भारतीय राजनीति में रचा इतिहास, समान नागरिक संहिता (यूसीसी) विधेयक उत्तराखंड 2024 विधानसभा में हुआ पारित,



 देहरादून 7 फरवरी। समान नागरिक संहिता (यूसीसी) विधेयक उत्तराखंड 2024 आज विधानसभा में पारित कर दिया गया। विधेयक पर दो दिनों तक लंबी चर्चा हुई। सत्ता और विपक्ष के सदस्यों ने विधेयक के प्रावधानों को लेकर अपने-अपने सुझाव दिए।

उत्तराखंड विधानसभा आजाद भारत के इतिहास में समान नागरिक संहिता का विधेयक पारित करने वाली पहली विधानसभा बन गई है।

मुख्यमंत्री  पुष्कर सिंह धामी ने 6 फरवरी को समान नागरिक संहिता विधेयक उत्तराखंड 2024 विधानसभा में पेश किया था। सदन में विधेयक पर चर्चा के बाद सदन ने इसे पास कर दिया।

अब अन्य सभी विधिक प्रक्रिया और औपचारिकताएं पूरी करने के बाद यूसीसी लागू करने वाला उत्तराखंड देश का पहला राज्य बनेगा। इस विधेयक में सभी धर्म-समुदायों में विवाह, तलाक, गुजारा भत्ता और विरासत के लिए एक कानून का प्रावधान है। महिला-पुरुषों को समान अधिकारों की सिफारिश की गई है।अनुसूचित जनजातियों को इस कानून की परिधि से बाहर रखा गया है।

मुख्यमंत्री धामी ने जनता से किए गए वायदे के अनुसार पहली कैबिनेट बैठक में ही यूसीसी का ड्रॉफ्ट तैयार करने के लिए विशेषज्ञ समिति गठित करने का फैसला किया। सुप्रीम कोर्ट की सेवानिवृत्त न्यायाधीश जस्टिस रंजना प्रकाश देसाई की अध्यक्षता में पांच सदस्यीय कमेटी गठित कर दी गई।

समिति ने व्यापक जन संवाद और हर पहलू का गहन अध्ययन करने के बाद यूसीसी के ड्रॉफ्ट को अंतिम रूप दिया है। इसके लिए प्रदेश भर में 43 जनसंवाद कार्यक्रम और 72 बैठकों के साथ ही प्रवासी उत्तराखण्डियों से भी समिति ने संवाद किया।

समान नागरिक संहिता विधेयक के कानून बनने पर समाज में बाल विवाह, बहु विवाह, तलाक जैसी सामाजिक कुरीतियों और कुप्रथाओं पर रोक लगेगी, लेकिन किसी भी धर्म की संस्कृति, मान्यता और रीति-रिवाज इस कानून से प्रभावित नहीं होंगे। बाल और महिला अधिकारों की यह कानून सुरक्षा करेगा।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री  पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि समान नागरिक संहिता का विधेयक आदरणीय प्रधानमंत्री द्वारा देश को विकसित, संगठित, समरस और आत्मनिर्भर राष्ट्र बनाने के लिए किए जा रहे महान यज्ञ में हमारे प्रदेश द्वारा अर्पित की गई एक आहुति मात्र है।

उन्होंने कहा कि हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी  विकसित भारत का सपना देख रहे हैं। भारत दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने जा रही है। उनके नेतृत्व में यह देश तीन तलाक और धारा-370 जैसी ऐतिहासिक गलतियों को सुधारने के पथ पर है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि UCC के इस विधेयक में समान नागरिक संहिता के अंतर्गत जाति, धर्म, क्षेत्र व लिंग के आधार पर भेद करने वाले व्यक्तिगत नागरिक मामलों से संबंधित सभी कानूनों में एकरूपता लाने का प्रयास किया गया है।

उत्तराखंड में कांग्रेस के पुर्व कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत‌ के 10 करीबियों सहित 3 राज्यो मे 16 ठिकानों पर ईडी की छापेमारी,  -उत्तराखंड की राजनीति में आया भूचाल, पूर्व में फॉरेस्ट लैंडस्केप मामले में विजिलेंस ने मामला दर्ज कर एक अधिकारी को गिरफ्तार कर जेल भेजा



ऋषिकेश 7 फरवरी। कांग्रेस की सरकार के दौरान सरकार में वन विभाग के कैबिनेट मंत्री रहते हरक सिंह रावत‌ के फॉरेस्ट लैंडस्केम मामले में प्रवर्तन निदेशालय की टीम ने रावत के तीन राज्यों के 16 ठिकानों पर जबरदस्त छापेमारी कर उत्तराखंड की राजनीति में भूचाल ला दिया है।

यहां यह भी बताते चलें, कि हरक सिंह के कैबिनेट मंत्री रहते हुए फॉरेस्ट लैंडस्केप मामले में विजिलेंस ने मामला दर्ज कर एक अधिकारी को गिरफ्तार कर जेल भेजा था ।और मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचा था, जिसकी जांच अभी चली ही रही थी कि इस कार्रवाई को अंजाम दिया गया है।

