कोरोना की गाइडलाइन का पालन करते हुए श्री देव भूमि लोक संस्कृति विरासत समिति ने देव डोलियों के ऋषिकेश हरिद्वार में प्रतीकात्मक स्नान कराए जाने का लिया निर्णय


ऋषिकेश 21 अप्रैल ।श्री देव भूमि लोक संस्कृति विरासतिय शोभायात्रा समिति द्वारा 24 व 25 अप्रैल को उत्तराखंड से हरिद्वार कुंभ में प्रस्तावित स्नान करने के लिए आने वाली समस्त देव डोलियों को उत्तराखंड सरकार द्वारा कोविड-19 की गाइड लाइन के अनुसार मात्र 100 लोगों को अनुमति दिए जाने को लेकर एक बैठक कर गढ़वाल से आने वाली सभी देव डोलियों के कार्यक्रम को स्थगित करते हुए आचार्य देव डोलियों को ही प्रतीकात्मक रूप स स्नान कराये जाने का निर्णय लिया है ।

बुधवार को मुनी की रेती स्थित ढाल वाला में स्थित चंद्रा पैलेस में पूर्व कैबिनेट मंत्री मोहन सिंह गांव वासी की अध्यक्षता में आयोजित बैठक के दौरान समिति ने राज्य सरकार द्वारा कोरोना संक्रमण काल में देव डोलियों ,नेजा , निशान के स्नान को लेकर दी गई , मात्र 100 लोगों के साथ अनुमति पर कहा कि जहां सरकार द्वारा उन्हें पूरा सहयोग दिया जा रहा है ।वही हमें भी केंद्र व राज्य सरकार द्वारा निर्धारित की गई, कोविड-19 की गाइडलाइन का पालन करते हुए 2 गज की दूरी मास्क है ,जरूरी का अनुपालन करना होगा ।साथ ही उन्होंने बताया कि 24 अप्रैल को उत्तराखंड से देव डोलियां ऋषिकेश आ रही थी उन्हें फिलहाल स्थगित कर दिया गया है। अब स्थानीय देव डोलियों को ही त्रिवेणी घाट पर स्नान करने के उपरांत हरिद्वार स्थित प्रेम नगर आश्रम के लिए रवाना किया जाएगा। जिसके अंतर्गत भगवान बद्री विशाल का डोलियों के आगे चलेगा जो कि चौकी तिवारी घाट से प्रारंभ होकर सुभाष चौक होते भगवान भरत मंदिर की परिक्रमा करने के उपरांत पुराना लाजपतराय रोड क्षेत्र बाजार लक्ष्मण झूला रोड अंबेडकर चौक हीरालाल मार्ग होते हुए हरिद्वार मार्ग पर पहुंचेगा और वहां से ही 24 अप्रैल की शाम को हरिद्वार के लिए रवाना हो जाएंगी जोकि 25 अप्रैल की सुबह प्रेम नगर से हर की पैड़ी के लिए रवाना होने के पश्चात स्नान करेंगी। जिसका ऋषिकेश व हरिद्वार में स्थानीय नागरिकों द्वारा जगह-जगह पुष्प वर्षा के साथ भव्य स्वागत किया जाएगा ।जो की पूरी तरह मर्यादित तरीके से होगा। बैठक के दौरान डोली संयोजक संजय शास्त्री ,आशाराम व्यास ,वेद प्रकाश शर्मा ,गंभीर सिंह मेवाड़ ,रमा बल्लभ भट्ट, द्वारिका प्रसाद भट्ट, दौलतराम , राजेश गौतम ,मनीषा करण वाल, विशाल मणि पैन्यूली, शूरवीर सिंह कलुडा, भगवान सिंह रागढ़ ,सुरेंद्र सिंह कण्डारी भी उपस्थित थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *