रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी को रोकने को लेकर ड्रग्स विभाग ने ऋषिकेश में की छापेमारी


– सब कुछ ठीक पाए जाने पर दवा विक्रेता की छापामार दस्ते ने पीठ थपथपाई

ऋषिकेश,01 मई । तीर्थ नगरी ऋषिकेश में कोरोना वायरस के संक्रमण के खतरे को कम करने में मददगार साबित हो रहे, रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी को रोकने व नकली रेमडेसिविर की जांच को लेकर औषधि नियंत्रण विभाग ने अधिकृत दवा विक्रेता के यहां छापेमारी की जहां सब कुछ ठीक पाए जाने पर दवा विक्रेता की छापामार दस्ते ने पीठ थपथपाई । शनिवार को सहायक औषधि नियंत्रक गढ़वाल के साथ एफडीए की विजलेंस टीम ने ऋषिकेश में रेमडेसिविर इंजेक्शन की बिक्री के लिए अधिकृत एजेंसी का औचक निरीक्षण कर जांच की। निरीक्षण के दौरान सभी व्यवस्थाएं दुरुस्त पाई गई।
ऋषिकेश तथा आसपास क्षेत्र के चिकित्सालयों में उपचाररत कोविड मरीजों के लिए रेमडेसिविर इंजेक्शन उपलब्ध कराने के लिए ऋषिकेश में मल्होत्रा एजेंसी को अधिकृत किया गया है। एजेंसी को पहली खेफ में जयड्स कंपनी के 50 तथा डॉ. रेडी कंपनी के 80 इंजेक्शन प्रदान किए गए थे। शनिवार को सहायक औषधि नियंत्रक गढ़वाल सुरेंद्र सिंह भंडारी के नेतृत्व में फूड सेफ्टी एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) की विजिलेंस टीम ने एजेंसी का औचक निरीक्षण किया।

टीम ने अब तक मरीजों को उपलब्ध कराए गए इंजेक्शन के प्रपत्र जांचें। इसके साथ ही शेष स्टॉक का भी निरीक्षण किया। विजिलेंस टीम ने बेचे गए इंजेक्शन के मूल्य संबंधी प्रपत्र भी खंगाले। सहायक औषधि नियंत्रक गढ़वाल सुरेंद्र सिंह भंडारी ने बताया कि जांच में सभी प्रपत्र सही पाए गए हैं। अब तक जितने भी इंजेक्शन बेचे गए सभी पात्र तथा जरूरतमंद रोगियों को ही उपलब्ध कराए गए हैं। उन्होंने एजेंसी की वितरण व्यवस्था पर संतोष जताया।

सहायक औषधि नियंत्रक सुरेंद्र सिंह भंडारी ने बताया कि विगत दिनों रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी तथा नकली इंजेक्शन बिक्री होने की शिकायतें भी सामने आई थी। जिसके बाद पूरे प्रदेश में गहनता से इसकी जांच की जा रही है। उन्होंने बताया कि अभी तक नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन बेचे जाने का कोई मामला सामने नहीं आया है। नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन को लेकर वितरकों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए हैं। इसके लिए नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन की पहचान संबंधित प्रपत्र भी चस्पा किए जा रहे हैं। संयुक्त टीम ने ऋषिकेश क्षेत्र के अन्य मेडिकल स्टोर में भी कोविड-19 संबंधी दवाइयों की जांच की। इस दौरान टीम ने मेडिकल स्टोर पर कोविड-19 की गाइड लाइन के अनुसार वितरण व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। टीम में एफडीए की बैलेंस टीम के उप निरीक्षक जगदीश रातूड़ी, जोगिंदर नेगी, संजय नेगी आदि शामिल थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *