पब्लिक स्कूल में स्कूली बच्चों के हाथों में बंधे (कलावा) रक्षा सूत्र को खुलवाने और माथे पर लगे तिलक को हटवाने के लगे आरोप, अभिभावको और हिंदू संगठनो ने स्कूल प्रबंधन के खिलाफ प्रदर्शन कर जताया कड़ा विरोध,



ऋषिकेश 27 फरवरी। पब्लिक स्कूल में स्कूल विद्यार्थियों के हाथ में बंधे कलावा को खुलवाने और स्कूली बच्चों के माथे पर लगे तिलक को मिटाने जाने के आरोप को लेकर स्कूल प्रबंधन के खिलाफ़ स्कूली बच्चों के अभिभावकों द्वारा नाराजगी जताते हुए  जमकर विरोध किया कर स्कूल प्रबंधन का पुतला फूंका गया। तो वहीं, भाजपा युवा मोर्चा व ग्राम प्रधान द्वारा स्कूल प्रशासन का पुतला भी दहन किया गया। 

मंगलवार को डोईवाला क्षेत्र में उसे वक्त हंगामा हो गया जब अभिभावकों को सूचना मिली कि एक पब्लिक स्कूल में उनके बच्चों के माथे पर लगा तिलक मिटा दिया और हाथ में बंधा रक्षा सूत्र (कलावा) जबरन खोल दिया है। बजरंग दल के विभाग संयोजक नरेश उनियाल ने बताया कि डोईवाला स्थित दि हॉरिजन स्कूल के टीचर द्वारा विधार्थियों के हाथ का कलावा और माथे का टीका मिटाया गया। यही नहीं जिन सिख बच्चों ने हाथ में कढ़ा पहना था उनसे कढ़ा उतरवा दिया गया, जिससे अभिभावकों का आक्रोश बढ़ गया।इसकी भनक लगने पर एकत्रित हुए अभिभावकों ने स्कूल प्रबंधन का जमकर विरोध किया। गुस्साए अभिभावकों ने स्कूल पहुंच कर स्कूल के बाहर प्रदर्शन किया। जब तक प्रबंधक माफी न मांगे तब तक सभी अपनी बात पर अडिग रहे। बताया जा रहा है कि काफी जद्दोजहद के बाद स्कूल प्रबंधन द्वारा माफी मांगे जाने पर गुस्साए अभिभावक शांत हुए। चेताया कि इस तरह की धर्म विरोधी घटना दोबारा हुई तो उग्र आंदोलन के लिए बाध्य होंगे।

बजरंग दल के विभाग संयोजक नरेश  उनियाल ने बताया कि स्कूल प्रबंधक द्वारा माफी मांगने जाने पर मामला शांत हुआ। स्कूल प्रबंधक से दो टूक कहा कि पुनः स्कूल में इस तरह से धर्म विरोधी घटना हुई तो संगठन उग्र आन्दोलन करेगा।

वहीं, भाजपा युवा मोर्चा जिला मंत्री आयुष रावत, ग्राम प्रधान छिद्दरवाला सोबन सिंह कैंतुरा ने स्कूल प्रशासन का पुतला दहन किया।

इस पूरे मामले को लेकर जब स्कूल प्रबंधक से उनका पक्ष जानने के लिए प्रयास किए गए, परंतु उनसे  कोई संपर्क नहीं हो पाया।

विरोध प्रदर्शन में संपूर्ण रावत, विक्रम चंद, दीपक कपुरवाण, मनीष सजवाण, विजय, रॉबिन, विकास, सचिन, गणेश, राकेश, गोपाल, सौम्या, त्रिलोक प्रसाद भट्ट, नीरज आदि शामिल रहे।

मंहत सीता रामदास हिमालय जूनियर हाई स्कूल में आयोजित हुए भाषा प्रतियोगिता एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम , बच्चों को उनकी रुचि के हिसाब से ढालकर ही उनको सफल बनाया जा सकता है : डॉ राजे सिंह नेगी



ऋषिकेश ,26 फरवरी‌। ऋषिकेश गंगानगर स्थित मंहत सीताराम दास हिमालय जूनियर हाई स्कूल‌‌ में आयोजित लैंग्वेज कंपटीशन एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम के उपरांत प्रतिभागी बच्चों को ‌पारितोषित भी वितरित किए गए।

सोमवार को विधालय के संस्थापक संचालक मंहत निर्मल दास की अध्यक्षता में आयोजित कार्यक्रम का शुभारंभ समाजसेवी ‌डा राजे नेगी, दिनेश सुंदरियाल राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिल भारतीय ट्रेड यूनियन कांग्रेस, एवं लाइफ कोच प्रशांत सिंह, राजीव थपलियाल,ने संयुक्त रूप से दीप‌‌ प्रज्वलित कर किया।

इस अवसर पर गढ़वाली, पंजाबी ,कुंमाऊनी सहित अन्य भाषाओं में नृत्य एवं गीतों की प्रस्तुति भी दी गई , जिसने उपस्थिति को मंत्र मुग्ध करते हुए तालियां बजाने के लिए मजबूर कर दिया।

इस दौरान कार्यक्रम में ‌प्रशांत सिंह ने ‌मुख्य‌ वक्ता के रूप में उपस्थित को‌ सम्बोधित करते हुए कहा कि किसी भी कार्य को करने के लिए ‌मन को स्थिर रखना होगा,तभी बच्चे जीवन में सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