कार्यवाही के दौरान ईडी द्वारा उत्तराखंड सहित दिल्ली चंडीगढ़ के 16 ठिकानों पर सर्च ऑपरेशन की कार्रवाई की जा रही है देहरादून में यह कार्रवाई हरक सिंह के निवास डिफेंस कॉलोनी स्थित उनके मकान पर की जा रही है। जिसमें उनकी तलाशी भी ली गई है ।

सूत्रों से मिले जानकारी के अनुसार हरक सिंह के 10 नजदीकी लोगों के यहां भी यह कार्रवाई हो रही है। फॉरेस्ट लैंडस्केप का यह मामला बिजिलेंस की नजर में पिछले वर्ष अगस्त में आया था और उसने कार्रवाई को अंजाम दिया था इसी के चलते ही छापेमारी की जा रही है। उत्तराखंड में प्रवर्तन निदेशालय द्वारा की गई इस प्रकार की कार्रवाई से उत्तराखंड की राजनीति में भूचाल आ गया है।

यहां ‌यह भी बताते चलें कि हरक सिंह रावत कांग्रेस के एक कद्दावर नेता होने के चलते हरिद्वार लोकसभा चुनाव के लिए दमखम ठोक रहे थे। लेकिन ईडी की यह कार्रवाई भविष्य में क्या प्रभाव डालेगी या देखने वाली बात है।

महानगर कांग्रेस कमेटी ऋषिकेश द्वारा नगर में “अंकिता भंडारी को न्याय दो पदयात्रा” का किया संचलन, न्याय यात्रा में हरिद्वार लोकसभा प्रभारी गणेश गोदियाल एवं जिला अध्यक्ष मोहित उनियाल ने किया प्रतिभाग 



ऋषिकेश 17 जनवरी।  महानगर कांग्रेस कमेटी ऋषिकेश द्वारा आज नगर क्षेत्र में उत्तराखंड का बहुचर्चित जघन्य अंकिता हत्याकांड को लेकर “अंकिता भंडारी को न्याय दो यात्रा” पदयात्रा का संचालन किया गया। 

आज कांग्रेस भवन रेलवे रोड ऋषिकेश कार्यालय में राहुल गांधी की न्याय यात्रा जो देश की पीड़ित एवं शोषित जनता के लिए न्याय की मांग को लेकर प्रारम्भ हुई “भारत जोडो न्याय यात्रा” उसके समर्थन में ऋषिकेश बजार में पूर्व प्रदेश अध्यक्ष व लोकसभा प्रभारी हरिद्वार  गणेश गोदियाल की अध्यक्षता में इस सोती हुई सरकार को जगाने के उद्देश्य से उत्तराखंड की बेटी “अंकिता भंडारी को न्याय दो यात्रा” अयोजित की गई, कांग्रेसजनो ने बढ़चढ़ कर यात्रा में भाग लिया यात्रा कांग्रेस कार्यालय से चलकर त्रिवेणी घाट स्थित गांधी स्तंभ पहुंच कर समाप्त हुई ।

इस न्याय यात्रा में हरिद्वार लोकसभा प्रभारी  गणेश गोदियाल  एवं जिला अध्यक्ष मोहित उनियाल ने कहा कि भाजपा सरकार की कथनी और करनी का फर्क जग जाहिर हो चुका है जिस जनता को ये लोग “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ” का नारा दे रहे थे आज उन भाजापाइयो से ही बहू बेटियों को बचाना मुश्किल हो रहा है।

इसी क्रम में पूर्व कबीना मंत्री  शूरवीर सिंह सजवाण एवं पूर्व विधायक प्रत्यशी जयेंद्र रमोला  ने कहा कि ना तो देश में और ना ही प्रदेश में रोजगार की कोई व्यवस्था हो रही है जिसके कारण हमारे युवाओं को अपने स्थान को छोड़कर अन्यत्र जाना पड़ता है और वह शोषण का शिकार होते है ऐसी ही कु-व्यवस्था की शिकार हमारे उत्तराखंड की बेटी जो पढ़ लिख कर अपने परिवार का हाथ बटाना चाहती थी वो भी इन भाजपाई नेता पुत्र व उसके मित्रो के शातिर इरादो की भेंट चढ़ गई।

