा वर्ष 2024 तक इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए धरातल पर कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में भारत ने संपूर्ण विश्व का नेतृत्व किया। कोरोनाकाल में देश के साथ विदेशों में भी निःशुल्क वैक्सीन दी गई। प्रधानमंत्री जी द्वारा शुरू किए गए हर अभियान का लाभ अंतिम छोर पर खड़े व्यक्ति को मिल रहा है। उन्होंने कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा दिए गए लक्ष्य की प्राप्ति के लिए राज्य सरकार ’’विकल्प रहित संकल्प’’ के आधार पर निरंतर कार्य कर रहे हैं। सभी के सहयोग से हम स्वस्थ, समृद्ध, सशक्त और आत्मनिर्भर उत्तराखण्ड का निर्माण करने में सफल होंगे।

इस अवसर पर कैबिनेट मंत्री प्रेमचंद्र अग्रवाल, डॉ. धन सिंह रावत, निदेशक एम्स प्रो. मीनू सिंह, आरएसएस सह सरकार्यवाह डॉ. कृष्ण गोपाल, परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानंद मुनि एवं अन्य लोग मौजूद थे।

देश में पहली बार उत्त्तराखण्ड में UCC कानून लाने के लिए पूर्व महापौर ने मुख्यमंत्री का जताया आभार



ऋषिकेश 24 फरवरी ।  मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ऋषिकेश आगमन पर नि. वर्तमान महापौर अनिता ममगाईं ने UCC लाने के लिए जताया आभार और इस दौरान अनेक भाजपा कार्यकर्ताओं संग उन्हें एक धार्मिक पुस्तक भी भेंट की।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के ऋषिकेश आगमन पर नि.वर्तमान महापौर ने उनका स्वागत किया साथ ही भारतीय जनता पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ उन्हें धार्मिक पुस्तक स्वर्वेद भेंट की. एम्स में एक कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का नि. वर्तमान महापौर अनिता ममगाई ने भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं के साथ आभार भी जताया सबसे पहले देश में उत्त्तराखण्ड में UCC कानून लाने के लिए। इस दौरान मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने नि. महापौर को धन्यवाद कहा और वे सभी कार्यकर्ताओं से बड़े स्नेह से मिले एम्स हेलीपैड पर। मुलाकात के बाद अनिता ममगाईं ने कहा मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के नेतृत्व में राज्य विकास के नए मुकामों से जुड़ रहा है. हमें ख़ुशी है उत्तराखंड में देश में सबसे पहले UCC लागू किया है. इसका श्रेय  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में और मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के नेतृत्व को जाता है।उन्हीं की दृढ़ इच्छा से यह संभव हो पाया है. हमने उनका आज आभार व्यक्त किया।

उनको इस दौरान एक धार्मिक पुस्तक स्वर्वेद भी भेंट की. मुलाकात के दौरान पंकज शर्मा, नितिन सक्सेना, विवेक शर्मा, अमनदीप नेगी, विशाल शाही आदि कार्यकर्ता मौजूद रहे।

छात्रों एवं युवाओं के कौशल विकास हेतु एनएसई की गौरव योजना एवं शोध अनुदान वितरण का मुख्यमंत्री ने किया शुभारंभ, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के साथ हुआ हमारा समझौता एक गेमचेंजर साबित होने जा रहा: पुष्कर सिंह धामी



देहरादून 23 फरवरी । देहरादून में नेशनल स्टॉक एक्सचेंज द्वारा युवाओं के कौशल विकास हेतु संचालित योजना का शुभारम्भ एवं MoU व मुख्यमंत्री उच्च शिक्षा शोध प्रोत्साहन योजना का शुभारम्भ एवं DBT के माध्यम से शोध अनुदान राशि का हस्तान्तरण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। 

मुख्युमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने आज मुख्यमंत्री आवास सभागार में उच्च शिक्षा विभाग के अंतर्गत छात्रों एवं युवाओं के कौशल विकास हेतु नेशनल स्टॉक एक्सचेंज की गौरव योजना और मुख्यमंत्री उच्च शिक्षा शोध प्रोत्साहन योजना एवं शोध अनुदान वितरण का शुभारंभ किया।

मुख्यमंत्री ने बताया कि उच्च शिक्षा शोध प्रोत्साहन योजना एवं शोध अनुदान वितरण के अंतर्गत प्राप्त हुए 500 शोध प्रस्तावों में से चयनित 44 शोध प्रस्तावों के लिए लगभग 3 करोड़ 66 लाख रूपए की शोध अनुदान राशि स्वीकृत की गई है। इसकी प्रथम किश्त के रूप में लगभग 1 करोड़ 83 लाख रुपए सीधे DBT के माध्यम से हस्तांतरित किए गए हैं।