इस अवसर पर समाजसेवी डॉक्टर राजे सिंह नेगी ने कहा कि बच्चे एक कुम्हार की मिटटी के‌ समान‌ होते है ,जिसे‌‌ उसकी‌ रुची‌ के‌ हिसाब से ढालना होता है‌ तभी‌‌ बच्चों को‌ सफलता तक पहुंचाया जा सकता है।

भाषा प्रतियोगिता में ऋषि, अश्विका , शुभांगम, दीप्ति, सालवी ,अवनी, कविश, परी, अनिरुद्ध  ने प्रतिभाग किया।

सांस्कृतिक कार्यक्रम में शगुन, सौम्या, शिवांश, दीप्ति आदि ने प्रतिभाग किया।
इस अवसर पर स्कूल की शिक्षाएं दीपिका कोठियाल, प्रियंका त्यागी ,शिवानी, रिंपी ,तुषारिका ,श्वेता ,अंशिका रंजना बिष्ट  भिस्तनीलम नेगी पूजा देवी सहित  विद्यालय की प्रधानाचार्य रश्मि काला उपस्थित रहीं ।

इस अवसर पर कांग्रेस के प्रदेश इंटक अध्यक्ष अभिषेक भट्ट, विनोद सकलानी पार्षद, आशीष रणकोटी जिला अध्यक्ष यूथ कांग्रेस, सहित काफी संख्या में अभिभावक और अतिथि मौजूद थे।

देश में पहली बार उत्त्तराखण्ड में UCC कानून लाने के लिए पूर्व महापौर ने मुख्यमंत्री का जताया आभार



ऋषिकेश 24 फरवरी ।  मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ऋषिकेश आगमन पर नि. वर्तमान महापौर अनिता ममगाईं ने UCC लाने के लिए जताया आभार और इस दौरान अनेक भाजपा कार्यकर्ताओं संग उन्हें एक धार्मिक पुस्तक भी भेंट की।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के ऋषिकेश आगमन पर नि.वर्तमान महापौर ने उनका स्वागत किया साथ ही भारतीय जनता पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ उन्हें धार्मिक पुस्तक स्वर्वेद भेंट की. एम्स में एक कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का नि. वर्तमान महापौर अनिता ममगाई ने भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं के साथ आभार भी जताया सबसे पहले देश में उत्त्तराखण्ड में UCC कानून लाने के लिए। इस दौरान मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने नि. महापौर को धन्यवाद कहा और वे सभी कार्यकर्ताओं से बड़े स्नेह से मिले एम्स हेलीपैड पर। मुलाकात के बाद अनिता ममगाईं ने कहा मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के नेतृत्व में राज्य विकास के नए मुकामों से जुड़ रहा है. हमें ख़ुशी है उत्तराखंड में देश में सबसे पहले UCC लागू किया है. इसका श्रेय  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में और मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के नेतृत्व को जाता है।उन्हीं की दृढ़ इच्छा से यह संभव हो पाया है. हमने उनका आज आभार व्यक्त किया।

उनको इस दौरान एक धार्मिक पुस्तक स्वर्वेद भी भेंट की. मुलाकात के दौरान पंकज शर्मा, नितिन सक्सेना, विवेक शर्मा, अमनदीप नेगी, विशाल शाही आदि कार्यकर्ता मौजूद रहे।

ऋषिकेश में चार धाम यात्रा 2024 की तैयारी को लेकर सभी विभाग के अधिकारियों के संग संपन्न हुई समीक्षा बैठक गढ़वाल आयुक्त ने 16 अप्रैल से पहले सभी तैयारीयो को पूर्ण करने के दिए निर्देश 



ऋषिकेश, 22 फरवरी । चार धाम यात्रा 2024 की तैयारी को लेकर गढ़वाल आयुक्त विनय शंकर पांडे ने सभी अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक करते हुए यात्रा से पूर्व सभी कार्यों को आगामी 16 अप्रैल तक संपादित किए जाने के निर्देश दिए।

गुरुवार को ऋषिकेश नगर निगम के स्वर्ण जयंती सभागार में आयोजित चार धाम यात्रा 2024 की तैयारी को लेकर सभी विभागों के साथ समीक्षा बैठक करते हुए गढ़वाल आयुक्त विनय शंकर पांडे ने विगत 2023 में संपन्न हुई चार धाम यात्रा से सबक लेते हुए सभी विभागों के साथ समीक्षा की, वर्ष 2024 की यात्रा को सकुशल संपन्न करवाए जाने के लिए निर्देशित किया।

उन्होंने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने इस वर्ष की यात्रा को एक चैलेंज के रूप में लिया है, जिसमें किसी प्रकार की चार धाम पर आने वाले यात्रियों को परेशानियों का सामना न करना पड़े, इसके लिए समय से पूर्व सभी कार्यों को पूर्ण कर लिया जाए ।

बैठक में बताया गया कि 2023 में 10 लाख से अधिक यात्रियों ने चार धाम की यात्रा की थी, उस दौरान देखने में आया था कि यात्रियों को पंजीकरण के दौरान काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा था, इस वर्ष सभी धामों में पंजीकरण की व्यवस्था की गई है, जिससे यात्रियों को किसी प्रकार की सुविधा का सामना न करना पड़े। इसी के साथ बद्रीनाथ और सीता पुल के निकट पार्किंग की व्यवस्था को सुनिश्चित किए जाने के लिए अतिरिक्त व्यवस्था की जाएगी, इसी के साथ बैठक में यात्रा मार्गो को गड्ढा मुक्त बनाए जाने के लिए अभी से तैयारी किए जाने के लिए निर्देशित भी किया गया।