ऋषिकेश महानगर कांग्रेस अध्यक्ष राकेश सिंह एवं प्रदेश उपाध्यक्ष राजपाल खरोला  ने कहा कि भाजपा सरकार अंकिता के हत्यारो को दंड देने की बजाये उनको बचाने का काम कर रही है अंकिता के जिस कमरे से सबूत मिल सकते थे उसको भी बुलडोजर की मदद से तेहस नेहस करवा दिया गया आज की इस न्याय पद यात्रा का मुख्य उद्देशय ही महिला विरोधी इस सोती हुई सरकार को उसकी कुम्भकर्णी नींद से जगाना है और जब तक ये सरकार इस मामले में कोई ठोस कार्रवाई नहीं करेगी कांग्रेस पार्टी इसी तरह से आंदोलन के माध्यम से सरकार को झकझोड़ने का अपना प्रयास करती रहेगी।
कांग्रेसियों द्वारा निकाली गई पदयात्रा में महानगर कांग्रेस अध्यक्ष राकेश सिंह, पीसीसी मेंबर जयेंद्र रमोला,प्रदेश उपाध्यक्ष राजपाल खरोला, संजय गुप्ता, विजयपाल रावत , मदन मोहन शर्मा, सुधीर राय, प्रदीप जैन, अरविंद जैन, मनीष शर्मा, ललित मोहन मिश्र, असवानी बहुगुणा, ऋषि सिंघल, भगवती प्रसाद सेमवाल, सोहन लाल रतूड़ी, पार्षद देवेंद्र प्रजापति, विजय लक्ष्मी शर्मा, राधा रमोला, भगवान सिंह पंवार, जगत नेगी, शकुंतला शर्मा, मालती, मधु मिश्रा, ब्लॉक अध्यक्ष रुकम पोखरियाल, राहुल रावत, बी.एस. पयाल, चंदन पंवार, विवेक तिवाड़ी, प्रदीप चंद्रा, सुभाष जखमोला, मंडलम अध्यक्ष राजेश शाह, मुकेश जाटव, कमल बनर्जी, प्रवीण गर्ग, रविन्द्र प्रकाश, श्रीमती रेनू बिष्ट, बी.एस., छात्रसंघ अध्यक्ष हिमांशु जाटव,छात्रसंघ कोषाध्यक्ष साक्षी रांगड़, विक्रम भंडारी, गजेंद्र विक्रम शाही, मधु जोशी, कमलेश शर्मा, सरोजनी थपलियाल, विजयपाल सिंह पंवार, धर्मेंद्र गुलियाल, सुरेश खरोला, अशोक शर्मा, परमेश्वर राजभर, मनीष जाटव, विनोद रतूड़ी, धर्मराज सिंह पुंडीर, राजेंद्र पंत, विश्वजीत अधिकारी, मिन्हाल हाशिम , जतिन जाटव, देवी प्रसाद, अभिषेक शर्मा ,कल्याणी, उषा भंडारी, योगराजदत्त नौटियाल , सावित्री देवी, प्रवीण जाटव, अजय राजभर, अभिनव सिंह मलिक, ऋषभ राणा, इमरान सैफी, सनी प्रजापति, ओम सिंह पवार, अजय दास, गौरव अग्रवाल, रमेश चौहान आदि भारी संख्या में कांग्रेसी मौजूद थे

कांग्रेस पार्टी के स्थापना दिवस के अवसर पर नगर वा ब्लॉक कांग्रेस कमेटी द्वारा सशक्त भू कानून कि मांग को लेकर एसडीएम के माध्यम से राज्यपाल को ज्ञापन प्रेषित किया



ऋषिकेश 28 दिसंबर। ऋषिकेश में स्थित कांग्रेस के नगर कार्यालय पर आज कांग्रेसियों द्वारा कांग्रेस पार्टी के स्थापना दिवस को मनाया गया। साथ ही कांग्रेस जनों ने सशक्त भू कानून एवं उद्योग धंधो में 70% स्थायी निवासियो की भागेदारी के संबंध में  उपजिलाधिकारी के माध्यम से राज्यपाल को ज्ञापन प्रेषित किया गया।

बृहस्पतिवार को रेलवे रोड स्थित कांग्रेस भवन में कांग्रेस पार्टी के स्थापना दिवस के अवसर पर महानगर कांग्रेस कमेटी ऋषिकेश के नगर अध्यक्ष राकेश सिंह  तथा संगठन महामन्त्री ऋषि सिंघल ने कांग्रेस के 138 साल के गौरवशाली इतिहास का वर्णन करते हुए कहा की महात्मा गांधी, मोतीलाल नेहरू, सुभाषचंद बोस, गोपाल कृष्ण गोखले, बालगंगाधर तिलक, सरदार बल्लभ भाई पटेल, लाला लाजपत राय, बुब्रमण्यम भारती, मौलाना अबुल कलाम आजाद, सीमांत गांधी, जवाहर लाल नेहरू जैसे नेताओ के संरक्षण में कांग्रेस ने आजादी की लड़ाई लड़ी।

कई नेताओं ने आजादी के लिये अपने प्राण न्यौछावर किये तो कांग्रेस के कई नेता स्वतंत्रता संग्राम में जेल में बंद रहे। इन्हीं नेताओं के त्याग और बलिदान ने देश को आजाद कराया। कांग्रेस की गौरवशाली परम्परा को लाल बहादुर शास्त्री, इंदिरा गांधी, राजीव गांधी, राहुल और सोनिया गांधी ने जीवित बनाये रखा और आगे भी इसके लिए निरंतर प्रयासरत हैं।