इस अवसर पर उच्च शिक्षा ग्रहण कर रहे राज्य के युवाओं के कौशल संवर्धन और उनको प्लेसमेंट देने के लिए उच्च शिक्षा विभाग द्वारा नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के साथ गौरव योजना के लिए एमओयू भी साइन किया गया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि विगत कुछ वर्षों में राज्य के उच्च शिक्षा के गुणात्मक विकास के लिए अनेक योजनाओं के माध्यम से सरकार द्वारा लगातार अभिनव प्रयास किए गए हैं। इन्हीं प्रयासों की श्रृंखला में राज्य की महत्वाकांक्षी योजना “मुख्यमंत्री उच्च शिक्षा शोध प्रोत्साहन योजना“ की शुरुआत की गई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में अनेक विकास कार्य हो रहे हैं। विकसित भारत के लिए यह अमृत काल है। विकसित भारत बनाना 140 करोड़ देशवासियों का संकल्प है।

उन्होंने कहा कि ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट के मुंबई रोड शो के दौरान नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के साथ हुआ हमारा समझौता एक गेमचेंजर साबित होने जा रहा है।मुख्यमंत्री ने कहा कि 2025 तक इस क्षेत्र में पांच गुना विस्तार की संभावनाएं हैं और NSE के सहयोग से हम उच्च शिक्षा में अध्यनरत छात्रों सहित अन्य युवाओं को इसके लिए उपयुक्त मानव संसाधन के रूप में परिवर्तित कर सकते हैं, जिसके दूरगामी परिणाम दिखेंगे।

इस अवसर पर शिक्षा मंत्री डॉ. धन सिंह रावत, कृषि मंत्री  गणेश जोशी, सचिव उच्च शिक्षा शैलेश बगौली, मैनेजिंग डायरेक्टर एवं सीईओ एनएसई  आशीष चौहान, पूर्णकालिक सदस्य सेबी कमलेश चन्द्र वार्ष्णेय, वाइस चेयरमैन हायर एजूकेशन कमेटी  देवेन्द्र भसीन, सचिव आर. मीनाक्षी सुंदरम सहित संबंधित पदाधिकारी एवं अधिकारीगण उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री ने क्षेत्रीय कनेक्टिविटी स्कीम के अंतर्गत संचालित की जा रही हेली सेवा का किया वर्चुअल रूप से शुभारम्भ, सेवा के प्रारंभ होने से सीमावर्ती क्षेत्र के लोगों को यात्रा करने के लिए एक नया और बेहतर विकल्प मिला: पुष्कर सिंह धामी



 देहरादून 22 फरवरी । मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मुख्यमंत्री आवास, सभागार में नागरिक उड्डयन विभाग द्वारा आयोजित कार्यक्रम में हल्द्वानी से मुनस्यारी, पिथौरागढ़, चम्पावत हेतु क्षेत्रीय कनेक्टिविटी स्कीम के अंतर्गत संचालित की जा रही हेली सेवा का वर्चुअल रूप से शुभारम्भ किया।

मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी और केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री  ज्योतिरादित्य सिंधिया का हार्दिक आभार व्यक्त करते हुए कहा कि इस हवाई सेवा की लम्बे समय से प्रतीक्षा थी, इससे जहां एक ओर पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा, वहीं रोजगार के नए अवसर भी सृजित होंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि देहरादून से पिथौरागढ़ तक फिक्सड विंग एयरक्राफ्ट सेवाएं विगत 30 जनवरी 2024 से शुरू की जा चुकी है। इस सेवा के प्रारंभ होने से सीमावर्ती क्षेत्र के लोगों को यात्रा करने के लिए एक नया और बेहतर विकल्प मिला है।

कार्यक्रम में रक्षा एवं पर्यटन राज्य मंत्री अजय भट्ट ने दिल्ली से वर्चुअल रूप में सम्बोधित करते हुए कहा कि पिथौरागढ़ व चम्पावत के विकास के लिए केंद्र ने 140 करोड़ रूपए की स्वीकृति प्रदान की है। जो भी योजना भेजी जाएगी, उसे शत प्रतिशत स्वीकृति प्रदान की जाएगी।

इस अवसर पर  मोहन सिंह बिष्ट,  जोगिंदर सिंह रौतेला,  गिरीश जोशी,  गणेश भंडारी,  दीपिका बोरा,  धन सिंह,  प्रदीप रावत सहित सम्बंधित पदाधिकारी व अधिकारी उपस्थित थे।