बैठक में यात्रियों की सुविधा के लिए शुद्ध पेयजल के साथ गर्म पानी की व्यवस्था और केदारनाथ, यमुनोत्री में खच्चरों के समय से पूर्व पंजीकरण किए जाने और उनके लिए गर्म पानी की व्यवस्था सुनिश्चित किए जाने के के साथ उन खच्चरों को यात्रा में जाने दिया जाएगा, जिनका पंजीकरण होगा, अन्यथा सभी खच्चरों को रोक दिया जाएगा।

बैठक में यह भी कहा गया कि बीमार और चोटिल खच्चर नहीं भेजे जाने के लिए निर्देशित भी किया। बैठक में हाईटेक शौचालय की व्यवस्था किए जाने के लिए भी निर्देशित किया गया। सभी कार्यों को 16 अप्रैल तक संपूर्ण किए जाने के लिए निर्देशित किया। बैठक में आपदा संबंधी उपकरणों के पुराने होने के कारण नए उपकरण खरीदे जाने का प्रस्ताव भी रखा गया।

बैठक के दौरान यात्रियों की समस्याओं के निस्तारण के लिए कंट्रोल रूम पर आने वाली शिकायतों का तत्काल निराकरण किया जाने को कहा गया, बैठक में जनपद स्तर पर जिला अधिकारियों के नियंत्रण में यात्रियों की सहायता हेतु मार्ग बारिश होने पर संबंधित जिलों में आपदा प्रबंधन विभाग एवं पुलिस विभाग की सहायता से तत्काल निराकरण किए जाने को कहा गया, यात्रा के दौरान राष्ट्रीय राजमार्ग विभाग द्वारा मुख्य यात्रा मर्दों को गड्ढा मुक्त एवं डामरीकरण किए जाने के दौरान यात्रा प्रारंभ होने के दौरान ब्लास्टिंग और बड़े मरम्मत कार्यों को पूरी तरह से बंद किए जाने को कहा गया है। इसी के साथ यात्रा मार्ग पर डेंजर जोन पर सूचना पट लगाए जाने और बुलडोजर जेसीबी पोकलैंड मशीनों को सड़क किनारे उचित स्थान पर रखे जाने की व्यवस्था किए जाने के निर्देश भी दिये।

बैठक में यह भी कहा गया कि ‌यात्रा मार्ग पर जाम से बचने के लिए डंपिंग जोन का समतलीकरण कर उनका उपयोग दिन में भारी वाहन, लारिया, ट्रेलरो को पार्किंग किए जाने के लिए किया जाए, आरटीओ चेक पोस्ट पर यात्रियों की सुविधा के लिए मेडिकल कैंप भी लगाया जाएगा, इसी के साथ हरिद्वार और ऋषिकेश आरटीओ ऑफिस पर भी जो अपना पंजीकरण करवाने गाड़ियां आती है उनके लिए ग्रीन कार्ड ‌की व्यवस्था किए जाने की बात‌ भी कही गई।

बैठक में बताया गया कि ग्रीन कार्ड की व्यवस्था अब ऑनलाइन हो गई है, परंतु उसके बावजूद उन्हें चेक किए जाने की व्यवस्था भी है जिसमें मात्र 10 मिनट का समय लगता है। चार धाम यात्रा पर जाने वाले वाहनों के चालकों की सुविधा के लिए रुद्रप्रयाग और चमोली बद्रीनाथ में विश्राम गृह बनाए गए हैं। शराब पीकर वाहन चलाने वालों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी। शटल सेवा के को सूचित रूप से चला जाने के लिए और अधिक में पावर लगाई जाने की मांग भी रखी गई।

जिलाधिकारी पौड़ी आशीष कुमार, जिलाधिकारी रुद्रप्रयाग सौरभ गैहरवाल, देहरादून जिलाधिकारी सोनिका, जिला अधिकारी चमोली हिमांशु खुराना, कटक मुख्य कार्य अधिकारी योगेंद्र सिंह, सहायक आयुक्त नरेंद्र सिंह क्यूरियाल,‌ साहित्य सभी विभागों के अधिकारी मौजूद थे।

अल्टो कार अनियंत्रित होकर लगभग 500 मीटर नीचे गहरी खाई से होते हुए नदी में गिरी, कार में सवार सभी 6 व्यक्तियों की हुई मृत्यु 



ऋषिकेश 21 फरवरी।  अल्टो कार अनियंत्रित होकर लगभग 500 मीटर नीचे गहरी खाई से होते हुए यमुना नदी में दुर्घटनाग्रस्त होने से कार में सवार 6 व्यक्तियों की मृत्यु का समाचार प्राप्त हुआ है। 

एसडीआरएफ प्रभारी कविंदर सजवान ने बताया कि पुलिस थाना कैम्पटी द्वारा एसडीआरएफ टीम को सूचित किया गया कि यमुना पुल के पास एक आल्टो कार खाई में गिर गई है, जिसमे रेस्क्यू हेतु एसडीआरएफ टीम की आवश्यकता है।

उक्त सूचना पर एसडीआरएफ टीम मुख्य आरक्षी मनोज जोशी के संग टीम द्वारा आवश्यक रेस्क्यू उपकरणों के साथ तत्काल घटनास्थल के लिए रवाना हो गए।