इसी क्रम में पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष दीप शर्मा एवं शैलेन्द्र बिष्ट ने कहा कि भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की स्थापना 1885 में की गई थी, शुरुआत में भारत में ब्रिटिश राज के तहत उदारवादी सुधार लाने के लक्ष्य को साथ लेकर शुरू की गई इसकी जड़ें प्रारंभिक भारतीय राष्ट्रवादी आंदोलन में हैं जो 1857 के भारतीय विद्रोह से उत्पन्न हुआ था, कई प्रान्तों में सामाजिक समस्याओं को हटाने के प्रयत्न किये जिनमें छुआछूत, पर्दाप्रथा एवं मद्यपान आदि शामिल थे। राष्ट्रव्यापी आंदोलन शुरू करने के लिए काँग्रेस को धन की कमी का सामना करना पड़ता था। गाँधीजी ने एक करोड़ रुपये से अधिक का धन जमा किया और इसे बाल गंगाधर तिलकके स्मरणार्थ तिलक स्वराज कोष का नाम दिया।

इसके साथ ही कांग्रेस जनों ने आज  सशक्त भू कानून एवं उद्योग धंधो में 70% स्थायी निवासियो की भागेदारी के संबंध में महामहिम राज्यपाल  देहरादून उत्तराखंड को उपजिलाधिकारी  ऋषिकेश द्वारा ज्ञापन दिया गया।

इस संबंध में महानगर कांग्रेस कमेटी ऋषिकेश के अध्यक्ष राकेश सिंह एडवोकेट एवं श्यामपुर ब्लॉक अध्यक्ष विजयपाल सिंह रावत ने कहा की पूर्व की त्रिवेंद्र रावत सरकार द्वारा जो जमीदारी विनाश एवं भूमि व्यवस्था अधिनियम कानून में संशोधन कर जो आत्मघाती निर्णय लिया जिसके तहत बाहरी लोगों को बिना किसी सीमा के खुली छूट के रास्ते खोले गए वह उत्तराखंड के लिए विनाश का रास्ता खुला है, उसी के तहत आज जो उत्तराखंड की जमीनों की खरीद फरोख्त की जा रही है वह बहुत ही चिंतनीय विषय है ।
इस अवसर पर महंत विनय सारस्वत  एवं वरिष्ठ कांग्रेसी मदन मोहन शर्मा  ने कहा की उत्तराखंड के उद्योगों धंधों में यहां के स्थानीय नौजवानों को 70% रोजगार दिया जाय, आज ऋषिकेश एम्स जैसे बड़े संस्थान में बाहरी लोगों की संख्या स्थानीय नौजवानो से कहीं अधिक है आज चाहे किसी भी संस्थान या उपक्रम में देखें तो बाहरी लोगों को स्थानीय से अधिक तरजीह दी जा रही है जो स्थानीय लोगो के साथ अन्याय के समान है जो व्यवस्था कांग्रेस की प्रथम निर्वाचित सरकार ने बनाई थी ।

उक्त दोनों मांगों के संबंध में समस्त कांग्रेसजन द्वारा दिए गए ज्ञापन में मांग की गई  कि उत्तराखंड में भूमि को बचाने के लिए एक सशक्त कानून बनाया जाए ताकि उत्तराखंड की भोली भाली जनता की जमीन बड़े बड़े धन्ना सेठों से बच सके।

इस मौके पर महंत विनय सारस्वत, मदन मोहन शर्मा, पूर्व पालिका अध्यक्ष दीप शर्मा, शैलेन्द्र बिष्ट, सतीश शर्मा, अरविंद जैन, नीलम तिवारी,चंदन सिंह पंवार, विमला रावत, नि. पार्षद भगवान सिंह पंवार, जगत नेगी, शकुंतला शर्मा, विजय लक्ष्मी शर्मा, संगठन महामन्त्री ऋषि सिंघल, ब्लॉक अध्यक्ष राहुल रावत, रुकम पोखरियाल, बी.एस. पयाल, मंडलम अध्यक्ष सचवीर भण्डारी, मुकेश जाटव, कमल बनर्जी, प्रवीण गर्ग, निर्मला कुमाई, प्रदेश सचिव आईटी बृज बहुगुणा , विक्रम भंडारी, मधु जोशी, कमलेश शर्मा, मधु मिश्रा, उमा ओबराय, सावित्री देवी, प्रवीण जाटव, परमेश्वर राजभर, किशोर गौड़, राजेंद्र कोठारी, हरि सिंह नेगी, विनोद रतूड़ी, राम कुमार बतालिया, जतिन जाटव, संजय भरद्वाज, कार्यालय प्रभारी अशोक शर्मा, नटवर श्याम, अशोक कुमार, ओम सिंह पवार,गब्बर केंतुरा, गौरव अग्रवाल, सूरज विश्नोई, आदि मौजूद थे।

एम्स ऋषिकेश में महिला चिकित्सक के तिलक लगाकर परीक्षा देने पर परीक्षक द्वारा महिला की भावनाओं को आहत पहुंचाने के मामले ने पकड़ा तूल, भाजपा युवा मोर्चा महामंत्री के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने एम्स प्रशासन के विरुद्ध एम्स गेट पर किया प्रदर्शन



ऋषिकेश 12 दिसंबर ।  अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ऋषिकेश में दिल्ली से डॉक्टरेट ऑफ़ मेडिसिन (डी एम) की परीक्षा देने आई महिला चिकित्सक के माथे पर तिलक लगाने पर परीक्षक द्वारा उनकी भावनाओं को आहत कर मनोबल तोड़ने के के मामले ने तूल पकड़ लिया है।जिसको अब राजनीतिक संगठनों अरे हाथों लेना शुरू कर दिया है।