एसडीआरएफ टीम को घटनास्थल पर पहुँचकर ज्ञात हुआ कि उक्त आल्टो वाहन (UK07 9607) जिसमे 06 लोग सवार थे, उत्तरकाशी से देहरादून की ओर आते समय अचानक अनियंत्रित होकर लगभग 500 मीटर नीचे गहरी खाई से होते हुए यमुना नदी में दुर्घटनाग्रस्त हो गया।

एसडीआरएफ टीम द्वारा त्वरित कार्यवाही करते हुए तत्काल खाई में रोप द्वारा उतरकर उक्त आल्टो वाहन तक पहुँचे । उक्त वाहन में सवार सभी 6 सवारियों 

1. प्रताप पुत्र श्यामसुख, उम्र 30 वर्ष, ग्राम मौताड़ मोरी,उत्तरकाशी
2. राजपाल पुत्र श्यामसुख, उम्र 28 वर्ष, ग्राम मौताड़ मोरी
3. जशीला पत्नी राजपाल, उम्र 25 वर्ष, ग्राम मौताड़ मोरी
4. वीरेंद्र पुत्र प्रेमलाल, 28 वर्ष, ग्राम मौताड़ मोरी
5. विनोद पुत्र शेरिया, उम्र 35 वर्ष, ग्राम मौताड़ मोरी
6. मुन्ना पुत्र रूपदास, 38 वर्ष, ग्राम देवती मोरी उत्तरकाशी

की मौके पर मृत्यु हो चुकी थी।

एसडीआरएफ टीम द्वारा स्थानीय पुलिस व राजस्व विभाग के साथ मिलकर सभी शवो को बॉडी बैग व स्ट्रेचर के माध्यम से वैकल्पिक मार्ग से होते हुऐ खाई से बाहर निकालकर मुख्य मार्ग तक पहुँचाया व अग्रिम कार्यवाही हेतु जिला पुलिस के सुपुर्द किया गया।

ऋषिकेश महाविद्यालय में चतुर्थ दीक्षांत समारोह में 19849 स्नातक स्नातकोत्तर छात्र-छात्राओं को डिग्री के साथ, 69 छात्र-छात्राओं को‌ दिए गए स्वर्ण पदक शिक्षा मंत्री ने महाविद्यालय परिसर के विकास हेतु 20 करोड़ रुपए दिए जाने की करी घोषणा नए ऑडिटोरियम स्वामी विवेकानंद प्रेक्षागृह का राज्यपाल और शिक्षा मंत्री ने किया उद्घाटन



ऋषिकेश,, 21 फरवरी‌।  ऋषिकेश स्थित पंडित ललित मोहन शर्मा महाविद्यालय में‌ आयोजित चतुर्थ दीक्षांत समारोह महाविधालय परिसर में बने नए ऑडिटोरियम स्वामी विवेकानंद प्रेक्षागृह का उद्घाटन राज्य के राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल एवं कुलाधिपति गुरमीत सिंह , एवं राज्य के उच्च शिक्षा मंत्री डा धन‌ सिंह रावत ने‌‌ दीप प्रज्वलित कर किया ।

इस दौरान चतुर्थ दीक्षांत समारोह में 19849 स्नातक स्नातकोत्तर छात्र-छात्राओं को डिग्री प्रदान की गई। 69 छात्र-छात्राओं को स्वर्ण पदक दिया गया, तीनो संकाय विज्ञान संकाय, कला संकाय, वाणिज्य संकाय में सर्वोच्य अंक प्राप्त करने वाले छात्र-छात्राओं को श्री देव सुमन गोल्ड मेडल वह सर्वाधिक अंक पाने वाले छात्रों को शूरवीर सिंह गोल्ड मेडल से भी सम्मानित किया गया। तो वहीं विद्यालय की स्मारिका पुस्तक का भी विमोचन भी किया गया।

बुधवार को ऋषिकेश पंडित ललित मोहन शर्मा महाविद्यालय में समारोह के मुख्य अतिथि राज्यपाल ले. जनरल गुरमीत सिंह ने उपस्थित को संबोधित करते हुए कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में आज हमारी बेटियां सबसे आगे निकल गई हैं, जिन्होंने हर क्षेत्र में अपना स्थान बनाया है, उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में आज क्रांति भी हमारी बेटियां ही लाएगीं, इनकी कामयाबी से आज काफी हर्ष हो रहा है। उनकी  इस डिग्री को प्राप्त करने के बाद माता-पिता के साथ गुरुजन, और दोस्त काफी खुश नजर आ रहे हैं। हमारी सभ्यता और संस्कृति आदिकाल से चली आ रही है, जिसे बनाए रखना प्रत्येक छात्र का कर्तव्य है।

उन्होंने कहा कि जो ज्ञान आज आपने प्राप्त किया है उसका लाभ हमारे अंतिम गांव तक रहने वाले व्यक्ति को मिलना चाहिए, जिसे देखते हुए अपने अंदर देश प्रेम की भावना को जागना होगा। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में नई शिक्षा नीति के अंतर्गत काफी बदलाव भी हुआ है मैं आपकी अंतर्गत नवाचार शिक्षा को भी ग्रहण करना अत्यंत आवश्यक है। जो की सर्वश्रेष्ठ राष्ट्र की ओर ले जाएगा तभी भारत विश्व गुरु का स्थान प्राप्त कर सकता है।

उन्होंने श्री देव सुमन को याद करते हुए उनके जीवन कथा को भी प्रणाम किया। उन्होंने कहा कि हमारी यूनिवर्सिटी सबसे बड़ी यूनिवर्सिटी है। जो की ज्ञान की सफलता के साथ राष्ट्र निर्माण भी कर रही है। उनका कहना था कि इस यूनिवर्सिटी ने हर क्षेत्र में कामयाबी हासिल की है। यह ऋषि मुनियों की भूमि है, जोकि आध्यात्मिकता के साथ योग और शिक्षा के क्षेत्र में भी आगे बढ़ रही है। इसलिए इसे देवभूमि कहते हैं।

इस दौरान उच्च शिक्षा मंत्री डॉ धन सिंह रावत ने कहा कि हम विश्वविद्यालय के सभी कैंपस के लिए पहली बार भारत सरकार ने दिल खोलकर शिक्षा के लिए बजट दिया है, माध्यमिक शिक्षा के लिए 100 करोड़ रुपये जबकि उच्च शिक्षा के लिए अब तक 120 करोड रुपए जारी किए गए हैं ।उच्च शिक्षा के लिए अभी 200 से 300 करोड रुपए और मिलने की उम्मीद है ।उन्होंने कहा कि सरकार ने छात्रों के प्रोत्साहन तथा शोध कार्यों को प्रोत्साहित करने के लिए भी योजनाएं शुरू की है । उन्होंने पण्डित ललित मोहन शर्मा राजकीय महाविद्यालय ऋषिकेश परिसर के  विकास कार्य के लिए 20 करोड़ रूपए की धनराशि की भी घोषणा करी। 

उन्होंने कहा कि सरकार पीसीएस परीक्षा में प्री एग्जाम को पास करने पर 50000 से बढ़कर ₹100000 की धनराशि दी जा रही है । रिसर्च के लिए प्रत्येक छात्र को₹5000 मासिक दिया जाएगा 70% से अधिक अंक पाने वाले छात्रों को तीन से ₹5000 तक मासिक भत्ता दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार शिक्षा के स्तर को गुणवत्ता प्रदान करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रही है उन्होंने कहा कि इस सत्र में छात्रों को सत प्रतिशत पुस्तक उपलब्ध कराई जाएगी महाविद्यालय में फर्नीचर बिल्डिंग की लर्निंग कंप्यूटर आदि की पर्याप्त व्यवस्थाएं प्रदान की जाएंगी।

श्री देव सुमन विश्वविद्यालय के कुलपति एन के जोशी ने बताया कि ऋषिकेश पंडित ललित मोहन शर्मा श्री देव सुमन स्नातकोत्तर के तीन विषय इतिहास, मानव विज्ञान, चित्रकला में सर्वोच्च अंक प्राप्त करने वाले छात्र-छात्राओं को कैप्टन शूरवीर सिंह पंवार गोल्ड मेडल से सम्मानित किया गया। पंडित ललित मोहन शर्मा परिसर ऋषिकेश में नव-निर्मित विवेकानंद हॉल का उद्घाटन कुलाधिपति एवं अतिथियों के द्वारा किया गया, जिसका निर्माण कार्य 6 माह में पूर्ण किया गया इसी हॉल में दीक्षांत समारोह का आयोजन किया गया। विश्वविद्यालय परिसर ऋषिकेश एवं विश्वविद्यालय मुख्यालय में ढांचागत सुविधाओं का विकास किया जा रहा है जिसके अंतर्गत ऋषिकेश परिसर में एकेडमिक ब्लॉक, परीक्षा हॉल, टाइप 5 की बिल्डिंग, गेस्ट हाउस का निर्माण कार्य प्रगति पर है। साइंस ब्लॉक एवं आर्ट ब्लॉक के रिनोवेशन का कार्य शुरू हो गया है जो विगत 20 वर्षों से नहीं हुआ था। ऑडिटोरियम एवं वाणिज्य में फर्स्ट फ्लोर का कार्य भी शुरू होने वाला है विश्वविद्यालय में रोजगारपरक व्यावसायिक पाठ्यक्रम बी०बी०ए०, बी०सी०ए०, बी०एस०सी० (कम्प्यूटर साईस) तथा एन०एस०सी० माइक्रोबॉयालोजी इत्यादि को विधिवत् आरम्भ किया गया, जो कि सफलतापूर्वक संचालित किया जा रहा है, साथ ही विश्वविद्यालय मुख्यालय में भी एक दशक बाद बी०सी०ए० पाठ्यक्रम प्रारम्भ कर दिया गया है। विश्वविद्यालय के अकादमिक व प्रशासनिक कार्यों में पारदर्शिता लाने एवं जवाबदेही तय करने के लिए श्री देव सुमन उत्तराखण्ड विश्वविद्यालय द्वारा ई०आर०पी० पोर्टल तैयार कर समस्त कार्यों को डिजिटाइज किया गया।