जिसको लेकर भारतीय जनता पार्टी युवा मोर्चा के महामंत्री के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने एम्स प्रशासन के विरुद्ध एम्स गेट पर ‌नारे बाजी करते हुए जबरदस्त प्रदर्शन किया।

मंगलवार को भाजपा युवा मोर्चा के महामंत्री अभिनव पाल के नेतृत्व में किए गए प्रदर्शन के दौरान उन्होंने कहा कि पीड़ित चिकित्सक डॉक्टर शालिनी मिश्रा के अनुसार उन्होंने परीक्षक ‌पर आरोप लगाते हुए कहा था कि उन्होंने एम्स ऋषिकेश के डीएम सत्र के लिए जनवरी 2021 में प्रवेश लिया था, वह पेन मेडिसिन में डीएम कर रही है, कोरोना के चलते यह सत्र अप्रैल माह से शुरू हुआ था। जिसके कारण 4 दिसंबर को सत्र की अंतिम परीक्षा आयोजित की गई थी, जिसके तहत प्रयोगात्मक परीक्षा भी होनी थी।

डॉक्टर शालिनी ने बताया था की प्रयोगात्मक परीक्षा के लिए दो परीक्षक बाहर के केंद्र से आए थे, बताया कि वह रोज तिलक लगाती हैं। इसी के चलते वह परीक्षा देने के दिन भी वह तिलक लगाकर आई थी, जिस पर प्रयोगात्मक परीक्षा लेने दिल्ली एम्स से आए परीक्षक डॉक्टर शिवलाल यादव ने‌ उन पर टिप्पणी की और कहा कि क्या तुम तिलक लगाकर परीक्षा पास कर लोगी, यह तिलक तुम्हें फेल होने से नहीं बचा सकता। डॉक्टर शालिनी ने कहा था कि परीक्षा शुरू होने से पहले ही मेरा मनोबल तोड़कर मेरी भावनाओं को आहत किया गया है, उनका कहना था कि परीक्षा होने से पहले परीक्षक को यह कैसे पता है कि वह फेल हो जाएंगी, इस प्रकार के व्यंग्य से वह मानसिक रूप से काफी आहत हुई है। जो की सनातन धर्म को भी अपमानित करने वाला है। वह ब्राह्मण होने के नाम से प्रतिदिन अपने आराध्य देव को तिलक करने के उपरांत स्वयं भी तिलक करती हैं। लेकिन इस प्रकार का व्यंग्य परीक्षक की मानसिकता को भी प्रदर्शित कर रहा है।

इस मौके पर अभिनव पाल का कहना था कि इस प्रकार की घटना से‌ जहां ऋषिकेश एम्स‌ में कार्यरत चिकित्सकों कर्मचारी‌‌ की भावनाओं को ठेस पहुंची है वही तीर्थ नगरी के नागरिकों में भी एम्स प्रशासन के विरुद्ध भारी रोष व्याप्त है।

इस संबंध में एम्स प्रशासन के जन संपर्क अधिकारी संदीप नौटियाल ने कहा कि मामला प्रशासन के संज्ञान में आ गया है, उन्होंने कहा कि इस संबंध में एम्स प्रशासन को शिकायत मिली है। मामले की जांच की जा रही है ,नियमानुसार जो भी कार्रवाई उचित होगी वह की जाएगी।

प्रदर्शन करने वालों में महामंत्री अभिनव पाल, रविंद्र बिरला, अंकुश सिंह, समर्थ कुमार, आर्यन पाल, देवा जाटव, कृष्णा गोस्वामी, कृष्णा धीमान, आयुष सिंह, विवेक, अभिषेक सूद, अनुराग, सहित आर्यन, आकाश शर्मा सहित अन्य कार्यकर्ता भी मौजूद थे।

 

लाल पानी बीट में कूड़ा निस्तारण केंद्र को बनाने पर उत्पन्न होने वाली समस्याओ को लेकर स्थानीय लोगों ने की कैबिनेट मंत्री से मुलाकात, कूड़ा निस्तारण केंद्र को लेकर राजनीतिक रोटियां सेंकने वालो को नजदीकी चुनावो में जनता सीखाएगी सबक: प्रेम चंद अग्रवाल



ऋषिकेश 08 दिसंबर 2023 ।लाल पानी बीट में कूड़ा निस्तारण केंद्र को लेकर मंशादेवी, रूषा फार्म और अमित ग्राम के स्थानीय लोगों ने क्षेत्रीय विधायक व मंत्री डा. प्रेमचंद अग्रवाल से मुलाकात की।

इस दौरान मंत्री डा. अग्रवाल ने स्थानीयों की समस्या के निराकरण के लिए मौके से ही मुख्य सचिव डा. एसएस संधू को दूरभाष पर निर्देशित किया।डा. अग्रवाल ने मुख्य सचिव डा. एसएस संधू से कहा कि गोविंद नगर में वर्षों से पड़े कूड़े का निस्तारण किया जाना उचित है। मगर, अन्य जगह भी लोगों को परेशानी न हो, इसका ख्याल भी रखना आवश्यक है।