श्री देव सुमन उत्तराखण्ड विश्वविद्यालय के सत्र को नियमित कर दिया गया है एवं सभी बैकलॉग परीक्षा परिणामों को घोषित कर दिया गया है। भारतीय ज्ञान परम्परा उत्कृष्टता केन्द्र की स्थापना भी विश्वविद्यालय द्वारा ऋषिकेश परिसर में की गयी है। जिसमें विभिन्न शोध परियोजनाओं, सम्मेलनों, फैकल्टी डेवल्पमेंट प्रोग्राम, विशिष्ट लेक्चर्स के माध्यम से भारतीय ज्ञान परम्परा से सम्बन्धित विषयों का गहन विमर्श तथा परम्परागत ज्ञान व आदर्शों को समाज को पुर्नस्थापित करने का प्रयास किया जा रहा है, जो कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 का यह एक महत्वपूर्ण घटक है। विश्वविद्यालय ने नवाचार की दशा में एक और पहल करते हुए पेटेंट सेल स्थापित किया है, जिसके तहत यूकास्ट उत्तराखण्ड से एमओयू भी किया गया है। विश्वविद्यालय द्वारा प्रत्येक पेटेंट के लिए विद्यार्थियों को खर्च भी पूर्ण धनराशि तथा

संकाय सदस्यों को 50 प्रतिशत राशि का अनुदान दिया जायेगा। विश्वविद्यालय को अनुसंधान, परामर्श और सामुदायिक सेवाओं में उत्कृष्टता प्रदान कर राष्ट्रीय एवं अर्न्तराष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने हेतु विश्वविद्यालय परिसर, ऋषिकेश में विभिन्न सेल एवं सेन्टर ऑफ एक्सीलेंस स्थापित किये गये हैं, जिसमें भारतीय ज्ञान परम्परा, आपदा प्रबन्धन, संकाय विकास केन्द्र, अनुसंधान एवं विकास केन्द्र, छात्र/विश्वविद्यालय हित में प्रमुखता से कार्य कर रहे हैं, साथ ही इनोवेशन, इनक्यूबेशन, स्टार्टअप एंटरप्रेन्योर प्रमोशन, कौशल विकास में उत्कृष्टता केन्द्र भी स्थापित किये गये हैं।

विश्वविद्यालय के विकास तथा प्रतिष्ठा में एलुमिनाई की भूमिका को दृष्टिगत रखते हुए विश्वविद्यालय ने हाल ही में एलुमिनाई सेल की स्थापना की है। विश्वविद्यालय परिसर ऋषिकेश में फैकल्टी डेवल्पमेंट प्रोग्राम, राष्ट्रीय एवं अर्न्तराष्ट्रीय सेमिनार, कार्यशालाएं, व्याख्यान एवं उद्यमिता विकास कार्यक्रमों का आयोजन किया गया है।

विश्वविद्यालय ने बहुत से विशिष्ट एवं ख्याति प्राप्त संस्थानों के साथ एमओयू करके अनुसंधान और विनिमय कार्यक्रमों के लिए सहयोग की दिशा में पहल की है। विश्वविद्यालय ने यूकास्ट, यूसर्क, एम्स ऋषिकेश, डीएनए लैब्स देहरादून, सोसाइटी ऑफ पोल्यूशन एडं इन्वायरमेन्टल कर्जवेन्शन साइंटिस्ट (स्पैक्स) के साथ विभिन्न एमओयू पर हस्ताक्षर किये हैं व कई एमओयू गतिमान हैं।

उन्होंने यह भी कहा कि हमारा प्रयास होगा कि श्री देव सुमन उत्तराखण्ड विश्वविद्यालय प्रदेश के शिक्षा का अग्रणी केंद्र बने इसके लिए अन्य विश्वविद्यालयों, उद्योगो, शोध संस्थान से एमओयू किये जाएंगे शोध कार्यों को प्रोत्साहित किया जायेगा। रोजगार के अनुकूल पाठ्यक्रम चलाये जाएंगे।

इस अवसर पर पूर्व मंत्री किशोर उपाध्याय, ऋषिकेश की पूर्व  महापौर अनीता ममगाई,कुलपति प्रोफेसर एन के जोशी, निदेशक प्रोफेसर महावीर सिंह रावत, खेमराज भट्ट , परीक्षा नियोजन विजय प्रकाश श्रीवास्तव, मीडिया प्रभारी डॉक्टर अशोक कुमार मंदोला,  सहित सभी अधिकारी को कर्मचारी भी उपस्थित थे।

ब्रह्मलीन भगवान गिरी आश्रम में आयोजित किया गया स्वर्गीय किशोरी लाल की स्मृति में भगवत गीता, विष्णु सहस्त्रनाम पाठ षोढसी भंडारा -गुरु और शिष्य के बीच का संबंध अटूट होता है- बाबा भूपेंद्र गिरी



ऋषिकेश, 20 फरवरी । ब्रह्मलीन भगवान गिरी के परम भक्त स्वर्गीय किशोरी लाल की स्मृति में आयोजित भगवत गीता , विष्णु सहस्त्रनाम पाठ हवन इत्यादि के पश्चात षोढसी ‌भंडारे का आयोजन किया गया।

मंगलवार को मायाकुंड आश्रम में स्थित भगवान गिरी आश्रम में भगवान गिरी आश्रम के पीठाधीश्वर बाबा भूपेंद्र गिरी के संचालन में परम भक्त स्वर्गीय किशोरी लाल की स्मृति में षोढसी भंडारा एवं भगवत गीता पाठ, विष्णु सहस्त्रनाम पाठ, हवन आदि का आयोजन किया गया जिसमें सभी उपस्थित संतों ने पूर्ण आहुति दी। इस अवसर पर बाबा भूपेंद्र गिरी ने उपस्थिति को संबोधित करते हुए कहा कि गुरु और शिष्य के बीच का संबंध अटूट होता है दोनों एक दूसरे के पूरक है क्योंकि गुरु ही शिष्य को सद्मार्ग पर चलने का मार्ग प्रशस्त करता है, गुरु के बिना शिष्य अधूरा रहता है इसलिए कहा है गुरु के बिना ज्ञान नहीं मिल पाता गुरु शिष्य को अंधकार से प्रकाश की ओर ले जाता है।