उन्होंने मुख्य सचिव को निर्देशित करते हुए कहा कि तत्काल लाल पानी बीट में कूड़ा निस्तारण केंद्र के लिए जाने का मार्ग ग्रामीण क्षेत्रों के मुख्य मार्ग की बजाए जंगल से होकर बनाया जाए। अग्रवाल ने मुख्य सचिव को निर्देशित कर यह भी कहा कि इस संबंध में जल्द बैठक कर समाधान निकाला जाए। जिससे स्थानीयों की समस्याओं का भी समाधान हो सके। कहा कि स्थानीयों की बातों को भी समझा जा सकें।

उन्होंनें कहा कि जनता के आशीर्वाद से ही वह चौथी बार विधायक बनकर मंत्री बने है, ऐसे में उनकी समस्याओं को समझना भी अत्यधिक जरूरी है।

वहीं, बैठक के दौरान डा. अग्रवाल ने कहा कि लाल पानी बीट में कूड़ा निस्तारण केंद्र को लेकर कुछ तथाकथित लोग अपनी राजनीतिक रोटियां सेंकने का काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि चुनाव नजदीक देख इस संबंध में अपनी राजनीति कर रहे है, जो सही नहीं है।

उन्होंने कहा कि जनता ऐसे मतलब की राजनीति करने वालों को चुनाव में सबक भी सिखाएगी।

बैठक में निवर्तमान पार्षद वीरेंद्र रमोला, विजेंद्र मोंगा, समाजसेवी मानवेंद्र कंडारी, पुरूषोत्तम बडोनी, राजमती देवी, सुनीता देवी, प्रसनी देवी, विजया देवी, रंजीत थापा, रमजान, धर्म सिंह क्षेत्री, विजय आदि उपस्थित रहे।

ऋषिकेश साहित प्रदेश के सभी छात्र संघ चुनाव में एन. एस. यू.आई‌. की हार का ठीकरा कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष करण महारा पर फूटा  -प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सचिव विवेक तिवाड़ी ने अपने पद से दिया इस्तीफा



ऋषिकेश, 13 नवम्बर । ऋषिकेश श्री देव सुमन विश्वविद्यालय में छात्र संघ चुनाव सहित पूरे प्रदेश में एनएसयूआई की करारी हार के लिए  ठीकरा कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष करण महारा साहित ऋषिकेश में विधानसभा प्रत्याशी रहे कांग्रेस के जयेंद्र रमोला सहित कहीं कांग्रेस पदाधिकारी पर फूट पड़ा है।

प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सचिव विवेक तिवारी ने उत्तराखंड कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष करण महारा पर आरोप लगाते हुए कहा कि ‌ऋषिकेश महाविद्यालय में हुए छात्र संघ चुनाव में एन एस यू आई‌ के प्रत्याशी रोहित नेगी की हार के लिए वह जिम्मेदार बताते हुए उन्होंने अपने पद से त्याग पत्र दे दिया है।

 एनएसयूआई के प्रदेश सचिव विवेक तिवारी ने सोमवार को ऋषिकेश प्रेस क्लब में आयोजित पत्रकार वार्ता में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष सहित कांग्रेस पदाधिकारी पर आरोप लगाते हुए कहा कि छात्र ‌संघ चुनाव से पहले करण महारा ऋषिकेश आए थे, जिनके द्वारा एक बैठक में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए अधिकृत प्रत्याशी रोहित नेगी को हराने की बात कही गई थी।उन्होंने कहा था, कि टिकट एक अलग चीज है हराना और जिताना हमारे हाथ में है। उनके द्वारा कार्यकर्ताओं को गलत दिशा निर्देश दिया गया था। जो कि‌‌ निंदनीय है, उनकी हार के पीछे कांग्रेस पार्टी के सर्वोच्च पद पर‌ आसीन पदाधिकारी भी है ।

विवेक तिवारी ने कहा कि छात्र संघ अध्यक्ष के प्रत्याशी रहे, रोहित नेगी ने भी आरोप लगाया कि अधिकतर कांग्रेस कमेटी में पदों पर बैठे कांग्रेस कमेटी के पदाधिकारी सहित जिला अध्यक्ष ने भी उनके विरुद्ध कार्य किया है, जबकि वह पिछले चार वर्षो से एन एस यू आई‌ कार्यकर्ता के रूप में महाविद्यालय में कार्य कर रहे थे। और वह संगठन में महानगर एसयूआई के उपाध्यक्ष भी रहे हैं।

इस दौरान युवा कांग्रेस के प्रदेश सचिव अभिनव सिंह मलिक ने कहा कि प्रदेश एवं जिले के कांग्रेस पदाधिकारी ने अधिकृत प्रत्याशी नेगी के विरुद्ध पहले से ही योजना वद्ध तरीके से कार्य कर रहे थे। उन्होंने कहा कि यह सारी जानकारी वह राष्ट्रीय अध्यक्ष के सामने भी रखेंगे ।जिससे इन पदाधिकारी के विरुद्ध राष्ट्रीय नेतृत्व कार्रवाई कर सके ।इस दौरान पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष साक्षी तिवारी ने कहा कि प्रदेश में एनएसआईयू की हार का कारण प्रदेश के मुखिया का होना निंदनीय है।