बताते चले पंजाब के किशोरी लाल भक्त ने ब्रह्मलीन भगवान गिरी महाराज जी की 22 वर्ष तक सेवा करते हुए उनके ब्रह्मलीन होने के पश्चात उनकी समाधि की भी 22 वर्ष तक लगातार सेवा की थी।

भागवत गीता पाठ, विष्णु सहस्त्रनाम पाठ, हवन में प्रमुख रूप से भगवान गिरी आश्रम के महंत भूपेंद्र गिरी महाराज,गुजराती आश्रम के राघवेंद्रनंद महाराज के साथ आए सभी संतगण, गोपाल गिरि महाराज, परीक्षित गिरि , कबीर चौरा आश्रम के मंहत कपिल मुनि, एवम भक्त गणों में मनोहर लाल, विक्रम सिंह, जगमोहन, गोवर्धन लाल, समेत पंजाब, बरेली से आए हुए काफ़ी संख्या में भक्त गण मौजूद थे।

युवक ने संदिग्ध परिस्थितयों में लगाई फांसी , चिकित्सकों ने किया मृत घोषित , पुलिस ने कि जांच शुरू



ऋषिकेश 18 फरवरी। कोतवाली ऋषिकेश स्थित जाटव बस्ती मेंएक युवक ने संदिग्ध परिस्थितयों में फांसी लगा दी। परिजनो ने उसे पंखे की फंदे से नीचे उतरा। बेहोशी की हालत में उसे चिकित्सालय पहुंचाया, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

कोतवाली पुलिस के मुताबिक जाटव बस्ती निवासी संदीप (38 वर्ष) शुक्रवार रात कमरे में सोया था। शनिवार जब परिजनो ने उसे उठाने की कोशिश की तो संदीप के कमरे का दरवाजा नहीं खुला। जिस पर स्वजन ने आसपास के लोग की मदद दरवाजा खोला। कमरे के भीतर संदीप पंखे से फंदे पर लटका हुआ । परिजनो ने उसे नीचे उतारकर बेहोशी की हालत में राजकीय चिकित्सालय पहुंचाया जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

वरिष्ठ उप निरीक्षक उत्तम सिंह रमोला ने बताया कि हर पहलु से मामले की जांच की जा रही है। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

गुरुद्वारा गुरु सिंह सभा ऋषिकेश प्रबंधक कमेटी के प्रधान चुनने को लेकर हुई मारा पीटी, पुलिस को करना पड़ा हस्तक्षेप,  संस्था के द्वारा आखिरकार चुना गया सरदार गोविंद सिंह को प्रबंधक कमेटी के प्रधान,  



ऋषिकेश 17 फरवरी। ऋषिकेश में रेलवे रोड स्थित गुरुद्वारा गुरु सिंह सभा मे कमेटी के प्रधान को लेकर हुऐ विवाद के बावजूद आखिरकार सरदार गोविंद सिंह को गुरुद्वारा सिंह सभा के प्रबंधक कमेटी के प्रधान के तौर पर चुन लिया गया है।

बताते चलें की सन 2020-21 से लगातार गोविंद सिंह जी गुरुद्वारा सिंह सभा के प्रबंधक कमेटी के प्रधान के रूप में रहते आए हैं।

जबकी संस्था के कुछ सदस्यों सरदार गुरमेल सिंह के पक्ष में  बलवंत सिंह, सरदार बूटा सिंह, जग्गा सिंह, भानु प्रताप सिंह,गुरमेद सिंह जस्सल का यह भी कहना है कि हर 3 साल में चुनाव की प्रक्रिया होती है । जिसके तहत सभी सार संगत द्वारा सरदार गुरमेल सिंह को चुना गया है।  उनका यह आरोप था कि पूर्व से प्रधान पति के रूप में सरदार गोविंद सिंह के द्वारा गुरुद्वारा का कोई भी हिसाब किताब नहीं दिया जाता है और उनके द्वारा पक्षपात व्यवहार भी किया जाता है ।   

तथा उनके द्वारा यह भी आरोप लगाया गया है कि गुरुद्वारे की आय  व्यय के खर्चे को लेकर गुरूद्वारा सिंह सभा पर 25 से 30 लाख रुपए के हानि भी दिखाई गई है।

अतः सरदार गुरमेल सिंह को 14 दिसंबर  2023 को सभी  सार संगत द्वारा गुरुद्वारा सिंह सभा का प्रबंधक कमेटी के प्रधान  के रूप में चुन लिया जाता है जिनका कार्यकाल 1 जनवरी 2024 से शुरू किया जाता है। जिसमे सरदार गुरमेल सिंह के पक्ष में  बलवंत सिंह, सरदार बूटा सिंह, जग्गा सिंह, भानु प्रताप सिंह,गुरमेद सिंह जस्सल, अमरजीत सिंह काफी संख्या में लोगों ने रजिस्टर में हस्ताक्षर की सहमति से चुना गया था।