प्रेस वार्ता में पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष साक्षी तिवारी, पूर्व प्रदेश महा सचिव युवा कांग्रेस अजय धीमान, छात्र नेता आयुष चौहान, ऋषिकेश श्री देव सुमन विश्वविद्यालय से एनएसयूआई के छात्र संघ प्रत्याशी रहे  रोहित नेगी, प्रदेश महासचिव युवा कांग्रेस अभिनव मलिक पूर्व प्रदेश महासचिव युवा कांग्रेस अजय धीमान आदि भी मौजूद थे।

 

उत्तराखंड स्कूली शिक्षा में नई शिक्षा नीति लागू करने वाला पहला राज्य: पुष्कर सिंह धामी,मुख्यमंत्री ने प्रेमा जगाती सरस्वती विहार विद्यालय के वार्षिकोत्सव में किया प्रतिभाग



देहरादून नैनीताल 04 नवंबर। मुख्यमंत्री  पुष्कर सिंह धामी ने आज नैनीताल स्थित प्रेमा जगाती सरस्वती विहार विद्यालय के वार्षिकोत्सव में प्रतिभाग किया।

मुख्यमंत्री ने छात्रों को सम्बोधित करते हुए कहा कि एक व्यक्ति के रूप में हमारे सर्वांगीण विकास और श्रेष्ठ समाज के निर्माण में शिक्षा सबसे महत्वपूर्ण तत्व है। उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि किताबी ज्ञान तक सीमित ना रहें स्वयं के अस्तित्व की खोज कर आपने जीवन को सफल बनायें।उन्होंने विद्यार्थियों से जीवन का लक्ष्य तय करते हुए पूर्ण मनोयोग, ईमानदारी, कर्तव्य निष्ठा से कार्य करने को कहा। यही मूल मंत्र जीवन को सफल बनाएग।

उन्होंने बच्चों से कहा कि यह शिक्षा का कालखण्ड दोबारा आपके जीवन में कभी नहीं आयेगा, समय बहुमूल्य है इसकी महत्ता को सभी को समझना होगा, एक-एक पल जीवन के लिए उपयोगी है। अगर हम समय को समझ लेते हैं तो अपने जीवन के साथ ही देश व प्रदेश नाम रोशन कर सकते है।
उन्होंने कहा कि उत्तराखंड देवभूमि है, गुरुकुलों की भूमि है, यहां ऐसे ऋषि- मुनि हुए जिन्होंने सनातन ग्रंथो की रचना की। वीरभट्टी की इस महान धरती पर पढ़ने वाले आप सभी विद्यार्थी भी ऋषि संतानें हैं और अवश्य ही आप लोग अपना,अपने परिवार का और अपने प्रदेश का नाम रोशन करेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में आज नए भारत का निर्माण हो रहा है, जिसके अंतर्गत देश में अभूतपूर्व रूप से नित- नए कार्य किए जा रहे हैं। नई शिक्षा नीति से स्कूली शिक्षा और उच्च शिक्षा को नए आयाम प्राप्त होंगे, इससे सभी वर्ग के लोगों को समानता के आधार पर शिक्षा प्राप्त करने के अवसर भी मिलेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तराखंड स्कूली शिक्षा में नई शिक्षा नीति लागू करने वाला पहला राज्य है। हमारी सरकार उत्तराखण्ड को देश का सर्वश्रेष्ठ राज्य बनाने के अपने ’’विकल्प रहित संकल्प’’ को पूर्ण करने हेतु प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि विद्यालय परिवार द्वारा इस स्थान पर एक विश्वविद्यालय बनाए जाने का संकल्प लिया है। उनका संकल्प अवश्य पूर्ण होगा, इस संबंध में राज्य सरकार के स्तर पर जो भी सहयोग होगा वह किया जायेगा। भूमि चिन्हिकरण कार्य के लिए पूर्ण प्रयास कर परिकल्पना को साकार किया जाएगा।

कार्यक्रम में केंद्रीय रक्षा एवं पर्यटन राज्य मंत्री अजय भट्ट, पूर्व मुख्यमंत्री भगत सिंह कोश्यारी, विद्यालय के संरक्षक कामेश्वर प्रसाद काला, विद्यालय प्रबंधन समिति के अध्यक्ष प्रो. के पी सिंह सहित अन्य मौजूद रहे।

50 से अधिक उद्योग समूहों के साथ आयोजित बैठक के बाद अब तक लगभग 94 हजार करोड़ के निवेश प्रस्तावों पर हो चुके करार : पुष्कर सिंह धामी