परंतु सरदार गोविंद सिंह के पक्ष में हुई सार संगत द्वारा 4 जनवरी 2024 को सरदार गोविंद सिंह को पुनः नया प्रबंधक कमेटी के प्रधान के रूप में चुन लिया जाता है जिसके अंतर्गत गुरुद्वारा सिंह सभा के लॉकर को हैंड  ओवर करने पर 15 फरवरी 2024 को नगर के गणमान्य लोगों के द्वारा बैठक रखी गई, जिस पर लॉकर के ताले को खुलवाने को लेकर सहमति बनाने की कोशिश की गई परंतु उसको लेकर विवाद उत्पन्न हो गया जिस पर पुलिस को भी बुलाना पड़ा ।

 इसके उपरांत 17 फरवरी 2024 को गुरुद्वारा गुरु सिंह सभा ऋषिकेश में आम पब्लिक व सार संगत की बैठक हुई जिस बैठक में शहर के प्रतिष्ठित और गण मान्य नागरिक सम्मिलित हुए।

परंतु बैठक के दौरान दोनों पक्ष में प्रधान  को चुनने के लिए विवाद उत्पन्न हो गया जिसमें दोनों पक्ष की ओर से महिलाएं द्वारा हाथापाई भी हो गई जिसको लेकर गुरुद्वारा कमेटी के सदस्य सरदार परमजीत सिंह की पत्नि राजेंद्र कोर ढंग और मोनिका ने आरोप लगाया कि सरदार बूटा सिंह की पत्नी परमजीत कौर ने उनके ऊपर हाथ उठाया। जिसको लेकर पुलिस द्वारा दो लोगों के खिलाफ नाम जब रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है।  पूरे घटनाक्रम को लेकर पुलिस को बुलाना पड़ा तथा पुलिस की हस्तक्षेप से माहौल को शांत किया गया।

 पूरे घटनाक्रम के बावजूद सभी संगत ने सर्व समिति से सरदार गोविंद सिंह को गुरुद्वारा गुरु सिंह सभा ऋषिकेश का प्रधान चुना गया और उससे पहले की किसी भी प्रबंधक कमेटी को सर्वसम्मति से निरस्त व खारिज कर दिया गया ।

 उक्त आमसभा में  गोविंद सिंह के पक्ष में बिशन खन्ना , भगतराम कोठरी, सूरज गुलाटी, सतबीर तोमर, हरीश अरोड़ा, अशोक अग्रवाल ,दिनेश कोठारी, संदीप मल्होत्रा, गोपाल नारंग, सरदार मंगा सिंह, सरदार निर्मल सिंह, सरदार परमजीत सिंह, हरदेव पनेसर, अमरजीत सिंह नीलम खुराना, के के लांबा , योगेश कालरा,भारत भूषण, अशोक अग्रवाल  एवं सुभाष कोहली,  नीलम खुराना इत्यादि मौजूद थे।

स्विफ्ट कार का स्टेरिंग फेल होने से गिरी गहरी खाई में, चार लोग हुए गंभीर रूप से घायल



ऋषिकेश ,16 फरवरी । जनपद पौड़ी गढ़वाल के ‌लक्ष्मण झूला थाना अंतर्गत एक स्विफ्ट वाहन के गट्टू घाट के पास स्टेरिंग फेल हो जाने के कारण गहरी खाई में गिर जाने के परिणाम स्वरूप चार लोग गंभीर रूप से घायल हो गए जिसकी सूचना पर पहुंची, पुलिस ने रेस्क्यू कर सभी घायलों को उपचार हेतु एम्स भेजा है।

लक्ष्मण झूला थाना प्रभारी रवि सैनी ने बताया कि शुक्रवार की दोपहर 11.51 बजे पुलिस कंट्रोल रूम पौड़ी द्वारा बताया गया कि गट्टू घाट के पास एक चार पहिया गाड़ी नीचे गिर गई है। जिसमें तीन-चार लोग सवार हैं तथा गंभीर रूप से घायल है।

सूचना पर थाना लक्ष्मण झूला से वरिष्ठ वरिष्ठ उपरीक्षक अनिल चौहान के नेतृत्व में पुलिस की आपदा टीम को रवाना किया गया मौके पर पहुंचने पर गट्टू घाट से 10 मीटर पहले नीलकंड रोड पर सड़क से करीब 30 मीटर नीचे स्विफ्ट कार जिसका नंबर RJ14CZ 5507 गिरी थी, जिसमें सवार चार लोगों मोहित पुत्र महेंद्र सिंह निवासA-49 राज बाग कॉलोनी दिल्ली उम्र 25 वर्ष जो गाड़ी चला रहा था। जिसको हल्की-फुल्की चोटे हैं।

प्रशांत पांडे पुत्र गोपाल पांडे निवास C12A महेश नगर जयपुर उम्र 34 वर्ष जिसकी चेस्ट तथा कमर में गुम चोट है, अंजली पांडे पुत्री गोपाल पांडे निवासी C 12 A महेश नगर जयपुर उम्र 25 वर्ष चेस्ट मे गुम चोट है। श्रीमती उर्मिला पांडे पत्नी गोपाल पांडे C12 A महेश नगर जयपुर उम्र करीब 55 वर्ष हल्की-फुल्की चोटे हैं, को गाड़ी से बाहर निकाल कर घायलों को 108 एंबुलेंस से उपचार हेतु एम्स अस्पताल भिजवाया गया है ।

सभी का एम्स अस्पताल ऋषिकेश में उपचार करवाया जा रहा है, परिजनों को सूचना दी जा चुकी है जानकारी करने पर चालक मोहित ने बताया कि अचानक मोड पर गाड़ी का स्टेरिंग न कटने के कारण सड़क से नीचे गिर गई थी ।