देहरादून दिल्ली 2 नवंबर। मुख्यमंत्री  Pushkar Singh Dhami ने अहमदाबाद में आयोजित रोड शो में प्रतिभाग करने के पश्चात नई दिल्ली में मीडिया से वार्ता करते हुए कहा कि उत्तराखण्ड ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट के तहत विभिन्न निवेशक समूहों के साथ बैठकें हुई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इन बैठकों में पर्यटन, स्वास्थ्य, शिक्षा, फार्मा, कृषि, एग्री, ऊर्जा, लॉजिस्टिक, इन्फ्रास्ट्रक्चर एवं हॉस्पिटैलिटी आदि के क्षेत्र में निवेशकों से करार हुए हैं। निवेशक उत्तराखण्ड में निवेश के प्रति काफी आकर्षित है।

उन्होंने कहा कि अभी अहमदाबाद में 50 से अधिक उद्योग समूहों के साथ आयोजित बैठक के बाद लगभग 24 हजार करोड़ रुपए के निवेश पर करार के साथ अब तक लगभग 94 हजार करोड़ के निवेश प्रस्तावों पर करार हो चुके है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारा प्रयास 08-09 दिसम्बर 2023 को देहरादून में प्रस्तावित इन्वेस्टर्स समिट तक प्राप्त सभी करारों को धरातल पर उतारने का है। उन्होंने कहा कि इस संबंध में जो भी सुझाव प्राप्त हुये हैं उन पर अमल किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट की थीम को “पीस टू प्रोस्पेरिटी” रखा गया है। टूरिज्म, वेलनेस और हॉस्पिटैलिटी इंडस्ट्री के साथ-साथ उत्तराखण्ड में अनेक नए एवं गैर परंपरागत उद्योगों को विकसित किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि निवेशकों में उत्तराखण्ड में निवेश के प्रति काफी उत्साह देखा गया है। राज्य में निवेश के लिए अनुकूल वातावरण होने के कारण इसकी अपार संभावनाएं हैं। राज्य के पर्वतीय क्षेत्रों में निवेश करने वालों के लिए और प्रोत्साहन दिया जायेगा।

श्री देव सुमन विश्वविद्यालय ऋषिकेश के 7 नवंबर को होने वाले आगामी चुनाव के लिए एबीवीपी ने अध्यक्ष सहित पांच पदों पर अपने उम्मीदवारों के नामों की करी घोषणा



ऋषिकेश ,0 1 नवंबर । श्री देव सुमन विश्वविद्यालय ऋषिकेश के होने वाले आगामी 7 नवंबर को चुनाव वर्ष 2023-24 के लिए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद में सहसचिव को छोड़कर अध्यक्ष सहित सभी उम्मीदवारों के नाम की घोषणा कर दी। जिसमें अध्यक्ष पद पर अनिरुद्ध शर्मा को उतारा गया है।

यह घोषणा बुधवार को विद्यार्थी परिषद के नगर विस्तारक अक्षय राव ,जिला प्रमुख विवेक शर्मा, नगर अध्यक्ष रामगोपाल, नगर मंत्री आकाश उनियाल, पूर्व नगर अध्यक्ष प्रवीन रावत ,पूर्व छात्र संघ प्रत्याशी ऋतिक पाठक, उपाध्यक्ष केशव पोखरियाल ने ऋषिकेश प्रेस क्लब में आयोजित पत्रकार वार्ता के दौरान करते हुए कहा कि विद्यार्थी परिषद द्वारा सर्व सम्मति से निर्णय लिया है, कि वह फिलहाल सह सचिव के पद को छोड़कर अध्यक्ष पद पर अनिरुद्ध शर्मा उपाध्यक्ष पद पर निहारिका तिवारी, सचिव पद पर अनुज पाल, कोषाध्यक्ष पद पर आरती नेगी ,यू आर पद पर अंकित तोपवाल के नाम की घोषणा की है ।इसके अतिरिक्त ‌सचिव‌ पद पर दो नामों के आने के बाद आपसी सहमति के आधार पर उनके नाम की घोषणा बाद में की जाएगी। नगर विकास मंत्री आकाश ने उक्त नामों की घोषणा करते हुए कहां की विद्यार्थी परिषद महाविद्यालय में अपने कामों को लेकर चुनाव मैदान में उतरेगी ।

उन्होंने कहा कि परिषद के माध्यम से विद्यालय में छात्र ‌छात्राओं के लिए टैबलेट की व्यवस्था कराई गई है, तो वही विद्यालय के विकास के लिए 25 करोड रुपए की स्वीकृति करवाई गई है, तो वहीं अब महाविद्यालय में लाइब्रेरी का निर्माण ,मास्टर लाइब्रेरी के अतिरिक्त छात्र छात्राओं के आने जाने की सुविधा के लिए शहर में सिटी बस और छात्रों की सुरक्षा के लिए सुरक्षा कर्मियों की तैनाती के अतिरिक्त छात्रों की सुविधा के लिए महाविद्यालय में रजिस्टरार अधिकारी की नियुक्ति जैसे मुद्दों को लेकर चुनाव मैदान में उतरेगी।इसी के साथ उन्होंने एनएसयूआई संगठन पर महाविद्यालय छात्र संगठन पर‌छात्रों की समस्याओं की अनदेखी किए जाने का आरोप भी लगाया।